संस्मरण : जब मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि “अयोध्या से पवन चुनाव लड़ेगा”…

"अयोध्या से पवन चुनाव लड़ेगा"...मेरा टिकट हो गया था, नेता जी ने मुझे बुलाया और कहा कि, "पवन! जाओ अयोध्या से लड़ो और जीतो, जीतने के बाद अयोध्या के विकास और अयोध्यावासियों की सेवा में कोई कमी ना होने देना, मेरा मान सम्मान बचाए रखना"

0
110
pawan pandey with mulayam singh yadav
pawan pandey with mulayam singh yadav

  • मुलायम सिंह ने युवाओं को आगे लाने का काम किया
  • मुलायम सिंह ने अपने दांव से राजनीति में बनाई जगह

पोल टॉक नेटवर्क | लखनऊ

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव नहीं रहे. उनका कार्यक्षेत्र केवल यूपी ही नहीं बल्कि भारत में रहा. अयोध्या के पूर्व विधायक और सपा सरकार में मंत्री रहे पवन पांडेय (ex minister pawan pandey) ने अपनी यादें साझा किया है। उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर उस संस्मरण को शेयर किया है। पढ़िए वो पूरी बात.

मुझे आज भी याद है साल 2012 का वो पल, शायद वो मेरे लिए मुझे सबसे अचंभित कर देने वाला क्षण था जब माननीय नेता अखिलेश यादव जी को कहा था कि , “अयोध्या से पवन चुनाव लड़ेगा”…मेरा टिकट हो गया था, नेता जी ने मुझे बुलाया और कहा कि, “पवन! जाओ अयोध्या से लड़ो और जीतो, जीतने के बाद अयोध्या के विकास और अयोध्यावासियों की सेवा में कोई कमी ना होने देना, मेरा मान सम्मान बचाए रखना”…मैं अयोध्या में चुनाव लड़ता हूं, समाजवादी पार्टी की पूरी टीम की अथक मेहनत, और देवतुल्य अयोध्यावासियों के असीम सहयोग से चुनाव जीत जाता हूं, जीतने के बाद जब वापस लखनऊ पहुंचा, नेता जी ने मुझे देखते ही पास बुलाया… गले लगाया।

मुझे उस पल एहसास ही ना हुआ की मेरा और नेता जी का रिश्ता एक नेता और और एक शिष्य का है, बल्कि नेता जी के गले लग कर मैंने एक अभिभावक पा लिया था, मैंने उस ऊंचाई को छुआ जहां का ख्वाब भी ना देखा था, मैंने महसूस किया था उस विशाल ह्रदय कि धड़कन को जिसकी आती जाती सांसों पर समाज के अंतिम व्यक्ति का अधिकार हो चुका था। मैं आज भी जब कभी अकेले में होकर अपने पुराने दिनों को याद करता हूं, मै जब भी समुद्र रूपी नेता जी के तल को छूने कि कोशिश करता हूं, मेरे कानों मे बार बार यही एक आवाज़ आती है, “जिसका जलवा कायम है, उसका नाम मुलायम है”।

आदरणीय नेता जी! आप वो पहलवान है जो कभी चित नहीं हो सकते, मेदांता में आपका यह संघर्ष हम सब देख रहे हैं, लेकिन एक अजेय योद्धा के लिए हम सब सिवाए दुआ/प्रार्थना के कर क्या सकते हैं ? हमे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि हमारे नेता, हमारे अभिभावक फिर से हॉस्पिटल से आकर हम सबका संघर्षों के लिए मनोबल बढ़ाएंगे।

जैसा पवन पांडेय ने अपने फेसबुक पर लिखा है.

 

 


Leave a Reply