लॉकडाउन में 84488 48 477 पर मिलाइये फोन और भारत में कहीं से मंगा लीजिये जरूरी सामान

भारत में जब लॉकडाउन चल रहा हो ऐसे में सभी सेवायें प्रभावित् हो रही हैं. वहीँ रेलवे बेहतर काम कर रही है. कहीं कोई परेशानी किसी को न आये इसके लिए नए प्रयोग शुरू किये जा रहे हैं. इसी कड़ी में प्रयागराज के रेलवे में सीनियर डीसीएम डॉ संचित त्यागी ने एक पहल शुरू की है.

0
1471
TRAIN
TRAIN

प्रयागराज : भारत में जब लॉकडाउन चल रहा हो ऐसे में सभी सेवायें प्रभावित् हो रही हैं. वहीँ रेलवे बेहतर काम कर रही है. कहीं कोई परेशानी किसी को न आये इसके लिए नए प्रयोग शुरू किये जा रहे हैं. इसी कड़ी में प्रयागराज के रेलवे में सीनियर डीसीएम डॉ संचित त्यागी ने एक पहल शुरू की है. जो बड़ी राहत भरी है. आइये जानते हैं सेतु क्या है ? कैसे काम करेगी। पढ़िए पोलटॉक की ये ख़ास रिपोर्ट!

सेतु
सेतु

भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर मायावती ने की ये बड़ी अपील

पूरे भारत में हो रहा है काम

डॉ संचित त्यागी (IRTS ) ने बताया कि दरअसल, रेलवे ने यह कदम लोगों की मदद के लिए उठाया है. अभी देश में कुल 184 पार्सल की ट्रेनें दौड़ रही हैं. जिनके माध्यम से इस पहल को बखूबी अंजाम दिया जा रहा है. जैसे पिछले दिनों में उदाहरण के तौर पर पिछले दिनों मुंबई में एक बच्चे को ऊंट का दूध चाहिए था. जो दिव्यांग (ऑटिस्टिक) बच्चा था. उसे राजस्थान से 20 लीटर दूध रेलवे की पार्सल सेवा के द्वारा भेजा गया. जहां पर सेतु ने कर दिखाया है. इसमें कोई परेशानी नहीं है. इसपर लगातार काम हो रहा है. मकसद है लॉकडाउन में किसी जरूरतमंद कोई परेशानी न हो बस यही है।

संचित त्यागी प्रयागराज के रेलवे में सीनियर डीसीएम डॉ संचित त्यागी
डॉ संचित त्यागी, सीनियर डीसीएम, प्रयागराज रेलवे.

LOCKDOWN : मध्यमवर्गीय परिवार के लिए सरकार कुछ नहीं कर रही, सबको साथ लेकर चले : सुरेन्द्र राजपूत

यहां करना होगा फोन और ट्वीट

भारत में कहीं भी कहीं से दवा और आवश्यक जरुरी सामान भेजना और मंगाना है तो @IRTSassociation पर ट्वीट करें और 84488 48 477 पर फोन करना होगा। जहां से आपको मदद मिलेगी। यहां पर जानकारी मिलने के बाद तुरंत कार्रवाई होती है. यहाँ पर रेलवे के 12 ट्रेनी अधिकारी हमेशा सेवा दे रहे हैं. यह एक ‘सेतु’ ‘SETU ‘है जो रेलवे के तंत्र और जिले के प्रशानिक तंत्र को और नजदीक लाता है। उसके माध्यम से मंडी की समितियां, किसान, दवाइयों , मास्क, पीपीई किट से जुड़े सभी लोगों इस श्रृंखला से जोड़ देगा।

LOCKDOWN : नहीं बजेगी शहनाई और मैरिज हाल रह जाएंगे उदास, अरबों रूपये का नुकसान, लाखों परिवारों पर आर्थिक संकट

करना क्या होगा ?

जैसे पहले पार्सल बुक होता था उसी तरीके से अभी भी हो रहा है. आपको सामान बुक कराने के लिए स्टेशन जाना होग़ा। सामान्य दिनों में जितना पैसा लगता था उतना ही लगेगा। इस बार बस लोगों की जरुरत के हिसाब से सामान उनके पास तक पंहुचाया जा रहा है। प्रयागराज से 60 किलो जरुरी दवाइयां बाँदा तक इस सेतु के मदद से ही पहुचायी गयीं। विभिन्न प्रशासनिक सेवाओं में इसकी चर्चा है। यह जिलाधिकारियों को विशेष रूप से पसंद आ रहा है.

जौनपुर में कोई परेशानी न आये इसके लिये 5 साल की सांसद निधि देने को तैयार : MP श्याम सिंह यादव


Leave a Reply