Home अंदर की बात डूंगरपुर में वागड़ी भाषा में ई-कॉमिक के माध्यम से लोगों में कोरोना...

डूंगरपुर में वागड़ी भाषा में ई-कॉमिक के माध्यम से लोगों में कोरोना के प्रति प्रकाश फैला रहे हैं आलोक


पोलटॉक में इंटर्नशिप कर रहे अश्विन सोलंकी की ख़ास रिपोर्ट …

कोरोना के प्रति सही जानकारी अभी लोगों तक नहीं पहुँच पाई है. इसके लिए सरकार और सामाजिक संस्थाएं खूब काम कर रही हैं. लेकिन कुछ लोक कलाकारों ने भी इसपर काम किया है. चाहे उन्होंने पेंटिंग का सहारा लिया हो या कॉमिक्स का या एमी माध्यमों से वो जागरूक कर रहे हैं. इसी कड़ी में राजस्थान के डूंगरपुर जिले में आलोक शर्मा ने कोरोना के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए एक अनूठी पहल शुरू की है. वागड़ी भाषा में ई-कॉमिक बुक प्रकाशित की है। कॉमिक बुक सभी को पसंद आ रही है. इसके चित्र और कहानी लोगों को खूब अच्छे लग रहे हैं. कॉमिक बुक की इसी खासियत का सदुपयोग अब कोरोना के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए किया जा रहा है।

रिसर्च स्टोरी : लॉकडाउन ने जयपुर के होटल्स और ट्रेवल्स को राजा से बनाया ‘रंक’ , डेढ़ साल बाद भी उबरने की नहीं है संभावना

अलोक शर्मा
ई-कॉमिक बुक लिखते अलोक शर्मा.

आलोक शर्मा की कॉमिक वागड़ी भाषा में “कोरोना थकी लड़वू है, घर मां रेवू है” है जिसका अर्थ होता है ‘कोरोना से लड़ना है, घर में ही रहना है। इस कॉमिक बुक में स्थानीय भाषा और लहजे के साथ-साथ रोचक कहानी और चित्रों के माध्यम से लोगों को कोरोना के खतरे और इससे बचने के उपाय बताए गए है। इस कॉमिक की खास बात यह है कि इसके चित्रों में स्थानीय जनजाति के रहन-सहन, घर और बोली के एलिमेंट डाले गए है। इससे न केवल स्थानीय भाषी लोगों को प्रस्तुत कर पाती है बल्कि उन्ही के जैसे पात्रों से उनका मन मोह लेती है।

कोरोना असर : राजस्थान के गुलाबी पर्यटन में अपने लाएँगे ‘बहार’, सरकार कर रही बड़ी तैयारी

आलोक शर्मा को इस कॉमिक को बनाने में विभिन्न लोगों ने सहयोग किया है। आलोक शर्मा चित्रकला में तो माहिर हैं लेकिन उन्हें वागड़ी भाषा नहीं आती थी जिसमे विनय पुंजोत, रमीला प्रजापत, संजय डामोर, सिद्धार्थ डिंडोर, और हरीश चंद्र ने इनकी मदद की है। डिजिटल कलरिंग में उनका सहयोग मानवी शर्मा ने किया है।

ग्रामीण क्षेत्र में हर व्यक्ति को रोजगार की गारंटी दी जाये : अरुणा रॉय

आलोक शर्मा डूंगरपुर में स्कूल में कला विषय को पढ़ाते है। पूर्व में भी वह ऐसी ही कईं कलात्मक चीज़ों के माध्यम से जनजागृति के चित्र बना चुकें है वह चित्रों के जरिए समाज को जागरूक दिखाने की कोशिश करते हैं. कोरोना महामारी के समय इनकी इस कोशिश ने राजस्थान के कई आला अधिकारियों और नेताओं से वाहवाही पाई है और स्थानीय प्रशासन ने इन्हें सराहा है। वागड़ी भाषा राजस्थान के डूंगरपुर, बांसवाड़ा और सीमावर्ती गांवों में बोली जाती है। इन दोनों शहर के लोग महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश के साथ गल्फ देशों में भी रोजगार की करते हैं। इनमें से कईं लोगों ने कोरोना संक्रमण के दौरान जिलें में वापसी की थी जिससे यहाँ कोरोना से कई लोग पॉजिटिव पाए गए है। यहां कोरोना मरीजों की कुल संख्या 60 से ज्यादा है।

ग्राम पंचायतों पर गठित कोर ग्रुप में सरपंचों की घोर उपेक्षा करना गैर प्रजातांत्रिक : राजेन्द्र राठौड़

कॉमिक बुक और जागरूकता के अन्य माध्यमों से इस महामारी से बचा जा सकता है। आलोक शर्मा बताते हैं कि “कोरोना वायरस के खतरे के बीच आज यह हम सभी की परीक्षा है कि हम एक अच्छे नागरिक सिद्ध हों। इसी दिशा में यह चित्र कथा एक छोटा सा प्रयास है। इस चित्र कथा का सारांश यह है कि हम अनुशासित रहते हुए एक जिम्मेदार नागरिक की तरह व्यवहार करें।”

CORONA UPDATE : प्रयोगशाला सहायकों को अतिशीघ्र नियुक्ति दें सरकार : राजेन्द्र राठौड़


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...