अधिकारी से मुख्यमंत्री बनने वाले अरविन्द केजरीवाल का राजनीतिक सफर

अरविंद केजरीवाल (CM ARVIND KEJRIWAL) का जन्म हरियाणा के भिवानी जिले के सिवानी में अगस्त 1968 को हुआ था. केजरीवाल ने अपनी शिक्षा सन्

0
338
मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल
मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल

  • अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के तीन बार सीएम बने 
  • वाराणसी से 2014 का लोकसभा का चुनाव हार गये 

पोल टॉक नेटवर्क | दिल्ली 

अरविंद केजरीवाल (CM ARVIND KEJRIWAL) का जन्म हरियाणा के भिवानी जिले के सिवानी में अगस्त 1968 को हुआ था. केजरीवाल ने अपनी शिक्षा सन् 1989 में आईटी खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग से डिग्री लेकर और बाद में टाटा स्टील में काम करने से किया। सन् 1993 में परीक्षा देकर भारतीय राजस्व सेवा में शामिल हो गए। सन् 1999 में नागरिकों से जुड़े मामलों – आय-कर, बिजली और खाद्य राशन में सहायता कर एक गैर सरकारी संगठन,परिवर्तन की स्थापना की।

सन् 2006 में केजरीवाल (CM ARVIND KEJRIWAL) आय कर विभाग में संयुक्त आयुक्त के रूप में अपनी नौकरी को छोड़ दिया और पुरस्कार राशि के साथ एक कोष बनाया और पब्लिक काज रिसर्च फ़ाउंडेशन नामक एक गैर सरकारी संगठन की स्थापना की। सन् 2012 में अपने विचारों से प्रेरित हो कर भ्रष्टाचार और भारतीय लोकतंत्र की स्थिति पर स्वराज नामक एक पुस्तक को प्रकाशित किया।

26 नवंबर 2012 को अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की शुरुआत करी, यह 2011 के बाद से एक जन लोक-पाल बिल की मांग कर रहे लोकप्रिय इंडिया अगेन्सट करप्शन आंदोलन का राजनीतिकरण कराने या करने के संबंध में और अन्ना हज़ारे के बीच मतभेद के बाद इसका अस्तित्व बढ़ा। जिसमें कि हज़ारे चाहते थे कि आंदोलन को राजनीति रूप से निरंकुश बना रहना चाहिए,जबकि केजरीवाल को यह महसूस होता कि, आंदोलन की विफलता के कारण प्रत्यक्ष राजनीति भागीदारी की आवश्यकता होती है।

सन् 2013 में केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनाव में इन्होंने अपनी चुनावी शुरुआत की, और 70 सीटों में से 28 सीटें जीतकर दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर आगे बढ़ी। सन् 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में शानदार जीत के लिए केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी का नेतृत्व किया और 14 फरवरी 2015 को दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली और कार्यभार संभालने शुरू किया।


Leave a Reply