डिंपल यादव आजमगढ़ लोकसभा सीट से लड़ेंगी उपचुनाव ! अखिलेश यादव ने दिए संकेत

0
22

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मैनपुरी की करहल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। अखिलेश यादव विधायक चुने जाने से पहले आजमगढ़ से सांसद थे। वही करहल सीट जीतने के बाद अखिलेश यादव ने संसदीय सीट छोड़ दी और सांसद पद से इस्तीफा दे दिया।

अखिलेश यादव के सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद आजमगढ़ लोकसभा सीट खाली हो गयी जहाँ उप चुनाव कराया जायेगा। अखिलेश यादव लगभग ढाई साल तक आजमगढ़ सीट से सांसद रहे। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने आजमगढ़ सीट से चुनाव लड़ा था तब अखिलेश यादव के सामने भारतीय जनता पार्टी ने भोजपुरी सिनेमा के स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को मैदान में उतारा था। दिनेश लाल यादव निरहुआ चुनाव भले ही हार गए थे लेकिन अखिलेश यादव के गढ़ में अपनी अच्छी छाप छोड़ी थी।

डिम्पल यादव लड़ सकती हैं उप चुनाव 

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर जब उप चुनाव होंगे तो ऐसा माना जा रहा कि समाजवादी पार्टी अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव को चुनावी रण में उतार सकती है। डिम्पल यादव की उम्मीदवारी को लेकर जब अखिलेश यादव से सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफ़ शब्दों में तो कोई जवाब नहीं दिया लेकिन अखिलेश यादव ने जवाब देते हुए कहा था कि पार्टी जो भी फैसला लेगी, मंजूर होगा।  अखिलेश यादव के इस बयान से यह समझा जा रहा है कि डिंपल यादव आजमगढ़ से सपा उम्मीदवार हो सकती हैं।

डिम्पल ने पहले भी है अखिलेश यादव की जगह 

अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव इससे पहले भी अखिलेश यादव की जगह चुनाव लड़ चुकीं हैं। 2009 के लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने फिरोजाबाद और कन्नौज लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। अखिलेश यादव ने दोनों सीटों से जीत हासिल की थी। इसके बाद अखिलेश यादव ने फिरोजाबाद की सीट छोड़ दी थी। फिरोजाबाद सीट पर हुए उप चुनाव में समाजवादी पार्टी से डिम्पल यादव मैदान में उतरी थीं। हालाँकि तब उन्हें कांग्रेस पार्टी के राज बब्बर से चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था।

2012 में मुख्यमंत्री बनने के बाद अखिलेश यादव ने कन्नौज की सांसदी छोड़ दी थी। इसके बाद कन्नौज में हुए उपचुनाव में सपा ने डिंपल को चुनावी मैदान में उतारा। तब वह निर्विरोध चुनाव जीत गई थीं। 2014 के लोकसभा चुनाव में डिम्पल यादव ने मोदी लहार होने के बाद भी जीत हासिल की थी। वहीँ 2019 के लोकसभा चुनाव में डिंपल यादव ने एक बार फिर से कन्नौज सीट से चुनाव लड़ा हालाँकि इस चुनाव में उन्हें बीजेपी के सुब्रत पाठक ने हराया था।


Leave a Reply