मशहूर एक्टर ऋषि कपूर का निधन

67 साल के मशहूर एक्टर ऋषि कपूर का निधन हो गया है। यह खबर गुरुवार को आई। जैसे ही ये खबर आई इनके चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी, उन्हें मुंबई के एच.एन रिलायंस हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। पिछले कुछ दिनों से उनकी तबीयत खराब चल रही थी, लेकिन बुधवार को एक्टर की तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो थी जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में एडमिट करवाया गया था.  

0
1043
ऋषि कपूर
मशहूर एक्टर ऋषि कपूर का निधन.

  • अमिताभ बच्चन ने ट्वीटर पर दी है जानकारी 

67 साल के मशहूर एक्टर ऋषि कपूर का निधन हो गया है। यह खबर गुरुवार को आई। जैसे ही ये खबर आई इनके चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी, उन्हें मुंबई के एच.एन रिलायंस हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। पिछले कुछ दिनों से उनकी तबीयत खराब चल रही थी, लेकिन बुधवार को एक्टर की तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो थी जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में एडमिट करवाया गया था.

ऋषि कपूर को उन्हें बॉबी के लिए 1974 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार और साथ ही 2008 में फ़िल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार सहित अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चूका है। उन्होंने उनकी पहली फ़िल्म में शानदार भूमिका के लिए 1971 में राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार प्राप्त किया। कपूर का जन्म पंजाब के हिंदू परिवार में ऋषि राज कपूर के रूप में मुंबई के चेम्बूर में हुआ था। वह अभिनेता-फिल्म निर्देशक राज कपूर और अभिनेता पृथ्वीराज कपूर के पोते का दूसरा पुत्र था। उन्होंने कैंपियन स्कूल, मुंबई और मेयो कॉलेज, अजमेर में अपने भाइयों के साथ अपनी स्कूली शिक्षा की।

बेटे रणवीर ने बढाया है इनका नाम 

ऋषि कपूर के बेटे रणवीर कपूर ने इनका नाम बढ़ाया है. कई बेहतरीन फिल्मों में लीड रोल की भूमिका निभाई है.  जो आज चर्चा में रहते हैं. लोग रणवीर को अब काबिल एक्टर मानने लगे हैं.

इरफ़ान की मौत के तुरंत बाद ऋषि कपूर की यह खबर बहुत दुखद है. ऋषि कपूर के निधन के बाद परिवार की तरफ से यह मैसेज जारी किया गया- ‘‘दो साल तक ल्यूकेमिया से जंग के बाद हमारे प्यारे ऋषि कपूर का आज सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर निधन हो गया। अस्पताल के डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ ने कहा कि वे आखिर तक उनका मनोरंजन करते रहे। दो महाद्वीपों में उनका दो साल तक इलाज चला और इस दौरान वे खुशमिजाज और जिंदादिल बने रहे।


Leave a Reply