Home अंदर की बात आतिफ रशीद की रसोई से महीने भर से हजारों लोगों को मिल...

आतिफ रशीद की रसोई से महीने भर से हजारों लोगों को मिल रहा भोजन


लॉकडाउन (lockdown) में सैकड़ों लोग हर जगह फंसे हैं. दिल्ली में सैकड़ों छात्र भी फंसे हैं. ऐसे में दिल्ली के आतिफ रशीद हैं जो हजारों लोगों को भोजन खिला रहे हैं. ये भाजपा (BJP) के नेता है. राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग सदस्य के सदस्य हैं. आतिफ रशीद ट्वीट किया है ‘ लॉकडाउन के दौरान जनता रसोई को आज 32 वां दिन है सभी साथी रोज़ा भी रख रहे हैँ और ज़रूरतमंद लोगों के लिए खाना भी तैयार कर रहे हैँ इसी उम्मीद के साथ की हम अपने मुल्क में कोरोना को ज़रूर हराएंगे लॉकडाउन का पालन कर के और हमसे जितना होगा उतना किसी को भूखा नहीं रहने देंगे।

जब मैंने 3 करोड़ रूपये दे दिया तो अब 23 लाख रूपये की क्या जरूरत है : MLA रमेश चन्द्र मिश्र

आतिफ कहते हैं, हम कुल 10 दोस्त है। हमारी आदत है कि जब हम घूमने जाते हैं तो खाना खुद बनाते हैं। शराब हममें से कोई पीता नहीं, इसलिए जायके के सभी मुरीद है। हम खुद ही हांडी पर बनाकर खाते हैं। सभी दोस्तों की राय थी कि हम खाना बनाकर खिलाएंगे। बस फिर क्या था, हमने अपने एक दोस्त के खाली पड़े मकान के थर्ड फ्लोर पर खाना बनाने के लिए, सेकेंड फ्लोर को डिलीवरी करने वाले पांच दोस्तों एवं ग्राउंड पर मदद मांगने वालों की जानकारी नोेट करने के लिए प्रयोग किया।

लॉकडाउन : जयपुर में प्रशासन ने 400 पैकेट राशन का वितरण नहीं करने दिया : BJP सांसद

सिर्फ वेज ही क्यों…
आतिफ कहते हैं, जब सारी तैयारियां हो गई तो हमने एक वीडियो वायरल किया। हाजीकालोनी, गफ्फार मंजिल, जसोला, जाैहरी फार्म, ओखला में वायरल वीडियो में हमने लोगों से कहा कि हम घर पर खाना पहुंचाएंगे। पहले दिन हमनें 100 लोगों का खाना बनाया था, 70 लोगों ने फोन कर खाना मंगवाया। हम प्रोफेशनल नहीं है, इसलिए बहुत टेस्टी तो नहीं बनाते। लेकिन हां, दिन में एक टाइम भरपेट खाना शाम पांच बजे तक पहुंचाते हैं। पहले दिन जो कॉल आए उसमें 16 हिंदू भाईयों के थे। उसी दिन हमनें तय किया कि नॉनवेज नहीं बनाएंगे। हम किसी दिन राजमा चावला, मटर चावल, छोले चावल, सोयाबीन चावल, मिक्स वेज चावल बनाते हैं। हम सुबह 11 बजे से खाना बनाना शुरू करते हैं। खाना बनाकर पहुंचाने में रात आठ-नौ बज ही जाते हैं।

लॉकडाउन एक्सक्लूसिव : राजस्थान का यह विधायक इस बार नहीं भर पाया अपने गाड़ी की क़िस्त, अपनी अंगूठी तक CM कोष में कर दिया दान

करीब 20 हजार लोगों की मदद
आतिफ कहते हैं कि पहले दिन 70 लोगों के फोन आए, अगले दिन 300 लोगों ने फोन किया। लेकिन एक हफ्ते के अंदर ही प्रतिदिन 600 लोगों का फोन आने लगा। संख्या तो अभी भी रोज ही बढ़ रही है लेकिन हमारी अपनी कुछ सीमाएं है। हमने पास इन्हीं इलाकों का बनवाया है। हम दस ही लोगों का समूह है। हम किसी से कोई चंदा नहीं लेते। तीन दोस्तों ने पैसा लगाया है जबकि बाकि दोस्त शारीरिक श्रम दे रहे हैं। मेरा विचार है कि शारीरिक श्रम पैसे से कहीं ज्यादा कीमती है। वो भी इस समय, जब घर की दहलीज लांघन में भी खतरा है।

LOCKDOWN : ‘लालू की रसोई’ से बिहार में सैकड़ों लोगों को मिल रही वेज बिरियानी

आंखें नहीं मिलाते…
हमसे मदद मांगने वाले 95 फीसद लोग सम्पन्न घराने से हैं। वो सिर्फ हालात से मजबूर है। करीब 200 जामिया के छात्र है जो अपने किसी दोस्त या जानकार के घर फंसे हुए है। इसमें इंजीनियरिंग, एमबीए, एमएसडब्ल्यू, लॉ आदि करने वाले छात्र है। इनका कहना है कि रोज बिस्कुट और मैगी खाकर बीमार हो रहे हैं। हम इन तक खाना पहुंचाते हैं, लेकिन चूंकि ये खुद्​दार लोग है, इसलिए हम आंख नहीं मिलाते। सिर्फ मकान के नीचे पहुंच जाते हैं, फोन कर देते हैं। ये उपर से रस्सी लटकाते हैं, हम खाना देकर चले आते हैं। एक बार हम एक गली में एक मदद मांगने वाली महिला का पता किसी से पूछ रहे थे। महिला ने कहा कि आप हमारे पड़ोसी से ही मेरा पता पूछ रहे थे। उन्हेें पता चल जाएगा…मैं आपसे खाना नहीं ले सकती। उसके बाद से हम ऐसे लोेगों के घर के दरवाजे पर खाना, राशन की थैली टांग देते और फोन करते…..ऊपर वाले ने आपके लिए राशन भेजा है।

एक्सक्लूसिव : रामायण के राम अरुण गोविल इसलिए नहीं बन पाए सांसद जबकि सीता, रावण और हनुमान बन गए थे सांसद

हिंदू-मुस्लिम सभी मिलकर मदद कर रहे
हम जिन्हें खाना पहुंचाते हैं, वाे हमारी मदद कर रहे हैं। एक छात्र ने एक दिन हमसे कहा कि वो मदद करेगा। हमने कहा कि ठीक है, आपकी कालोनी में हम कुल 11 छात्रों को खाना देने आते हैं। अब सरिता विहार में आपको दे देंगे, आप बाकि छात्रों तक पहुंचा देना। इसी तरह जुलैना में एक परिवार मदद को आगे आया। हमनें उनसे भी कहा कि आप बाकियों तक खाना पहुंचाकर मदद कर सकते हैं। बकौल आतिफ यह मुश्किल दौर है। लेकिन हम मिलकर सामना करेंगे तो कट जाएगा।

(ज्योंकात्यों ब्लॉग स्पॉटकॉम के एडिटर को जैसा अतीफ रसीद ने बताया है ).


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...