Home अंदर की बात खास ख़बर : गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय में उड़ रही है UGC...

खास ख़बर : गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय में उड़ रही है UGC के निर्देशों की धज्जियां


  • विश्वविद्यालय के कई विभागों के पीएचडी शोधार्थियों को इस पूरे वर्ष कोई फेलोशिप नहीं मिली हैं
  • सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि लॉकडाउन में किसी भी शोधार्थी की फेलोशिप ना रोकी जाए

रायपुर l गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय बिलासपुर में यूजीसी और एमएचआरडी के निर्देशों की खुलकर अवहेलना हो रही है। विश्वविद्यालय के कई विभागों के पीएचडी शोधार्थियों को इस पूरे वर्ष कोई फेलोशिप नहीं मिली हैं, जबकि आधा साल बीत चुका है। वहीं पीएचडी रेजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक डीआरसी की मीटिंग पूरे एक वर्ष बाद भी होती नहीं दिख रही. नियमानुसार यह मीटिंग छह माह में हो जानी चाहिए।

फेलोशिप के लिए शोधार्थी बार-बार अपने विभागाध्यक्ष, कुलपति और एमएचआरडी को भी मेल कर चुके हैं
हद तो यह है कि फेलोशिप के लिए शोधार्थियों को सीधा एमएचआरडी को मेल करना पड़ा था। उसके बाद कुछ ही विभागों की फेलोशिप 1.5 माह पूर्व आई थी। पर उसके उपरांत भी अभी भी कई विभागों के शोधार्थियों को फेलोशिप नहीं मिली है। ज्ञातव्य है कि इस विषय में सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि लॉकडाउन में किसी भी शोधार्थी की फेलोशिप ना रोकी जाए। इस विषय में कई बार शोधार्थी अपने विभागाध्यक्ष एवं प्रशासन में अन्य अधिकारियों से बात कर चुके हैं पर परिणाम शून्य ही निकला। लॉकडाउन में फेलोशिप ना मिलने के कारण शोधार्थियों को आर्थिक संकटों से जूझना पड़ रहा है।

छह माह में होने वाली डीआरसी मीटिंग का साल भर बाद भी कोई अता-पता नहीं

पिछले वर्ष अप्रैल माह में विश्वविद्यालय में पीएचडी में एडमिशन हुए थे। नियामानुसार छह माह बाद उनकी डीआरसी मीटिंग होनी थी जिसके उपरान्त उनका पीएचडी रेजिस्ट्रेशन होता। परन्तु अब साल भर बीत जाने बाद भी डीआरसी होने के कोई आसार नहीं है। विश्वविद्यालय के ही अध्यादेश के अनुच्छेद 7.1 के अनुसार कोर्सवर्क परीक्षा के परिणाम घोषित होने के 2 महीने के अंदर-अंदर डीआरसी की मीटिंग होनी अनिवार्य है। यह परिणाम घोषित होकर 1.5 महीना बीत चुका है पर डीआरसी की कोई घोषणा नहीं हो रही है।

लॉकडाउन (lockdown) को ध्यान में रखते हुए ही एमएचआरडी ने डीआरसी की मीटिंग ऑनलाइन करने का आदेश दिया था, जिसके बाद कई विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन डीआरसी भी की गई, पर गुरु घासीदास विश्वविद्यालय में इसपर कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। यहाँ यह बात भी ध्यान देने योग्य है कि इस वर्ष जून माह के अंत तक शोधार्थियों को आईसीएसएसआर जैसी प्रतिष्ठित फेलोशिप के लिए आवेदन देने की अंतिम तिथि है। ऐसे में यदि डीआरसी और रेजिस्ट्रेशन ना हुआ तो शोधार्थी कम से कम 1 वर्ष के लिए इस अवसर से चूक जायेंगे। स्पष्ट है कि समय रहते यदि विश्वविद्यालय प्रशासन सक्रिय हुआ होता तो अब तक समयानुसार डीआरसी हो गयी होती।


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...