Home अंदर की बात आत्मनिर्भरवीर : मोहम्मद अली फतह ने आंवले की बागवानी से बदली दी...

आत्मनिर्भरवीर : मोहम्मद अली फतह ने आंवले की बागवानी से बदली दी सैकड़ों किसानों की जिन्दगी


संतोष कुमार पाण्डेय, सम्पादक की रिपोर्ट 

  • आज पढ़िए और देखिये हरियाणा के मेवात जिले के मोहम्मद अली फतह की कहानी.

पोलटॉक पर ‘आत्मनिर्भर वीर’ की कहानी जिन्होंने अपने दम पर सफलता पाई है. उन्होंने जीवन स्तर को बदला है और अन्य लोगों के लिए प्रेरणाश्रोत बन गये. ऐसे लोगों को पोलटॉक ‘आत्मनिर्भर वीर’ मानता है. आज पढ़िए और देखिये हरियाणा के मेवात जिले के मोहम्मद अली फतह की कहानी। जिन्होंने अपने जिले में ही नहीं बल्कि प्रदेश में अपना नाम कमाया है.

लॉकडाउन-4 के लिए 18 मई के पहले पूरी जानकारी दी जाएगी : पीएम मोदी

आंवला की खेती
मेवात में आंवले की हो रही खेती.

शुरुआत में दिक्कत थी… धीरे-धीरे राह आसान हुई

मोहम्मद अली फतह बताते है कि शुरुआत में हमें कुछ पता नहीं था लेकिन निकल पड़े थे बदलाव की राह पर इसलिए कोई डर भी नहीं था. अब फतह की उम्र 68 साल हो गई है. लेकिन उनके दिमाग और दिल में बस एक ही काम रहता है वो है बागवानी। इन्होने परम्परागत खेती को छोड़ दिया और बगवानी को अपना लिया। बात है वर्ष 2000 की जब अली फतह ने 3 एकड़ में आंवले की 140 पौधे लगा दिया। 3 साल बाद 2003 में आंवले का अच्छा उत्पादन होने लगा. लगभग 3 लाख रूपये का आंवला भी प्रति वर्ष बेचने भी लगे. बड़ी बात यह है कि इनके यहाँ आंवला लेने खरीदार खुद आते हैं और भुगतान भी वहीँ कर जाते हैं.

बड़ी पहल : केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPF) की कैंटीनों पर अब सिर्फ स्वदेशी उत्पादों की ही बिक्री होगी : अमित शाह

8 महीने में 3 लाख रुपये की इनकम

एनए-7 वैरायटी में 8 माह में तीन बार फल आ जाते हैं. लगभग 3 लाख रूपये की कमाई हो जाती है. इससे पूरे परिवार का जीवन यापन हो रहा है. आंवले की बागवानी से पूरा परिवार खुश है.

मेवात में खेती
मेवात में हो रही है आंवले की खेती.

LIVE UPDATE : 20 लाख करोड़ रुपए का आर्थिक पॅकेज की घोषणा : पीएम नरेंद्र मोदी

दो बार हो चुके हैं सम्मानित

हरियाणा सरकार के कृषि विभाग ने मोहम्मद अली फतह को दो बार सम्मानित किया है. 2008 -09 में मेवात कृषि विभाग द्वारा और 2013 में घरौंदा में इन्हें सम्मानित होने का अवसर मिला।

लॉकडाउन-4 के लिए 18 मई के पहले पूरी जानकारी दी जाएगी : पीएम मोदी

बागवानी का देते हैं टिप्स

मोहम्मद अली फतह हरियाणा में ही नहीं बल्कि राजस्थान तक बाग़ लगाने जाते हैं. पहले लोग मेवात में आंवले की बागवानी से बेखबर थे. मगर अब इसमें बड़ी संख्या में लोग लगे है. हरियाणा के अलावा राजस्थान के भरतपुर, अलवर में आंवले की खेती की जानकारी किसानों को देते हैं. जो उनके काम की है.

कोराना इफेक्ट : इस रमजान मुसलमानों की इबादत पर भी पड़ा है असर

कौन हैं मोहम्मद अली फतह

मोहम्मद अली फतह हरियाणा के मेवात जिले के है. मेवात के सुलेला गाँव के हैं. पहले किसान थे और पारम्परिक खेती किया करते थे. मगर इन्होने अपने आप को बदल दिया। जरूरते बढती गई और इनके लिए परेशानी बढने लगी थी. इसी बीच इन्होने बागवानी की तरफ रूख किया और अब ये सफल किसान में हैं. इनकी अपनी अलग पहचान है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...