CORONA UPDATE : ‘आगरा मॉड्यूल’ बनाम बेमि‍साल ‘नवीन मॉड्यूल ‘ की पूरी हकीकत

आगरा ! आगरा नगर नि‍गम के मेयर नवीन जैन ने उप्र शासन के मुखि‍या को पत्र लि‍खकर जो अभूतपूर्व कारनामा कि‍या है वह अपने आप में 'नवीन मॉड्यूल' और वैसा उनकी पार्टी में अब तक कोई नहीं दि‍खा सका है। इस वजह से सर्वत्र प्रशंसा के पात्र बने जैन से हो सकता है कि‍ उनकी पार्टी में ही नेतृत्‍व के कुछ लोग परेशान हों कि‍न्‍तु आम भाजपाई बेहद खुश हैं। आगरा में भारतीय जनसंघ के समय से दीन दयाल उपाध्‍यायजी के प्रति‍ आस्‍थावान एक से बडा एक दि‍ग्‍गज अब तक मेयर का पद सुशोभि‍त कर चुका है कि‍न्‍तु अपनी ही पार्टी की राज्‍य सरकार की बद इंतजामि‍यों से सीधे दो-दो हाथ कर लेने की हि‍म्‍मत जैन ही दि‍खा सके हैं।

0
1076
AGRA CITY
आगरा शहर और ताजमहल.

आगरा ! आगरा नगर नि‍गम के मेयर नवीन जैन ने उप्र शासन के मुखि‍या को पत्र लि‍खकर जो अभूतपूर्व कारनामा कि‍या है वह अपने आप में ‘नवीन मॉड्यूल’ और वैसा उनकी पार्टी में अब तक कोई नहीं दि‍खा सका है। इस वजह से सर्वत्र प्रशंसा के पात्र बने जैन से हो सकता है कि‍ उनकी पार्टी में ही नेतृत्‍व के कुछ लोग परेशान हों कि‍न्‍तु आम भाजपाई बेहद खुश हैं। आगरा में भारतीय जनसंघ के समय से दीन दयाल उपाध्‍यायजी के प्रति‍ आस्‍थावान एक से बडा एक दि‍ग्‍गज अब तक मेयर का पद सुशोभि‍त कर चुका है कि‍न्‍तु अपनी ही पार्टी की राज्‍य सरकार की बद इंतजामि‍यों से सीधे दो-दो हाथ कर लेने की हि‍म्‍मत जैन ही दि‍खा सके हैं।

पालघर : मारने वालों में 9 बच्चे भी शामिल, कुल 110 लोग हिरासत में, गृह मंत्री ने बताया था 101 !

स्‍व. रमेश कात लगवानि‍यां से लेकर अब तक एक से बढकर एक दि‍ग्‍गज भाजपा की राजनीति‍ में रहे कि‍न्‍तु जैन जैसी सफाईगोई की हि‍म्‍मत शायद ही कि‍सी में कभी रही हो। सबसे बडी बात यह है कि‍ जैन ने मुख्‍यमंत्री को लि‍खे पत्र में जो कहा उसे आगरा की जनता में अपनी आवाज के रूप में मान्‍य कि‍या गया। जो कि‍सी भी राजनेता के अपनी राजनीति‍ की परकाष्‍ठता पर पहुंच जाने का द्योतक माना जा सकता है। जनचर्चा में है कि‍ मेयर पर दो ही रास्‍ते थे जि‍नमें से एक था ,हाथ में फौगि‍ग मशीन लेकर लेकर ‘स्‍प्रे ‘ कर कई अन्‍य की तरह जनप्रशंसा की जुगाड करते घूमें या फि‍र पटरी से उतरे सि‍स्‍टम को दुबारा से सही दि‍शा में अग्रसर करने के लि‍ये लि‍खा पढी या भागदौड करें। जो भी हो नगर प्रमुख के पत्र ने अपना मकसद पूरा कर दि‍या ,इसमें सबसे बडा काम सत्‍तादल के हतोत्‍साहि‍तों का मनेबल बढना है। जबकि‍ दूसरा उन लोगों का भ्रम तोडना रहा जो कि‍ मान रहे थे कि‍ ‘माननीय ‘मैनेज करके मनमानी चलाते रहेंगे।

पालघर : जूना अखाड़े के साथ आये योगी, CM योगी ने उद्धव ठाकरे से की कठोर कार्रवाई की मांग

सि‍वि‍ल सोसायटी इस पूरे घटनाक्रम को उन नेताओं के लि‍ये अनुकरणीय मानती है कि‍ पार्टी अनुशासन से भयाक्रांत रहते हैं और सरकारी व्‍यवस्‍था से पोषि‍त तंत्र की मानमानी खामोशी अख्‍ति‍यार कि‍ये रहते हैं। वैसे तत्‍काल तो नहीं कि‍न्‍तु जनता को जल्‍दी ही स्‍वयं आभासि‍त हो जायेगा कि‍ जैन की बेबाक अभि‍व्‍यक्‍ति‍ को उप्र शासन अनदेखा नही कर सकेगा। कोरोना संक्रमण रोने को अब तक प्रचलि‍त ‘ आगरा मॉड्यूल’ से पूरी तरह से नि‍जात न भी दि‍लवा सके कि‍न्‍तु-कि‍न्‍तु प्रभारी मंत्री के रूप में ‘ बे-असर ‘ साबि‍त हुए उप-मुख्यमंत्री दि‍नेश शर्मा से तो ताज सि‍टी को मुक्‍ति‍ दि‍लवायेगा ही।

यूपी के CM YOGI ने 20 अप्रैल से यूपी की स्वास्थ्य व्यवस्था, शिक्षा और कृषि पर लिया बड़ा निर्णय

ANIL SHARMA
अनिल शर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता, आगरा.

{यह आलेख अनिल शर्मा का है }.

 


Leave a Reply