Home राजनीति से इतर अनाथों के नाथ हैं अच्युत सामंत, देवदूत बन की कोरोना पीड़ितों की...

अनाथों के नाथ हैं अच्युत सामंत, देवदूत बन की कोरोना पीड़ितों की सेवा



पोल टॉक नेटवर्क | उड़ीसा

जिस कोरोना काल के शुरू होते भारत के तमाम नेता अपने—अपने आवास में दुबुक के बैठ के गये थे और अभी तक अपने घरों से निकलने में डर रहे हैं, उस महामारी से बेखौफ होकर डॉ. सामंत एक कोरोना योद्धा की तरह अपने संस्थान के बच्चों और आम जनता से लेकर प्रशासन तक की हर संभव मदद करते नजर आ रहे हैं। पिछले 6 महीनों के भीतर उन्होंने अपनी ओर से ओडिशा सरकार का समर्थन प्राप्त करते हुए चार-चार कोविद-19 अस्पताल खोले हैं।

दीपावली से पूर्व पूरे हो जयपुर हैरिटेज बाजारों में स्मार्ट सिटी के कार्य : सांसद बोहरा

डॉ. सामंत का दावा है कि कोरोना महामारी के दौर में उन्होंने बतौर सांसद और समाजसेवक अपने क्षेत्र के किसी भी शख्स को भूखा नहीं सोने दिया और समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के लिए भी सभी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई है। विदित हो कि डॉ. सामंत की तरफ से कीस के तकरीबन 30 हजार आदिवासी बच्चों को उनके होमटाउन में न सिर्फ प्रत्येक महीने पाठ्य-पुस्तकें बल्कि सूखा राशन आदि निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। किसी व्यक्ति विशेष द्वारा शायद ही दुनिया के किसी कोने में ऐसी पहले सुनने—देखने को मिली हो।

कांग्रेसराज में अराजकता का माहौल, प्रदेश में कहीं भी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं : डाॅ. सतीश पूनियां

शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य करने वाले समाजसेवी डॉ. अच्युत सामंत ने कोरोना बीमारी के शिकार व्यक्ति के परिवार के लिए बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने इस महामारी से मरने वाले व्यक्ति के बेटे या बेटी द्वारा कीट विश्वविद्यालय में तकनीकी उच्च शिक्षा के लिए इच्छा जताए जाने पर उसे तकनीकी व वृत्तिगत (प्रोफेसनल) शिक्षा मु्फ्त में मुहैया कराने का वादा किया है।

LOCKDOWN से पर्यटन क्षेत्र बहुत प्रभावित हुआ, पुनर्जीवित करने को हो प्रयास : एचसी पुरोहित

कोरोना बीमारी के शिकार लोगों के बच्चों का मुफ्त में पढ़ाने का वादा करने वाले डॉ. सामंत का आशीर्वाद उड़ीसा के केंदुझार जिले के आनंतपुर में गुपचुप बेचने वाले बच्चे को मिला। जिसके पिता की मृत्यु कोविड के चलते हाल में हो गई थी। राहुल महत की मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई का जिम्म अब कीस फाउंडेशन ने लिया है और वह अब इस तकनकी शिक्षा को कीट जैसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में बिल्कुल मुफ्त प्राप्त करेगा।

शिक्षा आन्दोलन : आनलाइन पढ़ाई का 60 फीसद अभिभावकों ने किया बायकाट, सभी ने किया समर्थन

उड़ीसा का कलिंग कहे जाने वाले जाने—माने शिक्षाविद् एवं शिक्षाशास्त्री डॉ. अच्युत सामंत कंधमाल सीट से सांसद हैं। कभी घोर गरीबी में पले—बढ़े अच्युत सामंत आज आदिवासी क्षेत्र के सौ दो सौ नहीं बल्कि 30,000 से ज्यादा गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा, भोजन, आवास और सेहत संबंधी सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे हैं। वर्तमान में कीस में ओडिशा के आदिवासी क्षेत्र वाले कुल 23 जिलों के बच्चों का भविष्य संवारने का कार्य होता है। नब्बे के दशक में उनके द्वारा शुरु किए कीस और कीट संस्थान से निकला बच्चा आज शिक्षा ही नहीं खेल की दुनिया में भी पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन कर रहा है।

 

 


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

चौधरी साहब ताउम्र ग़रीबों, किसानों, नौजवानों और वंचितों की आवाज़ बने रहे : यज्ञेन्दु

चौधरी अजीत के बेटे जयंत ने दी सोशल मीडिया से जानकारी देश भर के नेताओं ने भावभीनी...

वैक्सीनेशन के पश्चात् मिलने वाले सर्टिफिकेट पर पीएम की फोटो नहीं लगाने वाला बयान अत्यन्त शर्मनाक : राजेन्द्र राठौड़

राजस्थान में ऑक्सीजन का कोटा 100 मीट्रिक टन बढ़ाकर 280 मीट्रिक टन से 380 मीट्रिक टन किया है ...

प्रदेश युवा कांग्रेस ने “सेवा दिवस” के रुप में मनाया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्मदिन

प्रदेश के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर, फल, भोजन, मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण कार्यक्रम पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर  राजस्थान...

केन्द्र सरकार द्वारा दी जा रही सहायता से गहलोत सरकार जनता को दे राहत : सांसद रामचरण बोहरा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और केंन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से की मुलाकात कोरोना आपदा प्रबंधन, रेमेडिसिवर...

कोरोना मरीजों और उनके परिजनों के लिए प्रदेश युवा कांग्रेस ने शुरू की ‘जनता रसोई’

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा "कोई भूका ना सोए" को आगे बढ़ाते हुए को खाना उपलब्ध करवाने का लिया संकल्प पोल...