Etah Lok Sabha Seat Profile: एटा सीट से बीजेपी ने जीता है 6 बार चुनाव, देखें एटा लोकसभा सीट का इतिहास 

Etah Lok Sabha history: एटा लोकसभा सीट पर अब तक भारतीय जनता पार्टी ने 6 बार जीत हासिल की है। वहीं कांग्रेस का 1980 के बाद से खाता नहीं खुल पाया है।

0
80
Etah Lok Sabha history

महान सूफी संत अमीर खुसरो की जन्मभूमि एटा का राजनीतिक और ऐतिहासिक दृष्टि से भी इसका महत्व है। कहा जाता है कि एटा का नाम पूर्व में ऐंठा हुआ करता था, जिसका अर्थ होता है ग्रता के साथ जवाब देना। हालांकि धीरे-धीरे इसका नाम बदल कर एटा हो गया। एटा संसदीय सीट उत्तर प्रदेश के चर्चित लोकसभा सीटों में शुमार है। आईये एटा जिले की एटा लोकसभा सीट के इतिहास और राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में जानते हैं।

एटा लोकसभा क्षेत्र और मतदाता 

एटा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत 5 विधानसभा क्षेत्र आते हैं जिसमें अमनपुर, एटा, कासगंज, मारहरा और पटियाली शामिल है। एटा जिले का कुल क्षेत्रफल 2,456 वर्ग किलोमीटर है। यहा की जनसंख्या, 2011 की जनगणना के अनुसार 131,023 है। जिसमें से 69,446 पुरुष और 61,577 महिलाएं हैं। यहां प्रति 1000 पुरुषों पर 863 महिलाएं हैं।

एटा की औसत साक्षरता दर 85.62 प्रतिशत है। यहांं पुरुष साक्षरता दर 73 प्रतिशत और महिला साक्षरता दर 63 प्रतिशत है। यहां यादव और राजपूतों की संख्या बहुत ज्यादा है।एटा सीट पर कुल 16 लाख 7 हज़ार 290 वोटर अपने मत का प्रयोग करेंगे। जिनमें पुरूष मतदाताओं की संख्या 8 लाख 70 हज़ार 601 है। जबकि महिला वोटरों की संख्या 7 लाख 36 हज़ार 641 है। वहीं ट्रांस जेंडर वोटरों की संख्या 48 है। एटा लोकसभा क्षेत्र में लोध, यादव और शाक्य जातीय बहुल है।

एटा लोकसभा सीट का इतिहास 

एटा लोकसभा सीट पर सबसे पहले 1952 में चुनाव हुआ था। पहले चुनाव में कांग्रेस पार्टी से रोहनलाल चतुर्वेदी एटा सीट से पहले सांसद चुने गए थे। हिंदू महासभा ने साल 1957 और 1962 में जीत दर्ज की थी। उसके बाद साल 1967 और 1971 का चुनाव जीत कांग्रेस ने यहां से वापसी की। लेकिन 1977 में चली कांग्रेस विरोधी लहर में चौधरी चरण सिंह की भारतीय लोकदल ने बड़े अंतर से जीत दर्ज की थी। कांग्रेस पार्टी को एटा सीट पर 1980 के चुनाव में यहां से आखिरी बार जीत मिली थी।

1984 में लोक दल के जीत दर्ज करने के बाद एटा लोकसभा सीट भारतीय जनता पार्टी के खाते में आ गयी। भारतीय जनता पार्टी ने 1989, 1991, 1996 और 1998 के चुनाव में लगातार जीत हासिल की। बीजेपी के टिकट से महादीपक सिंह शाक्य ने चार बार लगातार जीत हासिल की थी। एटा सीट पर 1999 और 2004 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी से डॉ देवेन्द्र सिंह यादव ने चुनाव जीता। 2009 के लोकसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने भारतीय जनता पार्टी से अलग हो अपनी पार्टी बनाई और चुनाव में जीत भी हासिल की। 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में एटा लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के राजवीर सिंह ने जीत दर्ज की।

एटा लोकसभा सीट पर अब तक के सभी सांसद 
लोकसभावर्ष सेवर्ष तकनामपार्टी
पहली19521957रोहनलाल चतुर्वेदीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
दूसरी19571962बिशंचंदर सेठहिन्दू महासभा
तीसरी19621967बिशंचंदर सेठहिन्दू महासभा
चौथी19671971रोहनलाल चतुर्वेदीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पांचवी19711977रोहनलाल चतुर्वेदीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
छठवीं19771980महादीपक सिंह शाक्यभारतीय लोक दल
सातवीं19801984मुशीर अहमद खानभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (इंदिरा)
आठवीं19841989मोहम्मद महफूज़ अलीलोकदल
नौवीं19891991महादीपक सिंह शाक्यभारतीय जनता पार्टी
दसवीं19911996महादीपक सिंह शाक्यभारतीय जनता पार्टी
ग्यारहवीं19961998महादीपक सिंह शाक्यभारतीय जनता पार्टी
बारहवीं19981999महादीपक सिंह शाक्यभारतीय जनता पार्टी
तेरहवीं19992004डॉ देवेन्द्र सिंह यादवसमाजवादी पार्टी
चौदहवीं20042009डॉ देवेन्द्र सिंह यादवसमाजवादी पार्टी
पंद्रहवीं20092014कल्याण सिंहजन क्रांति पार्टी
सोलहवीं20142019राजवीर सिंहभारतीय जनता पार्टी
सत्रवीं2019अब तकराजवीर सिंहभारतीय जनता पार्टी

Leave a Reply