Home जनसरोकार भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर मायावती ने की...

भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर मायावती ने की ये बड़ी अपील


14 अप्रैल का दिन बहुत ख़ास होता है. भारत में इसका बड़ा महत्व है. लेकिन इस बार 2020 में इसका और भी महत्व हो गया है. बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर की जयंती भारत में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाती है. खासकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) इस दिन को ज्यादा ही सेलेब्रेट करती है. मगर जब पूरी दुनिया लॉकडाउन में है तो कैसे जन्मदिन को उत्सव् के रूप में मनाया जाय यह भी बड़ा सवाल है. आइये जानते हैं बसपा प्रमुख मायावती ने बाबा साहेब की जयंती पर क्या बात कही है.

जौनपुर में कोई परेशानी न आये इसके लिये 5 साल की सांसद निधि देने को तैयार : MP श्याम सिंह यादव

बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं मायावती

मानवतावादी सोच/कर्म व आजीवन कड़ा संघर्ष/त्याग की प्रतिमूर्ति व देश को अनुपम समतामूलक संविधान देनेे वाले परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर उनके अनुयाइयों व ख़ासकर बी.एस.पी. के लोगों के लिए हर मायने में प्रेरक, कर्म व धर्म भी हैं। किन्तु वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते इन सभी से अपील है कि वे सरकारी पाबन्दियों का सख़्ती से अनुपालन करते हुए, अपने रगों में बसने वाले बाबा साहेब डा. अम्बेडकर की जयन्ती को अपने-अपने घरों में ही मनायें व उन्हें अपने श्रद्धा-सुमन अर्पित करें, तो यही बेहत्तर होगा। साथ ही, इनके अनुयाइयों की इस महामारी के दौरान् भी हो रही दयनीय स्थिति व उत्पीड़न के बारे में भी तथा इससे मुक्ति पाने के लिए भी इन्हें जरूर गम्भीरता से चिन्तन करना चाहिये। इस मौके पर मेरी इनको यह भी ख़ास सलाहा है। (जैसा मायावती ने अपने ट्वीटर पर लिखा है…)

कोरोना महामारी में सरकार के हर सकारात्मक कार्य के साथ मजबूती से खड़ी है बसपा : सांसद रितेश पांडेय

कौन हैं भीमराव अम्बेडकर

बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर (Ambedkar) का जन्म मध्यप्रदेश के महुँ में 14 April 1891 को हुआ था. इनका निधन 6 December 1956 को हुआ. भारत के सविधान निर्माता और भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कराने में इनकी बड़ी भूमिका थी. उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स दोनों ही विश्वविद्यालयों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधियाँ प्राप्त कीं तथा विधि, अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में शोध कार्य भी किये थे। व्यावसायिक जीवन के आरम्भिक भाग में ये अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे एवं वकालत भी की तथा बाद का जीवन राजनीतिक गतिविधियों में अधिक बीता। 1990 में अम्बेडकर को मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न (bharat ratn) से सम्मानित किया गया था।

…तो क्या अमेरिका के ये तीन बड़े शहर अप्रैल में हो जायेंगे ख़त्म ?


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...