अदिति सिंह ने एक छोटे बच्चे के कहने पर रखा राजनीति में कदम, ढहा दिया कांग्रेस का किला

0
64
aditi singh raebareli

रायबरेली से भारतीय जनता पार्टी के विधायक अदिति सिंह अक्सर मीडिया की सुर्खियों में बनी रहती हैं। अदिति सिंह 17वीं विधानसभा में पहली बार विधायक चुनी गई। अदिति सिंह के पिता अखिलेश सिंह उत्तर प्रदेश की राजनीति के जाने-माने चेहरे थे। वह खुद 5 बार कांग्रेस पार्टी से विधायक रह चुके थे। इस लेख में हम अदिति सिंह के राजनीतिक सफर के बारे में जानेंगे.

कौन है अदिति सिंह

अदिति सिंह का जन्म 15 नवंबर 1987 को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुआ था। अदिति सिंह सिंह के पिता का नाम अखिलेश सिंह था जो कि कांग्रेस पार्टी के उत्तर प्रदेश में जाने-माने बड़े नेता थे। अदिति सिंह ने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली एवं मसूरी के स्कूलों से प्राप्त की  आगे की पढ़ाई करने के लिए वह संयुक्त राज्य अमेरिका चली गईं। अदिति सिंह ने अमेरिका के ड्यूक यूनिवर्सिटी से मैनेजमेंट की डिग्री हासिल की। पढ़ाई पूरी करने के बाद अदिति वापस रायबरेली लौटीं और राजनीति में कदम रखा। अदिति सिंह के पिता 2017 से ही बीमार चल रहे थे उन्हें कैंसर हो गया था और वह 2019 में कैंसर की जंग हार गए और उनका स्वर्गवास हो गया। अदिति सिंह का विवाह नवंबर 2019 में पंजाब के नवांशहर से कांग्रेस विधायक रहे अंगद सिंह से हुआ है।

कैसे राजनीति में एंट्री

वैसे तो अदिति सिंह को राजनीति उनके पिता की विरासत के रूप में प्राप्त हुई लेकिन वो अमेरिका में रहकर वहीँ काम कर रहीं थी। अदिति सिंह ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने एक फैशन हाउस में चार महीने की अनपेड इंटर्नशिप की थी। दरअसल पहले अदिति अपना करियर फैशन के क्षेत्र में ही बनाना चाहती थीं। उन्होंने बताया कि वह डिग्री पूरी करने के बाद जब वह अपने घर रायबरेली आईं, तब यहां के रहन-सहन से अंजान थीं। उन्‍होंने बताया कि वह शहर के गरीब लोगों की जिंदगी देखकर अंदर से हिल गई थीं। एक बार एक गरीब बच्‍चा उनके घर के बाहर खड़ा था, जिसने फटे हुए कपड़े पहन रखे थे। उस बच्‍चे ने अदिति को अपने साथ खेलने के लिए कहा, तो वह उसके साथ खेलने लगीं। कुछ समय बाद वह बच्‍चा अदिति से बोला कि आप यहीं रहो, विदेश न जाओ, मेरे साथ रोजाना खेला करो। उन्होंने कहा कि उस बच्चे की बातों से सोच विचार कर उन्होंने भारत में ही रहने का फैसला किया।

अदिति सिंह का राजनीतिक सफर

अदिति सिंह को राजनीति अपने पिता की विरासत के रूप में प्राप्त हुई। अदिति सिंह के पिता व कांग्रेस के दिग्गज नेता अखिलेश सिंह रायबरेली सदर सीट से पांच बार विधायक रह चुके हैं। रायबरेली में अखिलेश सिंह की बहुत अच्छी पैठ है व अखिलेश सिंह गांधी परिवार के करीबी माने जाते थे। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2017 में अदिति सिंह ने अपना पहला राजनीतिक कदम रखा। 2017 में अदिति सिंह ने अपने पिता अखिलेश सिंह की विरासत संभाली और उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर रायबरेली सदर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। अदिति सिंह ने बसपा के उम्मीदवार शहबाज खान को 90 हजार वोटों से हराकर शानदार जीत दर्ज की थी।

पिता के निधन के बाद अदिति सिंह ने कांग्रेस का दामन छोड़ दिया। कांग्रेस का हाथ छोड़ अदिति सिंह ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया। अदिति सिंह 24 नवंबर 2021 को कांग्रेस पार्टी छोड़ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुई। कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाली अदिति सिंह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में रायबरेली सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा और रायबरेली सदर सीट पर भारतीय जनता पार्टी का परचम लहरा दिया। अदिति सिंह ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी समाजवादी पार्टी के राम प्रताप यादव को 7,175 वोटों से हराया था। बता दें, कि साल 1993 से रायबरेली सदर सीट कांग्रेस मजबूत किला रही जिसे 2022 के चुनाव नतीजों में अदिति सिंह ने ध्वस्त कर दिया।


Leave a Reply