Home अंदर की बात बिहार विस चुनाव 2020 का सबसे सटीक एग्जिट पोल : महागठबंधन सबपर...

बिहार विस चुनाव 2020 का सबसे सटीक एग्जिट पोल : महागठबंधन सबपर भारी, पूर्ण बहुमत की सरकार, एनडीए को बड़ा नुकसान


  • रोजगार और पलायन रहा बड़ा मुद्दा, तेजस्वी पर नीतीश से ज्यादा भरोसा
  • पीएम मोदी के प्रचार से भाजपा को मिली मजबूती वर्ना स्थिति और खराब होती

संतोष कुमार पाण्डेय की रिपोर्ट

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (BIHAR VIDHAN SABHA CHUNAV 2020 ) की 243 सीटों की सबसे सटीक exit poll शाम 5 बजे से POLLTALK पर .बिहार में तीन चरणों में वोटिंग हुई है. इस बार लड़ाई सीधे राजद (RJD) और भाजपा (BJP) की हर सीट पर देखी जा रही है. सीमांचल, कोसी, उत्तर बिहार, मिथिलांचल में क्या है वोटर का मूड. बिहार में कुल 38 जिले हैं. 11 करोड़ यहाँ की आबादी है. तीन करोड़ युवा वोटर हैं. वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के पास 53, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 27, जनता दल (यूनाइटेड) 71, राष्ट्रीय जनता दल 80, राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी 2, लोक जन शक्ति पार्टी 2, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्ससिस्ट-लेनिनिस्ट)(लिबरेशन) 3, हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) 1, निर्दलीय 4 विधायक हैं.

ये है एग्जिट पोल

ऐसे किया गया है लगातार सर्वे

बिहार में किसकी होगी सरकार : 76 प्रतिशत लोगों ने महागठबंधन को पसंद किया है और 24 प्रतिशत लोगों ने एनडीए को बताया बेहतर. कुल 155 लोगों वोट किया था. जिसमें 4 कमेन्ट भी आये. तेजस्वी यादव को सपोर्ट किया है.

एनडीए और महागठबंधन में किसकी सरकार

दो सप्ताह पहले हुए सर्वे में रफ़्तार बढ़ गई और बदल गई . इसमें पूछा गया था कि इस बार बिहार में किसकी होगी सरकार. महागठबंधन को 74 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया है. और NDA को 26 प्रतिशत वोट मिला है. कुल 1600 लोगों ने वोट किया है. कुल 17 कमेन्ट भी आया है. जिसमें लोजपा और महागठबंधन के पक्ष में किया वोट. नितीश कुमार के लिए एक कमेन्ट आया है.

बिहार में सीएम कौन बेहतर होगा !

चिराग पासवान और तेजस्वी यादव में कौन होगा बेहतर सीएम ! इसमें 53 प्रतिशत लोगों ने तेजस्वी यादव को और 47 प्रतिशत लोगों ने चिराग पासवान को पसंद किया है. 60 कमेन्ट भी आये हैं जिसमें चिराग और तेजस्वी यादव को लेकर कमेंट हुए हैं. और 21 ०० लोगों ने वोट किया है. एक और सर्वे किया है जिसमें नितीश कुमार को 28 प्रतिशत और तेजस्वी यादव को 72 प्रतिशत लोगो ने पसंद किया है. इसमें कुल 1700 लोगों ने वोट किया है.

पार्टी को लेकर किया सर्वे
बिहार में किस पार्टी को कितना वोट मिलेगा या सीट मिलेगा. इसको लेकर भाजपा और कांग्रेस को 28 प्रतिशत वोट मिला है. जदयू और राजद को 72 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया है. इसमें कुल 13 00 लोगों ने वोट किया है.

पहले चरण में 71 सीटों पर किसे मिलेगा कितना फायदा

एनडीए को 29 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया है. और महागठबंधन के पक्ष में 71 प्रतिशत लोगों ने वोट किया है. 1800 लोगों ने वोट किया है.

बिहार के दूसरे चरण में वोटिंग के लिए

इस सवाल में 2100 लोगों ने वोट किया है . इसमें महागठबंधन को 74 प्रतिशत और एनडीए को 26 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया है .

फ़ाइनल सीटों का आंकडा

ओवरआल जब बिहार में सरकार को लेकर सर्वे किया तो 1700 लोगों ने वोट किया है. जिनमें 30 प्रतिशत लोगों ने NDA को और 70 प्रतिशत ने महागठबंधन के पक्ष में वोट किया है. कुछ लोगों ने कमेंट भी किया है. जैसे शशि कुमार सिंह ने महागठबंधन की सरकार पर मुहर लगाई है. सभी ने महागठबंधन की सरकार पर मुहर लगा दी है.

महागठबंधन

राजद : 144 सीट पर चुनाव लड़ रही है -100-120 सीट मिलने का अनुमान
कांग्रेस : 70 सीट पर चुनाव लड़ रही है – 35-40 सीट मिलने का अनुमान
सीपीएम : 4 सीटें, सीपीआई को 6, सीपीआई माले को 19 सीटें : 5 -7 सीट मिलने का अनुमान
कुल : 140 से 167 सीट मिलने का अनुमान |

एनडीए

बीजेपी 121 सीटो पर लड रही (वीआइपी 11 पर ) : 65-80
जदयू और हम 122 पर लड रही : 25-35 सीट
कुल : 90-115 सीट मिलने का अनुमान

अन्य दल

पप्पू यादव, उपेन्द्र कुशवाहा, ओवैसी और लोजपा की स्थिति यह है.

लोजपा -5-10
उपेन्द्र कुशवाहा : २-3
पप्पू यादव : 1-2
ओवैसी : 1-2
कुल : 9-17 सीट

ये हैं जातीय आंकडा

011 की राष्ट्रीय जनगणना से संकेत मिलता है कि अनुसूचित जातियों ने बिहार की 10.4 करोड़ आबादी का 16% गठित किया है। जनगणना ने 23 दलित उप-जातियों में से 21 को महादलित के रूप में पहचाना। महादलित समुदाय में निम्नलिखित उप-जातियां शामिल हैं: बंतर, बौरी, भोगता, भुईया, चौपाल, डाबर, डोम (धनगढ़), घासी, हललकोहर, हरि (मेहतर, भंगी), कंजर, कुरारीर, लालबेगी, मुसहर, नट, पान (स्वासी), राजवार, तुरी, ढोबी, चमार और पासवान (दुसाध)। बिहार में दलितों के साथ, चमार 25.3% हैं, पासवान (दुसाध) 36.9% और मुसाहर 13.9% हैं।[8] पासवान जाति को शुरुआत में महादालिट श्रेणी से बाहर कर दिया गया था,[9] राम विलास पासवान के कर्कश के लिए। बाद में महादलित श्रेणी में खमेर शामिल किए गए थे। आदिवासी (अनुसूचित जनजाति) बिहारी आबादी के लगभग 1.3% गठित हैं। इनमें गोंड, संथाल और थारू समुदाय शामिल हैं। बिहार में लगभग 130 अत्यंत पिछड़ा वर्ग जातियां (ईबीसी) हैं।

नोट : ( यह सर्वे पोल टॉक ने खुद किया है. इसमें किसी से कोई सहयोग नहीं लिया गया है. किसी दल से कोई लेना देना नहीं है. यह हमारी मेहनत और अनुभव के आधार पर तैयार है यह रिपोर्ट | बिहार के सैकड़ों लोगों से बातचीत और राय भी ली गई है.) 

 


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...