विधायकों में आतंक व दहशत का वातावरण पैदा करना अलोकतांत्रिक है : राजेंद्र राठौड़

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर यह लिखना की 'एसओजी को जो कांग्रेस विधायक दल ने बीजेपी नेताओं द्वारा खरीद-फरोख्त की शिकायत की थी उस संदर्भ में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, चीफ व्हिप एवम अन्य कुछ मंत्री व विधायकों को सामान्य बयान देने के लिए नोटिस आए हैं। कुछ मीडिया द्वारा उसको अलग ढंग से प्रस्तुत करना उचित नहीं है' से सिद्ध होता है कि मुख्यमंत्री जो स्वयं गृह विभाग के प्रभारी मंत्री भी है, अपनी ही जांच एजेंसी का बेजा इस्तेमाल करते हुए खुद को नोटिस दिए जाने के बहाने से उपमुख्यमंत्री व अन्य मंत्रीगण व विधायकों को एसओजी द्वारा अपमानित करवाने का षड्यंत्र कर रहे हैं।

0
626
राजेंद्र राठौड़ , उपनेता प्रतिपक्ष , राजस्थान विधान सभा !
राजेंद्र राठौड़ , उपनेता प्रतिपक्ष , राजस्थान विधान सभा !

  • राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर बोला हमला
  • यह पहली घटना है कि जब किसी मुख्यमंत्री को उसके ही अधीनस्थ पुलिस विभाग द्वारा नोटिस दिया गया

पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर यह लिखना की ‘एसओजी को जो कांग्रेस विधायक दल ने बीजेपी नेताओं द्वारा खरीद-फरोख्त की शिकायत की थी उस संदर्भ में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, चीफ व्हिप एवम अन्य कुछ मंत्री व विधायकों को सामान्य बयान देने के लिए नोटिस आए हैं। कुछ मीडिया द्वारा उसको अलग ढंग से प्रस्तुत करना उचित नहीं है’ से सिद्ध होता है कि मुख्यमंत्री जो स्वयं गृह विभाग के प्रभारी मंत्री भी है, अपनी ही जांच एजेंसी का बेजा इस्तेमाल करते हुए खुद को नोटिस दिए जाने के बहाने से उपमुख्यमंत्री व अन्य मंत्रीगण व विधायकों को एसओजी द्वारा अपमानित करवाने का षड्यंत्र कर रहे हैं। देश के इतिहास में यह पहली घटना है कि जब किसी मुख्यमंत्री को उसके ही अधीनस्थ पुलिस विभाग द्वारा नोटिस दिया गया हो।

बड़ी खबर : राजस्थान में रहेगी कांग्रेस की सरकार, बस अध्यक्ष पद की लड़ाई है !

राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इशारे पर दो गुमनाम भाजपा मतदाताओं की आपसी बातचीत को विधायकों की खरीद-फरोख्त व सरकार को गिराने की साजिश करार करते हुए गिरफ्तार करके आलाकमान को अपने राजनीतिक प्रबंधन को प्रमाणित सिद्ध किए जाने का कुत्सित प्रयास करना निंदनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है।

बिग एक्सक्लूसिव : अशोक गहलोत कैबिनेट में बदलाव जल्द और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी बदलेंगे ! ये हैं संभावित नाम !

राठौड़ ने कहा कि गत 19 जून को प्रदेश की 3 सीटों पर संपन्न हुए राज्यसभा चुनाव में तीन निर्दलीय विधायकों के साथ 7 सितारा होटल में 10 दिन तक मिजाजपुर्सी करने वाली सरकार उन्हें अपने इशारे पर नचाने में नाकामयाब होने पर उनके खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में प्राथमिकता दर्ज करवाकर विधायकों में आतंक व दहशत का वातावरण पैदा करना अलोकतांत्रिक कृत्य है।

आखिर कौन गिराना चाहता है Ashok Geglot की सरकार ?

राठौड़ ने कहा कि सत्ता में बैठी कांग्रेस सरकार अपने ही मंत्रिमंडल व विधायकों में अंतर्विरोध की वजह से स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रही है और भाजपा पर अनर्गल व मनगढ़त आरोप लगाकर वैश्विक महामारी कोरोना में अपनी नाकामी को छिपाने का असफल प्रयास कर रही है। जबकि हकीकत यह है उनका खुद का घर ही सुरक्षित नहीं है।

लॉकडाउन-4 के लिए 18 मई के पहले पूरी जानकारी दी जाएगी : पीएम मोदी

राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रजातांत्रिक मूल्यों के अवमूल्यन का नया अध्याय लिख रहे हैं। भाजपा कभी सरकार बनाने व गिराने के खेल में शामिल नहीं हुई है। अगर कोई सरकार अपने अंतर्कलह की वजह से गिर जाती है तो इसमें हम कुछ नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आत्मचिंतन करना चाहिए कि आखिरकार प्रदेश में ऐसे हालात कैसे उत्पन्न हो गए या जानबूझकर उत्पन्न किए गए कि किसी सरकार की अधीनस्थ जांच एजेंसी की ओर से ही शासन में विराजमान मंत्रियों व विधायकों को जांच के लिए नोटिस दिया जा रहा हो।

LIVE UPDATE : 20 लाख करोड़ रुपए का आर्थिक पॅकेज की घोषणा : पीएम नरेंद्र मोदी


Leave a Reply