बिग इम्पैक्ट : स्टे की जमीन पर ईओ के कहने पर रोका गया निर्माण कार्य

झालावाड जिले की भवानीमंडी में अधिकारियों की मिलीभगत से वर्षों से एक व्यक्ति अपनी ही जमीन से दूर हो चुका है. जबकि उसपर कोर्ट का स्टे भी है. उसके बाद भी नियमों को दरकिनार करके भवन निर्माण का कार्य चल रहा था. लेकिन भवानीमंडी नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी शंभू दयाल मीणा ने काम को रुकवा दिया है. उन्हें जैसे ही फोन पर जानकारी मिली उन्होंने तुरंत उस जमीन पर हो रहे काम को रुकवा दिया है.

0
393
झालावाड के भवानीमंडी में स्टे की जमीन पर हो रहा था काम , अब बंद हुआ .
झालावाड के भवानीमंडी में स्टे की जमीन पर हो रहा था काम , अब बंद हुआ .

  • राजस्थान के झालावाड के भवानीमंडी में चल रहा था खेल, अधिकारी बने अनजान
  • कोर्ट से जमीन पर लग चुका है स्टे, फिर भी चल रहा है उस जमीन पर काम

पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर

झालावाड जिले की भवानीमंडी में अधिकारियों की मिलीभगत से वर्षों से एक व्यक्ति अपनी ही जमीन से दूर हो चुका है. जबकि उसपर कोर्ट का स्टे भी है. उसके बाद भी नियमों को दरकिनार करके भवन निर्माण का कार्य चल रहा था. लेकिन भवानीमंडी नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी शंभू दयाल मीणा ने काम को रुकवा दिया है. उन्हें जैसे ही फोन पर जानकारी मिली उन्होंने तुरंत उस जमीन पर हो रहे काम को रुकवा दिया है. उन्होंने कहा कि इस जमीन पर स्टे है और काम नही हो सकता है. इससे गौरीशंकर मीणा (68) ने राहत की सांस ली है.

झालावाड के भवानीमंडी में स्टे की जमीन पर हो रहा था काम , अब बंद हुआ .
झालावाड के भवानीमंडी में स्टे की जमीन पर हो रहा था काम , अब बंद हुआ .

बिग एक्सक्लूसिव : झालावाड़ में अधिकारियों की मिलीभगत से अपनी ही जमीन से दूर ‘गौरी’, सालों से हो रहा परेशान

जमीन के मालिक होने का दावा करने वाले गौरीशंकर मीणा (68) का आरोप है कि मिलीभगत करके उनकी जमीन पर कब्ज़ा किया जा रहा है. उन्हें अभी पूरा न्याय नहीं मिला है. उन्हें न्याय का इन्तजार है. इसके लिए उन्होंने सैकड़ों बार अधिकारीयों से मदद मांगी मगर अब अधिशासी अधिकारी शंभू दयाल मीणा ने उनकी बात सुन ली है.

बिजली वाली राजनीति : यूपी के उन 8 जिलों में 24 घंटे बिजली मिलेगी जहां पर उपचुनाव होना है ?

गौरी शंकर मीणा लगातार परेशान होते रहे लेकिन उनकी जमीन पर काम चलता रहा. रोकने और टोकने वाला कोई नहीं रहा था. जब ख़बरें प्राकाशित हुई तो काम रुका और अधिकारी उनकी बात को सुने. गौरीशंकर बताते हैं कि इसमें कई बड़े लोगों का हाथ है.

सीएम योगी आदित्यनाथ की इस घोषणा से खुश हुए गोरखपुर के सांसद रवि किशन

यह है पूरा मामला

गौरीशंकर का कहना है कि इनकी जमीन का मामला 1952 से चल रहा है. मगर परेशानी बढती गई लेकिन कार्रवाई नहीं हुई. उन्होंने इस मसले पर सैकडों बार अधिकारियों से मुलाकात भी की है. कुछ दिन पहले गौरीशंकर ने ज्ञापन दिया था. जिसमें उन्होंने मामले का जिक्र किया है. जो इस प्रकार है. अजमेर के राजस्व विभाग द्वारा 11 अगस्त 2018 को स्थगन जारी किया था. जिसमें 11 अगस्त 2020 के पत्र द्वारा स्थगन 5 अक्टूबर 20 तक बढ़ा दिया. पूर्वर्ती उपखंड अधिकारी राकेश मीणा ने 3 अगस्त 2018 को खसरा नंबर 448 रकबा 5 बीघा 7 बिस्वा वाके भवानीमंडी, तहसील पचपहाड़ में परिवर्तित हुए हैं या नामांतरण दर्ज हुए हैं.

 


Leave a Reply