आगरा में भाजपा ने चौराहे पर लगाया विज्ञापन, विरोध करने पर आप जिलाध्यक्ष को किया गया नजरबंद, एक जून तक मामला टला

आगरा में भाजपा का चौराहे पर लगाये गये विज्ञापन का मामला अब तूल पकड़ लिया है. इसका विरोध हो रहा है. इसी कड़ी में आगरा के आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष कपिल वाजपेयी ने विज्ञापन को गलत तरीके से लगाए जाने का विरोध किया.

0
767
kapil vajapy
इसी विज्ञापन को लेकर हुआ है विवाद.

  • आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष कपिल वाजपेयी ने विज्ञापन को गलत तरीके से लगाए जाने का विरोध किया
  •  आप के जिलाध्यक्ष को ही घर में नजरबंद कर दिया गया

आगरा. आगरा में भाजपा का चौराहे पर लगाये गये विज्ञापन का मामला अब तूल पकड़ लिया है. इसका विरोध हो रहा है. इसी कड़ी में आगरा के आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष कपिल वाजपेयी ने विज्ञापन को गलत तरीके से लगाए जाने का विरोध किया. आप ने इसके खिलाफ आन्दोलन की चेतावनी दे डाली. लेकिन उलटे आप के जिलाध्यक्ष को ही घर में नजरबंद कर दिया गया. उनके मकान के सामने पुलिस बैठा दी गई. लेकिन बाद में मामला शांत हुआ और अब इसकी चर्चा पूरे जिले में हो रही है.

kapil vaj[ayee
कपिल वाजपेयी के घर पर बैठी पुलिस.

नेता कितने सोशल : अखिलेश यादव से इस मामले में बहुत पीछे हैं योगी आदित्यनाथ और मायावती !

जानिए क्या था पूरा मामला

भारतीय जनता पार्टी द्वारा हरी पर्वत चौराहे पर कोरोना पेड़ लगाया गया है. चबूतरे की सीढ़ी पर तिरंगा बनाया गया था. इसी बात का विरोध हुआ. 28 मई को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत आम आदमी पार्टी जिला आगरा ने आँदोलन की बात की थी. आप का आरोप है कि जो पेड़ लगाया गया है उसपर विज्ञापन किया गया है. गोल टापू के पायदान पर तिरंगे की पट्टियां कर दी थी उसके विरोध में आम आदमी पार्टी के द्वारा विरोध प्रदर्शन की चेतावनी दी गई थी. जिसमें सबसे पहले इस आपत्ति को प्रशासन ने संज्ञान में लिया और भाजपा इकाई से तत्काल सफेद रंग तिरंगा पट्टियों पर करके अपनी गलती को सुधार कर दिया। आप का कहना है कि अभी भी प्रतिबंधित एमजी रोड पर भारतीय जनता पार्टी का विज्ञापन हो रखा है जो लॉक डाउन में नियम तोड़कर किया गया है.

बड़ी पहल : केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPF) की कैंटीनों पर अब सिर्फ स्वदेशी उत्पादों की ही बिक्री होगी : अमित शाह

सौंपा गया ज्ञापन

आप के जिलाध्यक्ष कपिल बाजपेई ने पोलटॉक को बताया कि उनके निवास पर आगरा के सेक्टर-1 बोदला में उन्हें नजरबंद किया गया. नजरबंदी के दौरान यह बात चेक की गई कि प्रशासन की तरफ से एसीएम तृतीय महेंद्र जी एक ज्ञापन लेंगे और उन्होंने आश्वस्त भी किया जो वहां पर गलत हुआ है. उसको व्यवस्थित करने का और सही करने का काम भी करेंगे. आप ने कहा कि अगर 1 जून तक यह व्यवस्था सही नहीं हुई तो धरना दिया जाएगा. ज्ञापन देने वालों में रमजान अब्बास, योगेश उपाध्याय, दिलीप वर्मा, रामसेवक धाकरे ,योगेश कुमार, भानु प्रताप सिंह, राजकुमार भारती ,आरपी वर्मा साथी उपस्थित रहे.

आत्मनिर्भरवीर : मोहम्मद अली फतह ने आंवले की बागवानी से बदली दी सैकड़ों किसानों की जिन्दगी


Leave a Reply