आजमगढ़ में ‘रिक्शा वाला’ साइकिल वाले पर कैसे पड़ा भारी ? DINESH LAL YADAV KAISE JEETE

इसीलिए धर्मेंद्र यादव (dharmendra yadav) पहले दिन से ही मेहनत करने में लगे थे। लेकिन उन्हें अपने हार का अंदाजा नहीं रहा होगा। अब आइये बताता हूँ कैसे निरहुआ रिक्शा वाला ने धर्मेंद्र साईकिल वाले को कैसे चुनाव में हरा दिया है।

0
39
DINESH LAL YADAV
DINESH LAL YADAV

  • आजमगढ़ में भाजपा ने दुहराया इतिहास, जीत गए निरहू और हार गए धर्मेंद्र यादव
  • अखिलेश यादव ने नहीं किया प्रचार, गुड्डू जमाली ने खेला पूरा खेल

संतोष कुमार पांडेय | आजमगढ़

दिनेश लाल यादव उर्फ़ निरहुआ ( DINESH LAL YADAV ) ने आजमगढ़ से 11212 वोटों से जीत लिया है. आजमगढ़ से दूसरी बार दिनेश लाल उर्फ़ निरहुआ मैदान में थे. इस बार उन्हें जीत मिल जाएगी यह आसान नहीं थी। जिस तरीके से बसपा के प्रत्याशी शाह आलम गुड्डू जमाली (shah alam guddu jamali) ने आजमगढ (azamgarh) में माहौल बनाया था उससे यही लग रहा था कि सपा की राह आसान नहीं है. इसीलिए धर्मेंद्र यादव (dharmendra yadav) पहले दिन से ही मेहनत करने में लगे थे। लेकिन उन्हें अपने हार का अंदाजा नहीं रहा होगा। अब आइये बताता हूँ कैसे निरहुआ रिक्शा वाला ने धर्मेंद्र साईकिल वाले को कैसे चुनाव में हरा दिया है।

शाह आलम गुड्डू जमाली को मुबारकपुर में विधान सभा में हार मिली थी. उस समय चर्चा थी मुबारकपुर से सपा शाह आलम को मैदान में उतारेगी लेकिन ऐसे नहीं हुआ था. उसी समय सपा से इसका बदला लेने के लिए शाह ने तैयारी कर ली थी। यह बात आजमगढ़ में सभी को पता है। शाह की मजबूती से भाजपा को बढ़त मिल गई. निरहुआ के मैदान में आने से भाजपा को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. मुस्लिम और दलित का वोट दबाकर बंट गया. इसका फायदा बसपा और भाजपा दोनों को मिला।

सगड़ी विधानसभा सीट से भाजपा को सात हजार से अधिक वोट से लीड मिली है. पूर्व विधायक वंदना सिंह की मेहनत रंग लाई. दिनेश लाल यादव उर्फ़ निरहुआ यहां से मजबूती से आगे बढ़े. मेहनगनर में भी जमाली और धर्मेंद्र की लड़ाई में भाजपा को फायदा मिला है। आजमगढ़ सदर में भी भाजपा को जमाली की वजह से फायदा मिला है. गोपालपुर में भी यही हल रहा है. ऐसे में सपा को जीत न मिली। बसपा और सपा की लड़ाई में भाजपा को जीत मिल है. यूँ ही नहीं सपा को हार मिली है. इस तरीके से रिक्शा वाले ने साइकिल वाले धर्मेंद्र यादव को हरा दिया।


Leave a Reply