मोदी नहीं योगी के लिए चुनौती बन रहे थे मनोज सिन्हा ! ये हैं पूरी कहानी ?

राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास का कार्यक्रम सफल रहा. मंच से पीएम नरेन्द्र मोदी ने सीएम योगी आदित्यनाथ की खूब तारीफ़ भी की. ये सभी बातें इस तरफ इशारा कर रही है कि अब योगी आदित्यनाथ का ग्राफ भाजपा में बढ़ता जा रहा है. अब मोदी के लिए नहीं बल्कि योगी की लिए चुनौती बनने वाले नेता हाशिये पर होंगे। मनोज सिन्हा और कलराज मिश्रा इसके सबसे बड़े उदाहरण है. उत्तर प्रदेश की राजनीती में जो भी दिग्गज भाजपाई नेता योगी के लिए चुनौती बनता दिखा वो अब यूपी की राजनीति से बाहर हो जायेगा। संकेत तो यही मिल रहे हैं. सिन्हा मोदी नहीं योगी के लिए चुनौती बन रहे थे.

0
1065
पूर्व केद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा
पूर्व केद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा

  • वर्ष 2019 में गाजीपुर से हार गए थे लोकसभा का चुनाव
  • योगी और सिन्हा में मनमुटाव की कई बार आती रही खबरें
  • कलराज के बाद अब मनोज को यूपी की राजनीति से किया गया बाहर

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास का कार्यक्रम सफल रहा. मंच से पीएम नरेन्द्र मोदी ने सीएम योगी आदित्यनाथ की खूब तारीफ़ भी की. ये सभी बातें इस तरफ इशारा कर रही है कि अब योगी आदित्यनाथ का ग्राफ भाजपा में बढ़ता जा रहा है. अब मोदी के लिए नहीं बल्कि योगी की लिए चुनौती बनने वाले नेता हाशिये पर होंगे। मनोज सिन्हा और कलराज मिश्रा इसके सबसे बड़े उदाहरण है. उत्तर प्रदेश की राजनीती में जो भी दिग्गज भाजपाई नेता योगी के लिए चुनौती बनता दिखा वो अब यूपी की राजनीति से बाहर हो जायेगा। संकेत तो यही मिल रहे हैं. सिन्हा मोदी नहीं योगी के लिए चुनौती बन रहे थे.

सरकार के पास बहुमत होता तो होटल में तमाशा नहीं होता : सतीश पूनियां

कलराज और मनोज सिन्हा दोनों गाजीपुर से हैं. जब 2019 का चुनाव कलराज ने नहीं लड़ा तो उनके जानने वाले कहने लगे थे कि हो सकता है इन्हें राज्यसभा में भेज दिया जाय.मगर जब उन्हें राजस्थान का राज्यपाल बनाया गया तो इस बात पर मुहर लग गई कि कलराज को यूपी की राजनीति से बाहर कर दिया गया है. कलराज और मनोज सिन्हा दोनों पूर्वांचल से आते हैं. और योगी अदित्यानाथ भी उसी क्षेत्र से आते हैं. जानकर बता रहे हैं कि योगी के लिए भविष्य में कलराज और मनोज सिन्हा दोनों यूपी के लिए चुनौती दे रहे थे. इन दोनों नेताओं की लीडरशिप भी उम्दा रही है.

बिहार में बाढ़ है, नाव पर युवराज सवार है, जनता परेशान है

पीएम नरेंद्र मोदी की उम्र 70 साल होने वाली है. कलराज की उम्र 80 होने वाली है कलराज अटल जी के समय में उनके ख़ास रहे. उन्हें कई जिम्मेदारी दी गई थी. मनोज सिन्हा की उम्र भी मात्र 61 साल है. और योगी आदित्यनाथ की उम्र मात्र 48 साल है. उम्र के हिसाब से अभी मनोज सिन्हा सक्रिय राजनीति में फिट बैठते हैं. मगर उन्हें यूपी की राजनीती से बाहर कर दिया गया है. अब योगी को चुनौती देने वाला निकट में कोई नहीं दिखता है. पूर्वांचल से दोनों बड़े नेता बाहर हो गये हैं.

RAJASTHAN की इस लोकसभा और विधानसभा सीट पर 31 साल से मां और बेटे का कब्जा

मनोज सिन्हा को मोदी का करीबी भी बताने का प्रयास लोग करते हैं. मगर मोदी सरकार आने के बाद से मनोज सिन्हा को कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं दी है. उन्हें कैबिनेट मंत्री भी नहीं बनाया गया. जिस मोदी मंत्रिमंडल में नये नये नेताओं को कैबिनेट मंत्री बनाया गया उसी मोदी कैबिनेट में मनोज सिन्हा को राज्यमंत्री ही बनाया गया. फिर लोग क्यों करीबी कहते हैं ? करीबी जो थे या हैं वो प्रमुख की भूमिका में हैं.

कांग्रेस विधायकों को जैसलमेर किया जायेगा शिफ्ट, चार्टर प्लेन से होंगे रवाना , दो रिसॉर्ट बुक

संघ से नहीं जमती मनोज सिन्हा की ? जानकार बनाते हैं कि मनोज सिन्हा की आरएसएस से नहीं बैठती है. उन्हें इसीलिए किनारे किया जाता रहा है. लोकसभा चुनाव् में इन्हें हार का सामना करना पड़ा. और यही से इनका मामला पलट गया. चुनाव के दौरान योगी से इनकी नाराजगी भी सामने आई थी. मनोज सिन्हा को लोग यह मानकर चल रहे थे कि उन्हें जीत मिलेगी। लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

RAJASTHAN के विस अध्यक्ष सीपी जोशी का BJP ने माँगा इस्तीफा

योगी ने दी बधाई। राष्ट्र सेवा हेतु समर्पित जननेता, कुशल प्रशासक व संगठनकर्ता श्री @manojsinhabjp जी को केंद्र शासित प्रदेश ‘जम्मू-कश्मीर’ का उपराज्यपाल नियुक्त किए जाने पर हार्दिक बधाई। मुझे विश्वास है कि आपके नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में विकास के नए मानक स्थापित होंगे। मेरी शुभकामनाएं!

जब 25 साल पहले कलराज मिश्र ने राजभवन में दिया था धरना…जानिए पूरी कहानी


Leave a Reply