Full Story Of Shrikant Sharma: श्रीकांत शर्मा क्रिकेटर बनना चाहते थे लेकिन इस घटना ने करा दी राजनीति में एंट्री

श्रीकांत शर्मा को पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पद के साथ-साथ मीडिया सेल की जिम्मेदारी सौंपी जिसे श्रीकांत शर्मा ने बखूबी निभाया था।

0
38
shrikant sharma jeevan parichay

  • योगी की पहली सरकार में श्रीकांत शर्मा को मिली थी बड़ी जगह
  • श्रीकांत को इस बार कैबिनेट से रखा गया है दूर

पोल टॉक नेटवर्क | लखनऊ

योगी सरकार के पहले कार्यकाल में उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री रहे श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) यूपी की राजनीति में पहचान के मोहताज नहीं हैं। बचपन से क्रिकेटर बनने का सपना देखने वाले श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) की किस्मत को कुछ और ही मंजूर था और किस्मत ने उन्हे सियासत की गलियों की तरफ मोड़ दिया। श्रीकांत शर्मा का चेहरा उत्तर प्रदेश की राजनीति में अन्य के मुकाबले उतना पुराना भले ही न हो लेकिन संघर्षरत रहा है।

श्रीकांत शर्मा का जन्म 1 जुलाई 1970 को उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में हुआ। उनके पिता राधा रमन शर्मा और माता शारदा देवी दोनों का स्वर्गवास हो चुका है। श्रीकांत शर्मा के पिता पेशे से अध्यापक थे और संघ के सदस्य थे। श्रीकांत शर्मा के परिवार में उनके अलावा उनकी पत्नी शालिनी शर्मा और उनके दो बच्चे शुभम और सार्थक हैं। श्रीकांत शर्मा ने प्रारंभिक शिक्षा मथुरा में ही पूरी की। प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद श्रीकांत शर्मा ने आगे की पढाई के लिए दिल्ली का रुख किया। दिल्ली के पीजीडीएवी कॉलेज से राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएशन किया।

श्रीकांत शर्मा का ऐसा रहा है राजनीतिक सफर

दिल्ली के पीजीडीएवी कॉलेज में ग्रेजुएशन की पढ़ाई के दौरान वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े। श्रीकांत शर्मा 1989 से 1990 के दौर में राजनीति में सक्रिय हुए। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा चलाए जा रहे “कश्मीर चलो” आंदोलन में उन्होंने हिस्सा लिया। इस दौरान श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura )गिरफ्तार भी किए गए। श्रीकांत शर्मा 1991–92 में  पीजीडीएवी कॉलेज में छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए थे। उसके बाद उन्हें भारतीय जनता युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया। श्रीकांत शर्मा के लिए यह वह समय था जिस समय उन्होंने एक कुशल संगठनकर्ता के तौर पर अपनी पहचान भारतीय जनता पार्टी ने बनाई थी।

1993 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) ने एक संगठनकर्ता के तौर पर बीजेपी के लिए शानदार काम किया। जिसके बाद उन्हें आगे आने वाले चुनावों में मीडिया प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गई। 2014 में भारतीय जनता पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष अमित शाह ने श्रीकांत शर्मा को पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पद के साथ-साथ मीडिया सेल की जिम्मेदारी सौंपी जिसे श्रीकांत शर्मा ने बखूबी निभाया था।

2017 में पहली बार बने कैबिनेट मंत्री

श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) ने 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर मथुरा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। इस चुनाव में श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) ने कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार प्रदीप माथुर को एक लाख से ज्यादा वोटों के अंतर से हराया। 2017 में योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्रिमंडल में श्रीकांत शर्मा (shrikant sharma mathura ) को जगह दी गई और श्रीकांत शर्मा को ऊर्जा विभाग का कैबिनेट मंत्री बनाया गया। 2022 के विधानसभा चुनाव में श्रीकांत शर्मा ने एक बार फिर से मथुरा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की . हालांकि, इस बार उन्हें योगी कैबिनेट से दूर रखा गया है।


Leave a Reply