Up Mlc Election 2022: मतदान से पहले ही बीजेपी के 9 एमएलसी बने, जाने बिना मतदान कैसे जीते विधान परिषद चुनाव ?

Up Mlc Election 2022

0
28
UP Vidhan Parishad Elections

  • बसपा और कांग्रेस ने चुनाव का मैदान छोड़ा
  • सपा और भाजपा में आमने सामने की टक्कर

पोल टॉक नेवटर्क | लखनऊ

उत्तर प्रदेश विधान परिषद (Up Mlc Election 2022) की खाली हुई 36 सीटों में से शनिवार को 27 सीटों पर मतदान किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश की खाली हुई 36 सीटों में से 9 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी के उमीदवार निर्विरोध की एमएलसी चुन लिए गए जिससे वहां मतदान कराने की नौबत ही नहीं आयी।

निर्विरोध चुने गये एमएलसी के नाम

उत्तर प्रदेश विधान परिषद (Up Mlc Election 2022) के चुनाव में बीजेपी के 9 एमएलसी निर्विरोध जीते है। उनमें मिर्जापुर-सोनभद्र सीट से श्याम नारायण सिंह उर्फ विनीत सिंह का नाम शामिल है। विनीत सिंह के सामने दो प्रत्याशी और थे लेकिन चुनाव से ठीक पहले सपा उम्मीदवार रमेश सिंह यादव ने अपना पर्चा वापस ले लिया। वहीं, निर्दलीय चुनाव लड़ रहे प्रेमचन्द के नामाकंन पत्र में कमियां पाए जाने के कारण पर्चा निरस्त कर दिया गया। जिसके चलते श्याम नारायण सिंह उर्फ विनीत सिंह निर्विरोध एमएलसी घोषित कर दिए गए।

अलीगढ़-हाथरस सीट से भाजपा के चौधरी शिवपाल सिंह निर्विरोध चुने गए। इस सीट से समाजवादी पार्टी से जसवंत सिंह यादव ने अपना नामांकन दाखिल किया था लेकिन बीजेपी की शिकायत पर उनके तीन प्रस्तावकों में से एक प्रस्तावक हस्ताक्षर मिलान करने न पहुँच सका जिसके चलते सपा प्रत्याशी का नामांकन रद्द कर दिया गया।

एटा-कासगंज-मैनपुरी और मथुरा, इन चारों जिलों को मिलाकर दो एमएलसी चुने जाते हैं। जहां एटा से आशीष यादव और मथुरा से ओम प्रकाश सिंह निर्विरोध एमएलसी चुने गए हैं। समाजवादी पार्टी ने एटा से उदयवीर सिंह और मथुरा से राकेश यादव एमएलसी उम्मीदवार बनाया था लेकिन दोनों ही प्रत्याशियों सहित एक निर्दलीय प्रत्याशी के पर्चे तकनीकी खामियों के कारण खारिज हो गए।

बांदा-हमीरपुर एमएलसी चुनाव में भाजपा प्रत्याशी जितेंद्र सिंह सेंगर ने निर्विरोध एमएलसी चुने हए। जितेंद्र सिंह सेंगर के सामने कुल 8 उम्मीदवारों में नामांकन किया था लेकिन उनमें से 5 उम्मीदवारों का नामांकन पत्र ख़ारिज हो गया। वहीं मैदान में बचे तीन प्रत्याशियों में सपा प्रत्याशी आनंद और निर्दलीय अतुल कुमार ने अपना नामांकन वापस ले लिया। जिसके चलते बीजेपी उमीदवार निर्विरोध एमएलसी चुने गए।

बदायूं से भाजपा के बागीश पाठक निर्विरोध एमएलसी निर्वाचित किए गए। बदायूं से समाजवादी पार्टी से प्रत्याशी सिनोद कुमार शाक्य ने अपना नाम वापस ले लिया जिसके बाद बीजेपी उम्मीदवार बिना मतदान के ही चुनाव जीत गए।

हरदोई जिले में स्थानीय निकाय की विधान परिषद सीट पर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी अशोक अग्रवाल निर्विरोध चुनाव जीते हैं। इस सीट पर अशोक अग्रवाल के साथ ही सपा से रजीउद्दीन ने पर्चा दाखिल किया था। नामांकन वापसी की अंतिम तिथि पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रजीउद्दीन ने अपना नाम वापस ले लिया।

लखीमपुर-खीरी भाजपा के अनूप गुप्ता एमएलसी पद पर निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं। लखीमपुर-खीरी की इस सीट से एमएलसी पद के लिए 4 प्रत्याशियों में पर्चा भरा था। जिसमें समाजवादी पार्टी के अनुराग पटेल, बीजेपी से अनूप गुप्ता और दो निर्दलीय प्रत्याशी शामिल थे। दोनों निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपना नाम चुनाव से वापस ले लिया जबकि बीजेपी उम्मीदवार की शिकायत के बाद सपा उम्मीदवार के पर्चे में खामियां पाई गयीं और उनका नामांकन रद्द पर दिया गया।

बुलंदशहर-गौतमबुद्ध नगर विधान परिषद सदस्य की सीट से भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र भाटी निर्विरोध निर्वाचित हुए। इस सीट से  4 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था, जिसमें सपा आरएलडी गठबंधन से पार्टी प्रत्याशी सुनीता शर्मा ने पर्चा दाखिल किया था और दो अन्य निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी पर्चा दाखिल किया था। दोनों निर्दलीय प्रत्याशियों के नामांकन में त्रृटि होने के चलते उनका पर्चा रद्द कर दिया गया जबकि गठबंधन उम्मीदवार ने अपना नाम वापस ले लिया था। जिसके  बीजेपी के प्रत्याशी नरेंद्र भाटी निर्विरोध विधान परिषद सदस्य चुने गए।


Leave a Reply