Home अंदर की बात बिहार चुनाव 2020 : दो-दो सीट जीतने वाले दल नीतीश कुमार को...

बिहार चुनाव 2020 : दो-दो सीट जीतने वाले दल नीतीश कुमार को क्यों दिखाते हैं आँख ? जानिए पूरी कहानी


  • लोजपा एनडीए में रहने के बावजूद नीतीश सरकार पर उठा रहा ऊँगली
  • रालोसपा ने 201 9 के लोकसभा चुनाव में एनडीए का छोड़ दिया था साथ

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

बिहार (bihar chunav 2020 ) में जो दल विधायक की संख्या के हिसाब से सबसे छोटे हैं वो ज्यादा परेशान दिख रहे हैं. वो नीतीश कुमार को आँख दिखा रहे हैं. चाहे 2019 का लोकसभा चुनाव रहा हो या अब विधान सभा का। आखिर ये दल अपनी बात कहने की बजाय गठबंधन तोड़ने पर विश्वास क्यों करते है. इन दिनों जीतन राम मांझी और चिराग पासवान चर्चा में हैं. आइये पढिये ये ख़ास रिपोर्ट।

विशेष : लगातार ‘हार’ का सामना कर रहे अजय को कांग्रेस ने दे दिया जीता हुआ ‘राज’

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए (nda) ने 40 में 39 सीटें जीत लिया था. महागठबंधन को बड़ा नुकसान हुआ था. कांग्रेस ने बस एक सीट जीता था. लेकिन सबसे अधिक घाटा रालोसपा ( rlsp )  के नेता उपेन्द्र कुशवाहा को लगा था. क्योंकि उन्होंने अपनी सीट गंवा दी थी. दो सीट से लड़े और दोनों हार गये थे. रालोसपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में तीन सीटों पर जीत दर्ज किया था। और उपेन्द्र कुशवाहा केंद्र में मंत्री बने थे. लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव से पहले उपेन्द्र कुशवाहा नीतीश सरकार पर हमलावर हो गये थे। बाद में वो एनडीए से बाहर हो गये थे। उस दौरान भी रालोसपा के पास मात्र दो विधायक ही थे. मगर उपेन्द्र हमेशा सीएम पर हमलावर दिखे।

पीएम बनते-बनते रह गये थे प्रणब दा ! बना लिए थे अलग दल ! बाद में राष्ट्रपति बने ! बड़ी रोचक है कहानी !

चिराग पासवान अब नीतीश कुमार की सरकार पर हमलावर हो गये हैं. लगातार नीतीश की सरकार पर वो हमला कर रहे हैं. ठीक वैसे ही जैसे उपेन्द्र कुशवाहा 2019 नीतीश पर हमलावर थे. तो क्या अब चिराग पासवान की पार्टी अब अलग रास्ते पर जाएगी ? इस समय लोजपा केंद्र में एनडीए की सरकार में शामिल हैं. मगर बिहार की सरकार से बाहर है. वहीँ जदयू भी केंद्र में सरकार से बाहर है। सूत्रों की माने तो यह सब बस सीट बंटवारे को लेकर हो रहा है. अब कई चीजें और सामने आयेंगी।

राजस्थान के सभी जिलों में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज

जीतन मांझी के पास बस एक विधायक है. मगर उन्हें भी आँख दिखाने की आदत हो गई है लोकसभा चुनाव में जीतन राम मांझी अपनी सीट नहीं बचा पाए थे. और उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा था. ये सभी दल इस बार भी उसी मूड में दिख रहे हैं. इन तीनों दलों के पास मात्र पांच विधायक हैं.

भाजपा ने देवेंद्र फडणवीस को क्यों बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी !

थोड़ा इनका अंक गणित समझिये

वर्ष 2005 का विधानसभा चुनाव

आरजेडी  54
जदयू      88
भाजपा    55
लोजपा    10
कांग्रेस     09
भाकपा    09
निर्दलीय व अन्य दल 18

वर्ष 2010 का विधानसभा चुनाव

आरजेडी   22
जदयू      105
भाजपा     91
लोजपा     03
कांग्रेस      04
भाकपा      01
निर्दलीय व अन्य दल 7

वर्ष 2015 का विधानसभा चुनाव
आरजेडी    80
जदयू        71
भाजपा      53
लोजपा      02
कॉग्रेस      27
रालोसपा   02
हम         01
भाकपा     03
निर्दलीय व अन्य दल 04


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...