BIHAR CHUNAV 2020 : बिहार के ये आठ जिले होंगे नई सरकार के लिए ‘भाग्यविधाता’

बिहार विधानसभा चुनाव (BIHAR VIDHAN SABHA CHUANV 2020) में इस बार कई परिवर्तन होते दिख रहे हैं. आरजेडी (RJD) और जदयू ( JDU) दोनों के लिए मुश्किल होगा. वर्ष 2015 के विधान सभा चुनाव में राजद और जदयू एक साथ थे मगर इस बार अलग अलग रहेंगे. लेकिन इस बार बड़ी संख्या में जो मजदूर बाहर से लौटे हैं वो बड़ी परेशानी खड़ी करेंगे. चुनाव में ये मजदूर अपने पैदल चले हुए दर्द का पूरा हिसाब निकालना चाहेगे.

0
541
मजदूर पैदल जाते हुए.
मजदूर पैदल जाते हुए.

  • कोरोना और लॉकडाउन से बदले हैं हालात, इस बार होगा पहली बार
  • बिहार के 8 जिलों में खूब लौटे हैं मजदूर, 30 लाख मजदूर हुए वापस

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

बिहार विधानसभा चुनाव (BIHAR VIDHAN SABHA CHUANV 2020) में इस बार कई परिवर्तन होते दिख रहे हैं. आरजेडी (RJD) और जदयू ( JDU) दोनों के लिए मुश्किल होगा. वर्ष 2015 के विधान सभा चुनाव में राजद और जदयू एक साथ थे मगर इस बार अलग अलग रहेंगे. लेकिन इस बार बड़ी संख्या में जो मजदूर बाहर से लौटे हैं वो बड़ी परेशानी खड़ी करेंगे. चुनाव में ये मजदूर अपने पैदल चले हुए दर्द का पूरा हिसाब निकालना चाहेगे. ऐसे में इस बार यहाँ इन आठ जिलों से मामला पलट जायेगा. आइये जानते हैं पूरी कहानी.

राजस्थान में 3848 ग्राम पंचायतों के लिए 28 से मतदान, देखिये किन-किन जिलों में होगा चुनाव

ये आठ जिले जहाँ लाखों मजदूर लौटे हैं

बिहार में आठ जिले ऐसे हैं जहाँ पर लाखों मजदूर लौट के आये है. मोतिहारी, बेतिया, कटिहार, मधुबनी , गया, दरभंगा, अररिया और मुजफ्फ़रपुर में करीब हर जिले से एक लाख के उपर के मजदूर वापस आये हैं. जानकारी के अनुसार इसमें ज्यादातर महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, दिल्ली, कर्नाटक और तमिलनाडू से आये हुए लोग हैं. 32 जिलों के 23.6 लाख मजदूर वापस आ चुके हैं. इनकी वजह से इस बार बदलाव हो सकता है.

क्या ये भोजपुरी स्टार बिहार चुनाव में लगा पाएंगे जीत का ‘तड़का’

बिहार के 38 जिलों में जो स्थिति है वह यह कि लगभग हर जिले में बाहर से एक लाख या 50 हजार लोग बाहर से आये हुए हैं. क्योंकि, ज्यादातर इसमें निचले तबके के मजदूर है. जो सरकारों से नाराज है. इस बार इनपर सभी दलों की नजर है. इन क्षेत्रों में राजद और जदयू की लड़ाई खूब है. मगर लोजपा यहाँ ताल ठोक रही है.

राजस्थान के ऐसे पांच मुख्यमंत्री जो ज़िंदा तो नहीं है मगर हमेशा चर्चाओं में ‘ज़िंदा’ रहते है

जानकारों की माने तो भाजपा और कांग्रेस शासित राज्यों में रहने वाले ज्यादातर मजदूर इन जिलों में लौटे है. जो इस बार पहली या दूसरी बार वोट भी देंगे. जो यहां पर बदलाव के कारण बन सकते हैं. राजद और जदयू दोनों इस बार जीत हार की लड़ाई लड़ रहे हैं.

जन्मदिन विशेष : राजनीतिक झंझावातों के बीच पहली बार कॉकपिट में खामोश बैठे ‘पायलट’


Leave a Reply