Home जनसरोकार कोरोना के लिए लॉकडाउन : प्रकृति ने दिया बड़ा संदेश, यह मानवहित...

कोरोना के लिए लॉकडाउन : प्रकृति ने दिया बड़ा संदेश, यह मानवहित में जरूरी


मानव की पाषाणकाल से लेकर वर्तमान में लॉकडाउन युग की यात्रा बड़ी विचित्र रही है। अक्सर यह बताया जाता है कि प्रगति रेखीय होती है परन्तु यदि प्रगति प्रकृति के नियमों में अनुरूप न हो तो यह हमेशा चक्रीय ही होती है। प्रकृति हमें वापस उसी जगह लाकर पटक देती है जहाँ से हम यात्रा प्रारम्भ करते हैं।

जालंधर से दिखता हिमालय
हिमालय की तरफ प्रदूषण कम हुआ.

गुफा युग की वापसी इस बाद की तस्दीक करती है कि निश्चय ही प्रकृति हमें पुनः उसी जगह वापस लाना चाहती है. जहाँ से हमने सभ्यता की शुरुआत की थी पर जैसे जैसे यात्रा बढती गयी हम निरंतर जाहिल होते गये और जाहिलियत इतनी बढ़ी कि धरती का अस्तित्व ही खतरे में डाल दिया। आज हम घरों में उसी तरह दुबक कर बैठे हैं जैसे आदि मानव अपनी गुफाओं में दुबक कर रहता था।

बड़ी खबर : तबलीगियों ने आखिर क्यों चुनी ट्रेन, नहीं गए प्लेन से ?

यह मनुष्य के निरंतर जाहिल होने का प्रमाण है कि धरती को गंदा कर, मानव का मानव के प्रति घृणा बढाकर अपने को सभ्य होने का खोखला प्रलाप करता रहा। मनुष्य ने ऐसे अनेकानेक अनावश्यक डर, सुविधाएं, व्यवस्थाएं और विचारधाराएँ बनाई जिसके भार को थामने को ही वह अपना सामर्थ्य समझता रहा।

बड़ी खबर : कोरोना के 11 लाख से अधिक केस, मगर इन तीन देशों में हैं 5 लाख से अधिक मामले

आज जब लोग घर में हैं एक दूसरे की देखभाल कर रहे हैं आस पास के लोगों की सहायता कर रहे हैं तब यह समझ में आता है कि हम जिसे होशियारी समझ कर अपने सीने से चिपकाए थे वह तो मात्र कूड़े का एक ढेर था। जिस गंगा यमुना के सफाई के लिए अरबों रूपये खर्च कर दिए गये, तमाम संसाधन होम कर दिए गये वो तो बिना किसी प्रयास के मात्र दस दिन गंदगी न फेंकने की वजह से स्वच्छ हो रही हैं। अस्पतालों में , शमशानों और कब्रिस्तानों में दुर्घटना एवं बीमारी की वजह से मरने वालों की संख्या में कमी आई है।

दिल्ली में यमुना साफ दिख रही है
दिल्ली में यमुना का पानी साफ दिख रहा है.

पारिवारिक ताने बाने, नाते रिश्ते मजबूत हुए हैं। हवायें दुर्गंध छोड़ कर ताजगी महक रही हैं। सबसे खूबसूरत बात जिसका जिक्र 1854 में एक अंग्रेज ने किया था वह यह है कि जालंधर के लोगों को उनके जीवन काल में पहली बार अपने घर की छतों से हिमालय की चोटियां साफ दिखाई दे रही हैं, रात में चमकते तारों और चन्द्रमा को देखकर फिर से माताएं दूध कटोरा की लोरी याद करने लगी हैं।

हिमाचल पूरी तरफ स्वच्छ हुआ
हिमाचल की वादियाँ साफ़ हो चुकी है.

उत्तराखंड में हाथी, नोएडा के ग्रेट इंडिया प्लेस में नीलगाय, बरसों बाद उड़ीसा के तट पर दिन में भी अपने अंडों के पास आते ऑलिव रिडली कछुए, चंडीगढ़ में कुलांचे भरते सांभर, मुंबई के मरीन ड्राइव और मालाबार हिल्स पर ख़ुशी से उतराती डॉल्फिन, सड़कों पर मस्ती करते एन्डेंजर्ड सिवेट और पक्षियों की चहचाहट वापस लौट आई है।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के कहने पर कन्हैया कुमार ने पीएम केयर फंड में दिया 501 रुपया

प्रकृति शायद आखिरी बार मनुष्य को मौक़ा देना चाहती है और इसीलिए वह अपने तरीके से यह संदेश देे रही है कि मानव अपनी कुत्सित लिप्सा से मुक्त होकर आनंद पूर्वक जीवन की तरफ लौटे। अब धरती पर और अत्याचार नहीं धरती सबकी जरूरत को पूरा कर सकती है पर किसी एक के लालच को नही।

हिमालय दिख रहा है
कोरोना की वजह से लोग घरों में बैठे हैं और पर्यावरण ठीक हो रहा है .

हमें अपनी जरूरतों को पहचानना होगा। याद रखिये जरूरत से ज्यादा उपभोग धरती पर केवल और केवल दबाव ही बढ़ाता है। आपके द्वारा किया गया अपरिग्रह और प्राकृतिक नियमों के अनुकूल जीवन यापन ही मानव सभ्यता को आगे जीवित रख सकता है। यदि हम प्रकृति के इस सन्देश को नही समझे तो उत्तर कोरोना काल के बाद धरती पर पेड़ पौधे नदियाँ पहाड़ सभी मौजूद होंगे पर मनुष्य नही होगा।

पवन विजय
डॉ पवन विजय, एसोसिएट प्रोफेसर डेल्ही इंस्टीटूट ऑफ रूरल डेवलपमेंट, इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
दिल्ली

(यह आलेख डॉ पवन विजय, एसोसिएट प्रोफेसर डेल्ही इंस्टीटूट ऑफ रूरल डेवलपमेंट, इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
दिल्ली ने लिखा है).


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...