Home राजनीति चुनाव Bihar Assembly election 2020 : वैशाली जिले की हाजीपुर और लालगंज सीट...

Bihar Assembly election 2020 : वैशाली जिले की हाजीपुर और लालगंज सीट पर किसका होगा कब्जा !


  • वैशाली जिले में कुल 8 विधानसभा की सीटें हैं
  • हाजीपुर पर भाजपा और लालगंज पर जदयू है मजबूत

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

बिहार में विधान सभा ( Bihar Assembly election 2020) का चुनाव होने वाला है. जिसको लेकर सभी दल तैयारी में लगे हैं. इसी कड़ी में पोलटॉक हर जिले वार आपको पूरी जानकारी दे रहा है. वैशाली जिले में कौन किसपर भारी पड़ेगा इसकी पूरी कहानी जानिए. वैशाली में कुल 8 विधान सभा की सीटें हैं. रोचक बात यह है कि इसी जिले की दो विधान सभा सीटों से लालू यादव के दोनों बेटे विधायक हैं. तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव का चुनावी भविष्य इस बार दांव पर लगा है. इस जिले की दो विधान सभा की सीटें सुरक्षित भी हैं.

भाजपा ने देवेंद्र फडणवीस को क्यों बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी !

1. हाजीपुर में भाजपा का पलड़ा भारी

हाजीपुर (HAJIPUR VIDHAN SABHA SEAT) विधान सभा सीट पर 6 बार से लगातार भाजपा का कब्जा है. वर्तमान गृहराज्य मंत्री नित्यानन्द राय ने इस सीट पर भाजपा का झंडा बुलंद किया. उसके बाद वो लोकसभा सदस्य बन गये और इस सीटपर भाजपा के अवधेश सिंह भाजपा से विधायक हैं. इस सीट पर भाजपा को लोजपा और कांग्रेस कड़ी टक्कर देती है. अगर इस बार जदयू, लोजपा और भाजपा एक साथ चुनाव लड़ते हैं तो भाजपा की जीत तय है. अगर कुछ इधर उधर बदलाव होता है तो बदलाव हो सकता है.

महुआ सीट पर क्या सच में कोई तेजप्रताप यादव को टक्कर दे पाएगा ?

यह है अंकीय गणित

पुरुष : 175553
महिलाएं : 151486
थर्ड जेंडर : 19

नोट : इस सीट पर कभी आरजेडी (RJD) का खाता नहीं खुला. भाजपा मजबूती से डटी हुई है. रुझान भाजपा की तरफ है

राजस्थान के सभी जिलों में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज

2. लालगंज सीट पर लोजपा और जदयू मजबूत

लालगंज विधान सभा सीट पर भाजपा का कभी खाता नहीं खुला है. यहाँ पर जदयू और लोजपा का जलवा कायम रहा. राजद भी इस सीट पर कभी चुनाव नहीं जीत पाई है. इसलिए यहाँ पर अभी भी लोजपा और जदयू का पलड़ा भारी रहा है. चुनौती राजद के लिए बड़ी है. विजय कुमार शुक्ला इस सीट से लगातार तीन बार विधायक बन चुके हैं.

यह है अंकीय गणित

पुरुष :     173711
महिलाएं : 149593
थर्ड जेंडर : 09

पीएम बनते-बनते रह गये थे प्रणब दा ! बना लिए थे अलग दल ! बाद में राष्ट्रपति बने ! बड़ी रोचक है कहानी !


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

चौधरी साहब ताउम्र ग़रीबों, किसानों, नौजवानों और वंचितों की आवाज़ बने रहे : यज्ञेन्दु

चौधरी अजीत के बेटे जयंत ने दी सोशल मीडिया से जानकारी देश भर के नेताओं ने भावभीनी...

वैक्सीनेशन के पश्चात् मिलने वाले सर्टिफिकेट पर पीएम की फोटो नहीं लगाने वाला बयान अत्यन्त शर्मनाक : राजेन्द्र राठौड़

राजस्थान में ऑक्सीजन का कोटा 100 मीट्रिक टन बढ़ाकर 280 मीट्रिक टन से 380 मीट्रिक टन किया है ...

प्रदेश युवा कांग्रेस ने “सेवा दिवस” के रुप में मनाया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्मदिन

प्रदेश के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर, फल, भोजन, मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण कार्यक्रम पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर  राजस्थान...

केन्द्र सरकार द्वारा दी जा रही सहायता से गहलोत सरकार जनता को दे राहत : सांसद रामचरण बोहरा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और केंन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से की मुलाकात कोरोना आपदा प्रबंधन, रेमेडिसिवर...

कोरोना मरीजों और उनके परिजनों के लिए प्रदेश युवा कांग्रेस ने शुरू की ‘जनता रसोई’

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा "कोई भूका ना सोए" को आगे बढ़ाते हुए को खाना उपलब्ध करवाने का लिया संकल्प पोल...