Home राजनीति से इतर LATEST UPDATE सीओ और विकास दुबे में 22 साल पुरानी थी अदावत , सीओ...

सीओ और विकास दुबे में 22 साल पुरानी थी अदावत , सीओ से विकास था परेशान !


  • उज्जैन से कानपुर आते समय एसटीएफ को उसने बताये कई राज
  • कल्याणपुर थाने में देवेंद्र मिश्रा थे सिपाही, विकास को किये थे बंद

संतोष कुमार पांडेय | सम्पादक

विकास दुबे बिल्हौर और कानपुर में पहले भी चर्चित रहा है लेकिन उसकी चर्चा तब ज्यादा हुआ जब उसने 8 पुलिस वालों पर हमला कर दिया। इस हमले में 8 पुलिस वाले शहीद हो गये. अब विकास दुबे भी एनकाउंटर में मारा जा चुका है. जब वो उज्जैन से कानपुर सड़क मार्ग से आ रहा था उसने कुछ बातों का खुलासा किया था. आइये जानते है वो बातें। उसने बताया था 22 साल पहले उसकी सीओ देवेंद्र मिश्रा से लड़ाई हो चुकी थी. मसलन, देवेंद्र मिश्रा सीओ रहते हुए डेढ़ साल से विकास दुबे पर लगातार कार्रवाई कर रहे थे. विकास को लगा की सीओ देवेंद्र मिश्रा उसका एनकाउंटर कर देंगे।

यह था मामला

22 साल पहले देवन्द्र मिश्रा जब कल्याणपुर थान में सिपाही थे तो उनका और विकास का आमना-सामना हुआ था. उस दौरान दोनों एक दूसरे पर बंदूक तन दिए थे। लेकिन ट्रिगर किसी ने नहीं दबाया था. जानकारी के अनुसार इस दौरान देवन्द्र ने विकास को जमकर पीटा था. और विकास को लॉकअप में डाला दिया था. यह मामला पूरे क्षेत्र में लोग जानते हैं. दरअसल, 1998 में विकास दुबे बसपा के विधायक रहे हरे कृष्ण श्रीवास्तव के साथ रहने लगा. इसी बीच उसकी हनक क्षेत्र में बढ़ने लगी. विकास दुबे स्मैक की 30 पुड़िया और बंदूक के साथ गिरफ़्तार हुआ था.

योगी के तीन साल के शासन पर ‘भारी’ पड़ी विकास की कहानी !

थानेदार से भिड गया था विकास दुबे 

तत्कालीन थानेदार हरिमोहन यादव से विकास थाने में भीड़ गया था. उनके साथ मारपीट किया था. यह देखकर देवेंद्र मिश्रा विकास से भीड़ गए थे. तभी से इन दोनों में अदावत हो गई थी. उसने बताया कि जब देवेन्द्र मिश्रा को बिल्हौर का चार्ज मिला तो उसे पुरानी घटना याद आ गई. और वो चौबेपुर थाना इंचार्ज से सांठगांठ करने लगा. और उसे डर था सीओ उसका एनकाउंटर कर देंगे।

उस समय दो विधायकों ने उसे बचाया था

जब विकास दुबे थाने में बंद हुआ तो उसकी पैरवी करने के लिए उस समय के दो विधायक उसे बचाने आये थे.. भगवती सागर और राजाराम पाल थाने पहुंचकर उसकी पैरवी किये और जब बात नहीं बनी तो वहीँ धरने पर बैठ गए. फिर उसे छोड़ा गया.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...