बिजली वाली राजनीति : यूपी के उन 8 जिलों में 24 घंटे बिजली मिलेगी जहां पर उपचुनाव होना है ?

उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार इन दिनों चर्चा में है. एक आदेश है जो पूरी तरह से वायरल हो रहा है. जिसमें यूपी के आठ जिलो को 24 घंटे बिजली देने की बात हो रही है. लेकिन उसमें कही भी उपचुनाव की बात नहीं है. गौरतलब है कि यूपी में 8 सीटों पर उपचुनाव होना है. जौनपुर, देवरिया, अमरोहा, फिरोजाबाद, रामपुर, बुलंदशहर, कानपुर नगर और उन्नाव जिलों में 24 घंटे बिजली देने का आदेश जारी हुआ है.

0
2755
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, योगी.
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, योगी.

  • जौनपुर, देवरिया, अमरोहा, फिरोजाबाद, रामपुर, बुलंदशहर, कानपुर नगर और उन्नाव में होना है उपचुनाव
  • बिजली देने को लेकर होती रही है पहले भी राजनीति और अब भी हुआ मामला तेज

संतोष कुमार पाण्डेय | लखनऊ

उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार इन दिनों चर्चा में है. एक आदेश है जो पूरी तरह से वायरल हो रहा है. जिसमें यूपी के आठ जिलो को 24 घंटे बिजली देने की बात हो रही है. लेकिन उसमें कही भी उपचुनाव की बात नहीं है. गौरतलब है कि यूपी में 8 सीटों पर उपचुनाव होना है. जौनपुर, देवरिया, अमरोहा, फिरोजाबाद, रामपुर, बुलंदशहर, कानपुर नगर और उन्नाव जिलों में 24 घंटे बिजली देने का आदेश जारी हुआ है. और इन्ही जिलों में इन्ही सीटों पर उपचुनाव होना है.

यही लेटर हो रहा है वायरल
यही लेटर हो रहा है वायरल

BIHAR CHUNAV 2020 : बिहार के ये आठ जिले होंगे नई सरकार के लिए ‘भाग्यविधाता’

इस तरह के आदेश को लेकर हर जगह चर्चा है. आखिर यह आदेश जारी करने से यह लग रहा है कि यूपी में बिजली नहीं आती है. और योगी की सरकार हमेशा 24 घंटे बिजली देने की बात करती है. मगर यहाँ तो बिजली को लेकर बवाल मचा हुआ है.

जन्मदिन विशेष : राजनीतिक झंझावातों के बीच पहली बार कॉकपिट में खामोश बैठे ‘पायलट’

जिन सीटों पर उपचुनाव होना है. उनमें से कई सीटो पर भाजपा का कब्जा है. और बाकी पर सपा का है. इन सीटों पर बसपा और कांग्रेस की भी नजर है. मगर अभी इसपर कुछ साफ़ नही हुआ है. बिजली का यह आदेश चर्चा में है. और विपक्ष भी चुटकी ले रहा है.

पीएम बनते-बनते रह गये थे प्रणब दा ! बना लिए थे अलग दल ! बाद में राष्ट्रपति बने ! बड़ी रोचक है कहानी !

यूपी में बिजली और सडक को लेकर हमेशा से राजनीति होती रही है. मगर विपक्ष इस बार इस मुद्दे को लेकर हमलावर हुआ है. सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है.

कभी बसपा में ‘ब्राह्मणों’ का था राज और मायावती की थी सरकार ! अब क्यों याद आ रहे परशुराम !


Leave a Reply