Home चुनाव उत्तर प्रदेश राजनीति में कुछ ऐसा रहा है फ़िल्मी दुनिया के महानायक अमिताभ बच्चन...

राजनीति में कुछ ऐसा रहा है फ़िल्मी दुनिया के महानायक अमिताभ बच्चन का ‘छोटा’ सफर


  • देश के महानायक अमिताभ बच्चन ने 80 के दशक में रखा था राजनीति में कदम
  • इलाहाबाद से कांग्रेस के टिकट पर बने थे सांसद, हेमवती नंदन बहुगुणा को हराया था

मीमांसा चतुर्वेदी । प्रयागराज

अभिनेता अमिताभ बच्चन ( actor Amitabh Bachchan)  का राजनीति का सफर बहुत छोटा रहा है। लेकिन हमेशा इलाहाबाद की राजनीति में उनकी चर्चा होती है. अमिताभ बच्चन का जन्म 11 October,1942 को इलाहाबाद में हुआ था। इनके पिता एक हिंदी साहित्य के प्रसिद्ध कवि थे जिनका नाम हरिवंश राय बच्चन था। दरअसल, जब अमिताभ बच्चन पैदा हुऐ थे, तभी गांधी का भारत छोड़ो आन्दोलन शुरू हुआ था।

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) का नाम ‘अगस्त क्रांति’ से प्रेरित होकर हरिवंश राय बच्चन ने इंकलाब रख दिया था। अमिताभ बच्चन को बॉलीवुड का महानायक और शहंशाह भी कहा जाता हैं,और इनके नाम से जुड़ी मशहूर फिल्म जैसे की शोले, कभी खुशी कभी ग़म,जमीन, दीवार, कूली, परवरिश एवं मुक्कदर का सिकंदर जैसे बड़ी हिट के वजह से पूरे देश में इनकी चर्चा थी।यह बात तो सभी जानते है कि राजीव गांधी और अमिताभ बच्चन की दोस्ती कितनी गहरी थी, क्योंकि जब भी राजीव गांधी कभी अमिताभ से नहीं मिल पाते थे तो उन्हें बच्चन से मिलने शूटिंग स्थल पर आना पड़ जाता था।

अमिताभ बच्चन को राजनीति में आने के लिए भी गांधी ने ही प्रेरित किया था। सन् 1984 में अमिताभ बच्चन ने कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर इलाहाबाद लोकसभा सीट से चुनाव में कदम रखा. भारी मतों से अपने प्रतिद्वंद्वी को हराया। इसी वजह से आज भी अमिताभ की चर्चा खूब होती है. हेमवती नंदन बहुगुणा कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक थे. लेकिन 1984 में लोकसभा चुनाव में जब उनका सामना अमिताभ बच्चन से हुआ तब उन्होने बहुगुणा को 1 लाख 87 हजार के रिकार्ड मतों से हराया।

उस दौरान लोग कहते थे कि अमिताभ बच्चन तो फिल्मों के अभिनेता हैं वह ऐसे नामी नेता से कैसे जीत सकते थे ?  लेकिन परिणाम आने के बाद सभी आश्चर्यचकित रह गए। इसका परिणाम बहुगुणा पर ऐसा पड़ा की उन्होंने उसके बाद कभी भी चुनाव नहीं लड़ा और उन्होने राजनीति से सन्यास ले लिया।


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...