महुआ सीट पर क्या सच में कोई तेजप्रताप यादव को टक्कर दे पाएगा ?

वैशाली जिले की महुआ विधान सभा सीट इस समय चर्चा में है. क्योंकि वहां से तेज प्रताप यादव विधायक है जो लालू यादव के बड़े बेटे हैं. लेकिन इस बार मामला और उलझा गया है. क्योंकि जदयू तेजप्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय को मैदान में उतारने वाली है. इस सूचना से हर जगह चर्चा है कि क्या तेजप्रताप यादव इस बार चुनाव जीत पायेंगे या नहीं. आइये हम इसी बात को साफ़ कर दें कि क्या स्थिति बनने वाली है. महुआ का विजेता कौन होगा. तेज या ऐश्वर्या. बिहार में लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी दोनों चुनाव हार चुके हैं. कोई नई बात नहीं है.

0
476
तेज प्रताप यादव, बिहार.
तेज प्रताप यादव, बिहार.

  • वैशाली जिले की राजद की मजबूत सीट है महुआ
  • पहली बार में ही तेजप्रताप यादव ने 28 हजार से अधिक मतों से जीता था चुनाव

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

वैशाली जिले की महुआ विधान सभा सीट इस समय चर्चा में है. क्योंकि, वहां से तेज प्रताप यादव विधायक है जो लालू यादव के बड़े बेटे हैं. लेकिन इस बार मामला और उलझा गया है. क्योंकि, जदयू तेजप्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय को मैदान में उतारने वाली है. इस सूचना से हर जगह चर्चा है कि क्या तेजप्रताप यादव इस बार चुनाव जीत पायेंगे या नहीं. आइये हम इसी बात को साफ़ कर दें कि क्या स्थिति बनने वाली है.

भाजपा ने देवेंद्र फडणवीस को क्यों बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी !

महुआ का विजेता कौन होगा. तेज या ऐश्वर्या. बिहार में लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी दोनों चुनाव हार चुके हैं. कोई नई बात नहीं है. महुआ में अब तक जितने विधान सभा का चुनाव हुआ है उसमें जदयू और आरजेडी ने हैट्रिक लगाया है. तेज प्रताप ने वर्ष 2015 में यहाँ से राजद और जदयू के टिकेट पर चुनाव लड़ा और जीत मिली. दरअसल, जितने चुनावों में यहाँ से आरजेडी ने जीत दर्ज किया है उनमें वोट नहीं मिला है. मगर इस बार के चुनाव में अधिक मतदान हुआ था.

राजस्थान के सभी जिलों में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज

यह है पूरा हिसाब

वर्ष 1990 में मुंशीलाल पासवान को महुआ सीट से जदयू के टिकेट पर 62459 वोट मिले और जीत हुई. उनेक सामने कांग्रेस के कपिलेश्वर राम केसरी थे. वर्ष 1995 में फिर मुंशीलाल पासवान को जीत मिली और उनके सामने कपिलेश्वर ही थे. वर्ष 2000 में आरजेडी के देसाई चौधरी ने कुल 60478 के साथ चुनाव जीत लिया. जड्यू के मुशी लाल 51408 वोट के साथ हार गये. फिर दौर शिवचंद राम का आया, जो आरजेडी से चुनाव जीत गये. वर्ष 2010 में फिर जदयू ने सीट पर चुनाव जीत लिया.

पीएम बनते-बनते रह गये थे प्रणब दा ! बना लिए थे अलग दल ! बाद में राष्ट्रपति बने ! बड़ी रोचक है कहानी !

रविन्द्र राय को 46309 वोट मिले और आरजेडी के जगेश्वर राय को 24384 वोट मिले. और वर्ष 2015 में यहाँ से आरजेडी और जदयू के गठ्बन्धन में तेज प्रताप यादव ने चुनाव लड़ा और उन्हें जीत मिली. हम पार्टी के रविन्द्र राय को 38772 वोट मिला. रविन्द्र उस समय वर्तमान विधायक थे. तेज को टक्कर देना आसान है. और जदयू ही दे सकती है. ऐसे में अगर ऐश्वर्या राय जदयू से चुनाव लड़ेगी तो टक्कर बहुत बड़ी ही जाएगी. तेज प्रताप यादव के लिए संकट बड़ा होगा.

विपक्ष की आलोचना से परेशान हुए झारखंड के शिक्षामंत्री, 11वीं में लिया एडमिशन, बच्चों के साथ क्लास में पढ़ेंगे

 


Leave a Reply