Home राजनीति चुनाव हरलाखी विस : तीर चलेगा या लाल दुर्ग में बदल जायेगा हरलाखी...

हरलाखी विस : तीर चलेगा या लाल दुर्ग में बदल जायेगा हरलाखी ! बड़े रोचक दौर में पहुंचा चुनाव


  • बिहार में दूसरे चरण में 3 नवंबर को विधानसभा की 94 सीटों के लिए मतदान
  • लोजपा और जदयू के लिए है बड़ी चुनौती, हर दिन बदल रहा चुनाव का माहौल

पोलटॉक के लिए सच्चिदानंद सच्चू की ग्राउंड रिपोर्ट

नेपाल सीमा से सटा हुआ विस क्षेत्र है हरलाखी. हाल के दिनों में जब भारत–नेपाल के संबंध में तल्खी आयी थी, तो सीमा पर आवाजाही भी बंद हो गयी थी. सीमा पर आवाजाही बंद होने के कारण सीमावर्ती क्षेत्र का बाजार व्यापक रूप से प्रभावित हुआ था. यहां का बाजार नेपाल से आने वाले लोगों पर निर्भर करता है. इसका रोष अभी तक यहां के लोगों में दिख रहा है. हरलाखी के शिटिंग एमएलए हैं सुधांशु शेखर. वे जदयू के टिकट पर इस बार फिर चुनाव मैदान में हैं. जदयू के शासनकाल में जहां हर जगह सड़कों की हालत बेहतर हुई है, वहीं इस विस क्षेत्र की अधिकतर सड़कें अभी तक जर्जर हैं. हालांकि कुछ सड़कों की सेहत में सुधार जरूर हुआ है लेकिन ये सड़कें लोगों के आक्रोश को कम करने के लिए नाकाफी है. अलबत्ता इस चुनाव में इस आक्रोश का खामियाजा शिटिंग एमएलए सुधांशु शेखर को भुगतना पड़ सकता है.

BIHAR CHUNAV 2020 : दूसरे चरण की वोटिंग से होगा तय, कौन बनेगा बिहार का मुख्यमंत्री

जदयू को शिकस्त देने के लिए एलजेपी के साथ रालोसपा ने भी कसी कमर

दूसरी ओर जदयू प्रत्याशी को शिकस्त देने के उद्देश्य से यहां एलजेपी की ओर से विकास मिश्र चुनाव मैदान में हैं. विकास मिश्र यहां की खिरहर पंचायत के मुखिया हैं. माना जा रहा है कि विकास मिश्र भी जदयू के वोट बैंक में ही सेंध लगायेंगे. दूसरी तरफ रालोसपा से डॉ. संतोष सिंह कुशवाहा हैं. संतोषजी कुशवाहा वोटों के सहारे नैया पर लगाना चाहते हैं. माना जा रहा है कि कुशवाहा वोट भी एनडीए के खाते में ही जाता है, लिहाजा इधर से भी शिटिंग एमएलए सुधांशु शेखर को नुकसान होता दिख रहा है.

मजबूत दिख रहा है रामनरेश पांडेय का जनाधार

दूसरी तरफ महागठबंधन की ओर से भाकपा के प्रत्याशी हैं रामनरेश पांडेय. वामपंथी होने के कारण उनके पास कैडर वोट भी है. दूसरी तरफ राजद और कांग्रेस के पारंपरिक वोट बैंक का भी लाभ मिलता हुआ उन्हें दिख रहा है. रामनरेश पांडेय भूमिहार जाति से आते हैं और इस विधानसभा क्षेत्र में भूमिहार जाति की आबदी भी ठीक-ठाक है. आमतौर पर बिहार में भूमिहार जाति को एनडीए समर्थक माना जाता है लेकिन रामनरेश पांडेय की व्यक्तिगत छवि बेहतर रही है, लिहाजा कहा जा रहा है कि भूमिहार भी उनके पक्ष में मतदान करेंगे. कुल मिलाकर देखा जाये तो हरलाखी विधानसभा में रामनरेश पांडेय की स्थिति इन सबसे बेहतर है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

चौधरी साहब ताउम्र ग़रीबों, किसानों, नौजवानों और वंचितों की आवाज़ बने रहे : यज्ञेन्दु

चौधरी अजीत के बेटे जयंत ने दी सोशल मीडिया से जानकारी देश भर के नेताओं ने भावभीनी...

वैक्सीनेशन के पश्चात् मिलने वाले सर्टिफिकेट पर पीएम की फोटो नहीं लगाने वाला बयान अत्यन्त शर्मनाक : राजेन्द्र राठौड़

राजस्थान में ऑक्सीजन का कोटा 100 मीट्रिक टन बढ़ाकर 280 मीट्रिक टन से 380 मीट्रिक टन किया है ...

प्रदेश युवा कांग्रेस ने “सेवा दिवस” के रुप में मनाया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्मदिन

प्रदेश के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर, फल, भोजन, मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण कार्यक्रम पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर  राजस्थान...

केन्द्र सरकार द्वारा दी जा रही सहायता से गहलोत सरकार जनता को दे राहत : सांसद रामचरण बोहरा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और केंन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से की मुलाकात कोरोना आपदा प्रबंधन, रेमेडिसिवर...

कोरोना मरीजों और उनके परिजनों के लिए प्रदेश युवा कांग्रेस ने शुरू की ‘जनता रसोई’

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा "कोई भूका ना सोए" को आगे बढ़ाते हुए को खाना उपलब्ध करवाने का लिया संकल्प पोल...