Home अंदर की बात बसपा को तो अपनों से खतरा, चंद्रशेखर आजाद बस कांग्रेस के लिए...

बसपा को तो अपनों से खतरा, चंद्रशेखर आजाद बस कांग्रेस के लिए नुकसानदेह


उत्तरप्रदेश में २०२२ में विधानसभा का चुनाव होने वाला है. ऐसे में यहाँ पर कई दल अपने जीत की बात करेंगे. अब लगभग सभी दल मैदान में उतर गए हैं. ऐसे में सपा के साथ ही बसपा भी मैदान में जुट गई है. आइये जानते हैं भीम आर्मी के चीफ चद्रशेखर आजाद ने अपनी पार्टी का एलान कर दिया है. और अब इसका क्या असर पड़ेगा यह समझना जरुरी है. भले लोग कह रहे हैं कि इसका असर मायावती पर पडेगा लेकिन ऐसा कुछ नही होने वाला है. मायावती और बसपा को सबसे ज्यादा नुकसान उनके ही पुराने लोग पहुंचा रहे हैं.

चद्रशेखर आजाद, भीम आर्मी चीफ

बसपा के दिग्गज नेता स्वामी प्रसाद मौर्या, नसीमुद्दीन सिद्दीक, बाबू लाल कुशवाहा अब बसपा से बाहर हैं लेकिन समय समय पर ये लोग बसपा पर हमला बोल देते हैं. अब बात कर लेते हैं रामवीर उपाध्याय की. जो बसपा से कई बार विधायक रहे. मंत्री भी रहे. इनकी पत्नी भी सांसद रही लेकिन बसपा से अब इनका भी मोह भंग हो चुका है.

मायावती, पूर्व मुख्यमंत्री , उत्तर प्रदेश

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने नोएडा के सेक्टर 70 में स्थित बसई गांव में अपनी नई राजनीतिक पार्टी का ऐलान किया. उन्होंने संविधान की शपथ लेकर आजाद समाज पार्टी  (ASP) के गठन की घोषणा की. इस पार्टी का झंडा नीले रंग का है. यह सब करने से भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर के साथ काग्रेस का वोटर्स जरुर जुड़ेगा. क्योंकि काग्रेस अभी भी यूपी से जमीनी स्तर से नदारत हो चुकी है. और इसका पूरा फायदा चन्द्रशेखर उठा पायेगा.

मायावती , पूर्व सीएम, उत्तर प्रदेश

यूपी में पहली बार ऐसा हो रहा है की बसपा राज्य विधान परिषद का चुनाव नहीं लड़ रही है. इसका सीधा असर उनकी पार्टी पर पड़ेगा. जो इनका कार्यकर्ता है वो भी इनके हाथ से निकल सकता है. और इसका पूरा फायदा सपा को मिल सकता है. और बसपा को राज्यसभा के चुनाव में ही बड़ा नुकसान हो रहा है. बसपा को पूरा नुकसान उनकी ही पार्टी के लोग दे रहे है. बाकी नये दल तो अपनी जमीन बना रहे हैं.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...