Home राजनीति से इतर LATEST UPDATE नहीं रहे यूपी के 'मिनी मुलायम' पारसनाथ यादव

नहीं रहे यूपी के ‘मिनी मुलायम’ पारसनाथ यादव


  • दो बार मंत्री, सांसद और सात बार विधायक रहे पारसनाथ यादव हैं
  • 2012 में प्रदेश में सपा की में वह विधायक बने और मंत्री चुने गए

संतोष कुमार पाण्डेय | जौनपुर 

यूपी के जौनपुर जिले की अगर बात की जाए और समाजवादी पार्टी का नाम लिया जाए तो एक नेता का ही नाम सबसे ऊपर आता है, वह कोई और नहीं दो बार मंत्री, सांसद और सात बार विधायक रहे पारसनाथ यादव (parasnath yadav mla) हैं। लेकिन अब पारसनाथ यादव नहीं रहे. उनका शुक्रवार को निधन हो गया. अभी मल्हनी से सपा के विधायक थे. पूरे पूर्वांचल में उनसे बड़ा सपा का चेहरा कोई नज़र नहीं आता है। जब भी सपा की सरकार बनी वह मुलायम सिंह के सबसे करीबी होने की वजह से वह मंत्री बने।

अगर उनकी सियासत की पारी की बात की जाए तो वह समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य भी हैं जब जनता दल से टूटकर समाजवादी पार्टी बनी तभी से वह मुलायम सिंह के करीबी माने जा ते रहे हैं। अगर उन्हें शिवपाल के बाद मुलायम सिंह का सबसे करीबी माना जाए तो यह गलत नहीं होगा। अब बात कर लें जौनपुर में उनके सियासी कद की तो वर्ष 2012 में वह विधायक बने और मंत्री चुने गए। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान डॉक्टर के पी यादव को सपा ने लोकसभा उम्मीदवार के तौर पर सदर सीट से उम्मीदवार घोषित कर दिया था।

पारसनाथ यादव इससे पहले सपा के सांसद रह चुके थे इसलिए उनको टिकट ना मिलना उन्हें उनका सियासी कद को घटाता हुआ नजर आने लगा। मुलायम सिंह से अच्छे तालमेल की वजह उन्होंने ऐन मौके पर लोकसभा की उम्मीदवारी अपने पक्ष में कर वा ली। एक बार फिर वह लोकसभा उम्मीदवार के तौर पर मैदान में थे वहीं के पी यादव ने सपा का दामन छोड़कर आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया। हालांकि, पारसनाथ यादव चुनाव नहीं जीत पाए इसके बावजूद उनका कद कम ना हुआ। 2017 के विधानसभा चुनाव में वह एक बार फिर मल्हनी विधानसभा से विधायक चुने गए भाजपा की आंधी में भी उनका जनाधार कम ना हुआ। वह सात बार विधायक रहे हैं दो बार मंत्री बनाए गए कैबिनेट के और दो ही बार सांसद चुने गए हैं।

बात अगर उनके परिवार की की जाए तो उनकी पत्नी बरसठी ब्लॉक की प्रमुख रही उनके निधन के बाद उनकी बहू ने इस कुर्सी पर कब्जा जमाया। उनका एक बेटा जिला पंचायत सदस्य भी है। ऐसा नहीं है कि सपा में जिले में कोई और बड़ा नेता नहीं है लेकिन पारसनाथ यादव के आगे सभी का कद छोटा नजर आता है। इसकी एकमात्र वजह है उनका मुलायम सिंह से बेहद करीब रहना।

 

 


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

चौधरी साहब ताउम्र ग़रीबों, किसानों, नौजवानों और वंचितों की आवाज़ बने रहे : यज्ञेन्दु

चौधरी अजीत के बेटे जयंत ने दी सोशल मीडिया से जानकारी देश भर के नेताओं ने भावभीनी...

वैक्सीनेशन के पश्चात् मिलने वाले सर्टिफिकेट पर पीएम की फोटो नहीं लगाने वाला बयान अत्यन्त शर्मनाक : राजेन्द्र राठौड़

राजस्थान में ऑक्सीजन का कोटा 100 मीट्रिक टन बढ़ाकर 280 मीट्रिक टन से 380 मीट्रिक टन किया है ...

प्रदेश युवा कांग्रेस ने “सेवा दिवस” के रुप में मनाया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्मदिन

प्रदेश के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर, फल, भोजन, मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण कार्यक्रम पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर  राजस्थान...

केन्द्र सरकार द्वारा दी जा रही सहायता से गहलोत सरकार जनता को दे राहत : सांसद रामचरण बोहरा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और केंन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से की मुलाकात कोरोना आपदा प्रबंधन, रेमेडिसिवर...

कोरोना मरीजों और उनके परिजनों के लिए प्रदेश युवा कांग्रेस ने शुरू की ‘जनता रसोई’

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा "कोई भूका ना सोए" को आगे बढ़ाते हुए को खाना उपलब्ध करवाने का लिया संकल्प पोल...