कभी की बैंक की नौकरी फिर मनमोहन सरकार में बने मंत्री, अब योगी के मंत्रिमंडल में हैं शामिल

0
183
jitin prasad wikipedia in hindi

पोलटॉक नेटवर्क | लखनऊ 

देश की राजनीति में अपनी पहचान रखने वाले जितिन प्रसाद का राजीतिक सफर दो दशक से अधिक का हो चला है। जितिन प्रसाद इस दौरा कांग्रेस से भाजपा तक का सफर भी तय कर चुकें हैं। जितिन प्रसाद मनमोहन सरकार में केंद्रीय राज्यमंत्री भी रहे। बेदाग छवि और ब्राह्मण चेहरे की पहचान रखने वाले जितिन प्रसाद वर्तमान ने उत्तर प्रदेश सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री हैं।

जितिन प्रसाद का जीवन परिचय 

जितिन प्रसाद का जन्म 29 नवंबर, 1973 को यूपी के शाहजहांपुर में हुआ। जितिन प्रसाद ने शुरूआती पढ़ाई देहरादून के दून स्कूल से की और आगे की पढ़ाई के लिए दिल्ली चले गए। जितिन प्रसाद ने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम ऑनर्स किया। बीकॉम करने के बाद उन्होंने आइएमआइ नई दिल्ली से एमबीए किया। एमबीए करने की बाद जितिन प्रसाद बैंक में नौकरी करने लगे। जितिन के दादा ज्योति प्रसाद कांग्रेस के नेता थे और उनकी दादी पामेला प्रसाद कपूरथला के रॉयल सिख परिवार से थीं। जितिन प्रसाद के पिता जितेंद्र प्रसाद कांग्रेस के उपाध्यक्ष और पूर्व कांग्रेसी प्रधानमंत्री राजीव गांधी के राजनीतिक सलाहकार रहे। जितिन प्रसाद की शादी फरवरी 2010 में पूर्व पत्रकार नेहा सेठ के साथ हुई।

जितिन प्रसाद का राजनीतिक सफर 

जितिन प्रसाद को परिवार पूर्ण रूप से राजनीतिक परिवार रहा है। जितिन प्रसाद को राजनीति अपने बाबा और पिता से विरासत के रूप प्राप्त हुई। जितिन प्रसाद ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 2001 से थी। 2001 में जितिन प्रसाद भारतीय युवा कांग्रेस के सेक्रेटरी चुने गए। इसके बाद 2004 में पहली बार जितिन प्रसाद ने अपने गृह जनपद शाहजहांपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। साल 2008 में पहली बार जितिन प्रसाद केन्द्रीय राज्य इस्पात मंत्री नियुक्त किए गए। जितिन प्रसाद के जीत का सिलसिला लगातार जारी रहा। 2009 के लोकसभा चुनाव में वह कांग्रेस के टिकट पर धौरहरा सीट से चुनाव लड़े और जीत हासिल की। इस बार उन्हें एक बार फिर मनमोहन सरकार में मंत्रिमण्डल में शामिल किया गया। 2009 से 2011 तक सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री रहे।

जितिन प्रसाद ने 2011-12 में मनमोहन सरकार में पेट्रोलियम मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाली। 2012 से 14 में वह मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री भी रहे। 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते जितिन प्रसाद चुनाव हार गए। 2014 में जितिन प्रसाद को बीजेपी की रेखा वर्मा से हार मिली थी। जितिन प्रसाद को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के करीबी माने जाते हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से धौरहरा सीट से चुनाव लड़ा लेकिन इस बार भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

साल 2021 में जितिन प्रसाद ने कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया और भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। 2022 के बाद लगातार दूसरी बार बनी योगी सरकार में जितिन प्रसाद को लोक निर्माण विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गयी।

रिपोर्ट- पत्रकार आदित्य कुमार 


Leave a Reply