Home जनसरोकार तबलीगी जमात क्या है और किसने की थी इसकी स्थापना, क्या करती...

तबलीगी जमात क्या है और किसने की थी इसकी स्थापना, क्या करती है ये जमात!


कोरोना की महामारी से पूरी दुनिया परेशान है. इसी को लेकर भारत में भी लॉकडाउन है. इसीबीच तबलीगी जमात ही चर्चा में आ गया है. तो क्या आपको पता है कि यह क्या है और किसने इसकी स्थापना की थी. आइए इस पर आधारित पढिये पोलटॉक की ये ख़ास रिपोर्ट.

तबलीगी जमातियों का फोटो.

मुहम्मद इलियास थे संस्थापक

मुहम्मद इलियास भारतीय मुस्लिम विद्वान थे. इनका जन्म उत्तरप्रदेश के मुजफ्फनगर के कांधला में वर्ष 1885/1886 में हुआ था. इनका 13 July 1944 को दिल्ली के निजाम्मुद्दीन में निधन हो गया था. वर्ष 1925 में इन्होने तबलीगी जमात का गठन किया था.

तबलीगी जमातियों का फोटो.

क्या करता है तबलीगी जमात

तबलीग़ी जमात विश्व की सतह पर सुन्नी इस्लामी धर्म प्रचार आंदोलन है. जो मुसलमानों को मूल इस्लामी पद्दतियों की तरफ़ बुलाता है। खास तौर पर धार्मिक तरीके, वेशाभूश, वैयक्तिक गतिविधियां। परंपराओं के अनुसार, मौलाना मुहम्मद इलियास ने लोगों को धार्मिक शिक्षा देकर दिल्ली से सटे मेवात में अपना काम शुरू किया।

डेढ़ करोड़ हैं इनके अनुयायी

तबलीगी जमात के अनुयायी पूरी दुनिया में हैं. 150 मिलियन मतलब डेढ़ करोड़ लोग इसके अनुयायी हैं. दक्षिण एशिया में इनकी संख्या सबसे अधिक है. 195 देशों में इनके अनुयायी हैं. इस जमाअत के मुख्य छह उद्देश्य हैं. उसूल (कलिमा, सलात, इल्म, इक्राम-ए-मुस्लिम, इख्लास-ए-निय्यत, दावत-ओ-तबलीग) हैं। यह एक धर्म प्रचार आंदोलन माना गया।

तबलीगी जमातियों का फोटो.

इन देशों में ज्यादा प्रभावित

बांग्लादेश, भारत, पाकिस्तान, ग्रेट ब्रिटेन, इंडोनेशिया, मलेशिया, दक्षिण अफ़्रीका, श्रीलंका, यमन, किर्गिज़स्तान, रूस, सोमालिया, नाईजीरिया, कनाडा, मेक्सिको, हॉन्ग कॉन्ग, फ़्रान्स, जर्मनी में इनके अनुयायी हैं.

मामला क्या है ?

राजधानी दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज में एक से 15 मार्च तक तबलीगी जमात में हिस्सा लेने के लिए दो हजार से ज्यादा लोग पहुंचे थे. इसमें देश के अलग-अलग राज्यों और विदेश से कुल 1830 लोग मरकज में शामिल हुए. मरकज के आसपास व दिल्ली के करीब 500 से ज्यादा लोग थे. जिसमें कहा गया कि तब्लीग-ए-जमात 100 साल से पुरानी संस्था है, जिसका हेडक्वार्टर दिल्ली की बस्ती निज़ामुद्दीन में है. यहां देश-विदेश से लोग लगातार सालों भर आते रहते है. जिसमें लोग दो दिन, पांच दिन या 40 दिन के लिए आते हैं. लोग मरकज में ही रहते हैं और यहीं से तबलीगी का काम करते है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...