लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा ने किया सरेंडर, सुप्रीम कोर्ट ने एक हफ्ते की दी थी मोहलत

0
15
ashish mishra surrender
Photo: ANI

लखीमपुर हिंसा मामले में गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र और मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा ने रविवार को लखीमपुर की निचली अदालत में सरेंडर कर दिया है। सरेंडर करने के बाद लखीमपुर के सदर कोतवाल की गाड़ी में आशीष मिश्रा को बैठा कर गुपचुप तरीके से जेल लाया गया। जेल के पीछे के गेट से आशीष मिश्रा को जेल के अंदर ले जाया गया। बता दें सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा को मिली जमानत रद्द कर दिया था और एक हफ्ते में सरेंडर होने के लिए कहा था।

लखीमपुर के तिकोनिया हिंसा मामले को आशीष मिश्रा को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जमानत दे दी थी। जिसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के बेटे और लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत रद्द कर दी थी। जमानत आदेश रद्द होने के बाद प्रमुख आरोपी आशीष मिश्र मोनू को एक सप्ताह की मोहलत मिली थी, जो 25 अप्रैल सोमवार को समाप्त हो रही है।

26 अप्रैल को जिला अदालत में सुनवाई 

एक तरफ़ जहाँ आशीष मिश्रा ने सरेंडर कर दिया है तो  26 अप्रैल को लखीमपुर खीरी की जिला अदालत में आशीष मिश्रा के केश की सुनवाई की तारीख लगी है।  इससे पहले अधिवक्ताओं ने बताया था कि 25 अप्रैल को आशीष मिश्र मोनू सिविल कोर्ट मे उपस्थित होकर आत्मसमर्पण करेगा। उसके बाद 26 अप्रैल को जिला अदालत में आशीष मिश्र पर आरोप तय करने को लेकर सुनवाई होगी।

क्या है पूरा मामला

बीते साल तीन अक्टूबर को लखीमपुर में बीजेपी नेता केशव केशव प्रसाद मौर्य का किसान विरोध कर रहे थे। इसके चलते लखीमपुर की तिकोनिया में विरोध प्रदर्शन हो रहा था। तभी लखीमपुर खीरी में एक कार ने चार किसानों को कथित तौर पर कुचल दिया था इससे गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी के दो कार्यकर्ताओं और एक चालक को कथित तौर पर पीट-पीट कर मार डाला था। वहीं इस हिंसा में एक स्थानीय पत्रकार की भी मौत हो गयी थी। हिंसा का शिकार हुए किसानों में दवा किया वह गाड़ी बीजेपी नेता आशीष मिश्रा की है। इसके बाद मामले की जाँच हुई जिसमें आशीष मिश्रा दोषी करार दिए गए।


Leave a Reply