2020 Bihar Legislative Assembly election : हथुआ में इस बार भी महागठबंधन के लिए खड़ी है बड़ी चुनौती

हथुआ विधानसभा (Hathua VIDHAN SABHA 2020) क्षेत्र परिसीमन के बाद वर्ष 2010 में अस्तित्व में आई। इसके पूर्व यह मीरगंज विधान सभा क्षेत्र का हिस्सा थी। यह राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का गृह विधानसभा क्षेत्र है। परिसीमन के बाद से हुए लगातार दो चुनावों में यहां जदयू ने कब्जा जमाया।

0
581
TEJASWI YADAV
TEJASWI YADAV

  • जदयू और राजद में है यहाँ पर कड़ी टक्कर, यहाँ के विधायक रामसेवक सिंह नितीश सरकार में हैं मंत्री
  • हथुआ लालू प्रसाद यादव का गढ़ है, मगर नहीं मिल पा रही है जीत

नवीन कुमार सिंह | गोपालगंज

हथुआ विधानसभा (Hathua VIDHAN SABHA 2020) क्षेत्र परिसीमन के बाद वर्ष 2010 में अस्तित्व में आई। इसके पूर्व यह मीरगंज विधान सभा क्षेत्र का हिस्सा थी। यह राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का गृह विधानसभा क्षेत्र है। परिसीमन के बाद से हुए लगातार दो चुनावों में यहां जदयू ने कब्जा जमाया।

फडणवीस को क्यों बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी !

लिहाजा राजद व महागठबंधन के समक्ष इसे प्रतिष्ठा की सीट बना दी गई. वहीं, विधायक व राज्य के समाज कल्याण मंत्री राम सेवक सिंह इस क्षेत्र से लगातार तीसरी बार किस्मत आजमाने की तैयारी में हैं। इसके पूर्व सिंह मीरगंज विधानसभा क्षेत्र से भी तीन बार विधायक रह चुके हैं। यहां चुनावी संग्राम की बिसाते बिछने लगी हैं।

महुआ सीट पर क्या सच में कोई तेजप्रताप यादव को टक्कर दे पाएगा ?

संभावित प्रत्याशियों की क्षेत्र से लेकर पटना तक की दौड़ तेज हो गई है। सिंह को एक बार फिर टिकट मिलना तय माना जा रहा है। इधर, महागठबंधन के लगभग सभी घटक दलों की इस सीट पर नजर है। हालांकि, सीट शेयरिंग के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि इस क्षेत्र से किस पार्टी का कौन उम्मीदवार होगा। फिलहाल इस सीट पर राजद के अलावा रालोसपा की भी नजर है। इन दलों से कई संभावित दावेदारों के नाम सामने आ रहे हैं. संभावित लड़ाके टिकट की लॉबिंग में जुटे हैं।

राजस्थान के सभी जिलों में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज

विधानसभा क्षेत्र का इतिहास

2009 में विधान सभा (VIDHAN SABHA ELECTION 2020) क्षेत्र का परिसीमन हुआ था। इसके पूर्व हथुआ विधान सभा क्षेत्र के इलाके मीरगंज में शामिल थे। वर्ष 2010 में पहली बार इस सीट पर विधानसभा का चुनाव हुआ। जिसमें जदयू से रामसेवक सिंह व निर्दलीय राजेश सिंह कुशवाहा में आमने-सामने की लड़ाई हुई। इसमें करीब 22 हजार मतों से रामसेवक सिंह विजयी हुए। इसके बाद 2015 के चुनाव में भी रामसेवक सिंह ने हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के उम्मीदवार महाचन्द्र सिंह को सीधी लड़ाई में करीब 23 हजार मतों के अंतर से पराजित किया था।

Bihar Assembly election 2020 : वैशाली जिले की हाजीपुर और लालगंज सीट पर किसका होगा कब्जा !

हथुआ का गौरवशाली अतीत

हथुआ विधानसभा क्षेत्र का गौरवशाली अतीत रहा है। यहां हथुआ राज का महल है। प्रसिद्ध गोपालमंदिर है। हथुआ के राजेन्द्र हाई स्कूल में देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने शिक्षा ग्रहण की थी। हथुआ शैक्षणिक संस्थानों का हब भी माना जाता है। यहां सैनिक स्कूल, आईटीआई, चार हाईस्कूल, दो कॉलेज सहित कई शिक्षण संस्थान हैं। इस इलाके के फुलवरिया निवासी लालू प्रसाद व उनकी पत्नी राबड़ी देवी सूबे के मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

कब कौन जीता

2010 राम सेवक सिंह,जदयू
2015 राम सेवक सिंह ,जदयू

सबकी नजर:-

हथुआ विधानसभा क्षेत्र बनने के बाद से लगातार दो चुनावों में जदयू ने दर्ज की जीत
प्रदेश के काबीना मंत्री रामसेवक सिंह तीसरी बार सीट से आजमाएंगे सियासी किस्मत

कुल मतदाता

2,72,172 जिसमें

महिला
1,32,364

पुरुष
1,39,801


Leave a Reply