क्या बिहार में युवा नेता चिराग, तेजस्वी, कन्हैया, पीके और पीसी हो पाएंगे पास ?

बिहार में युवा नेता बनाम बुजुर्ग की लड़ाई चल रही है?

0
750

बिहार में २०२० के अंत में विधान सभा का चुनाव होना. जिसके लिए अभी से कुछ दल तैयारी में लग गये हैं. कई दल अपनी जीत का दावा भी कर रहे हैं. लेकिन ऐसे में कई युवा नेता है जो पूरी तरह से ताल ठोंक रहे है. कई को तो अपनी राजनीतिक विरासत भी बचानी है और कई को दूसरे की खत्म करनी भी है. ऐसे में कई युवा नेता है. आइये सबसे पहले बात करते हैं चिराग पासवान, तेजस्वी यादव, कन्हैया कुमार, पीके और पीसी के बारे में. जो सभी चर्चा में बने हैं.

जमुई से सांसद चिराग पासवान अपने पिता रामविलास पासवान के साथ.

लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान दो बार से जमुई से लगातार सांसद है. लगातार जमुई में इनकी पकड़ बनती जा रही है. लोजपा भले ही लोक सभा के चुनाव में बेहतर कर रही है लेकिन विधान सभा चुनाव में पिछड़ जाती है. इसके लिए चिराग को अधिक मेहनत करनी और सूझबूझ दिखानी होगी. पिछले महीने उन्हें रामविलास पासवान ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया है. अब इनकी जिम्मेदारी भी बढ़ गई है. लगता है इसी दबाव के चलते कभी-कभी बड़ा बयान भी दे जाते हैं.

तेजस्वी यादव, नेता प्रतिपक्ष , बिहार

बिहार के दूसरे बड़े युवा चेहरा हैं तेजस्वी यादव. तेजस्वी यादव को राजद ने बड़ी जिम्मेदारी दे दी है. मगर पिछले वर्ष से अब तक कई सारे चुनाव और उपचुनाव बिहार में हुए जिसमें तेजस्वी सही तरीके से पास होते हुए नजर नहीं आये. अब क्या वो राजद को आगे ले जाने में सफल होते हैं या नहीं यह देखने वाली बात होगी ? अब तेजस्वी यादव के हाथ में लालटेन की पूरी कमान है. तेजप्रताप की बात इसलिए नहीं कर रहा हूँ क्योंकि तेजप्रताप ने खुद इस लड़ाई से अपने को दूर कर लिया है.

प्रशांत किशोर, राजनीतिक रणनीतिकार

अब इन दिनों प्रशांत किशोर भी मैदान में हैं. साथ ही कन्हैया कुमार भी इस दौड़ में शामिल होने का पूरा प्रयास कर रहे हैं. क्या वो शामिल हो पायेगे या नहीं मगर उनका प्रयास जारी है. एक और नई नेत्री मैदान में आ चुकी हैं. उनका नाम है पुष्पम प्रिया चौधरी. इन सभी में यह देखना है कि कौन पास होता है और कौन फेल ?


Leave a Reply