लॉकडाउन में “मरुभूमि के गीत” से दिया पर्यटन के लिए सकारात्मकता का सन्देश

कोरोना महामारी का दुष्प्रभाव पूरी दुनिया में देखा जा सकता है। न केवल स्वास्थ्य पर बल्कि लोगों के रोजगार पर भी कोरोना ने अत्यंत गंभीर हमला किया है। अर्थव्यवस्था से जुड़े हर क्षेत्र में गिरावट दर्ज की जा रही है और टूरिज्म इंडस्ट्री पर इसकी चोट कुछ ज्यादा ही घातक सिद्ध हो रही है।

0
639
social media
जयपुर का आमेर किला.

  • एसोसिएशन ऑफ डोमेस्टिक टूर ऑपरेटर्स ऑफ इंडिया और राजस्थान स्टूडियो का एक साझा प्रयास

कोरोना महामारी का दुष्प्रभाव पूरी दुनिया में देखा जा सकता है। न केवल स्वास्थ्य पर बल्कि लोगों के रोजगार पर भी कोरोना ने अत्यंत गंभीर हमला किया है। अर्थव्यवस्था से जुड़े हर क्षेत्र में गिरावट दर्ज की जा रही है और टूरिज्म इंडस्ट्री पर इसकी चोट कुछ ज्यादा ही घातक सिद्ध हो रही है। दुनिया के तमाम देशों की सीमाएं सील है और भारत में भी हर राज्य में लॉकडाउन चल रहा है। ऐसी स्थिति में पर्यटन और कला क्षेत्र से जुड़ी सेवाएं पूरी तरह से बंद हैं और टूर ऑपरेटर्स एवं कलाकारों के लिए भी आर्थिक संकट एक गंभीर मुद्दा बन गया है।

कोरोना असर : राजस्थान के गुलाबी पर्यटन में अपने लाएँगे ‘बहार’, सरकार कर रही बड़ी तैयारी

परन्तु इस संकट काल में भी वे अपने धैर्य और सकारात्मक भाव का परिचय देते हुए एक दूसरे का उत्साह वर्धन करने के साथ-साथ मुसीबत में एकजुट रहने का सन्देश दे रहें हैं। इसी क्रम में, हाल ही में एसोसिएशन ऑफ डोमेस्टिक टूर ऑपरेटर्स ऑफ इंडिया (ADTOI) ने राजस्थान स्टूडियो के साथ मिलकर राजस्थान की आत्मा में बसे “अतिथि देवो भव” के सुन्दर सन्देश को खूबसूरत और दर्शनीय पर्टयन स्थलों के साथ पिरो कर एक अत्यंत भाव-विभोर कर देने वाला वीडियो अपने डिजिटल प्लेटफार्म पर साझा किया है।

ग्रामीण क्षेत्र में हर व्यक्ति को रोजगार की गारंटी दी जाये : अरुणा रॉय

सभी घरेलू टूर ऑपरेटर्स इस संकट की घड़ी में एक साथ खड़े हुए है और एक नई बेहतर सुबह के लिए आशान्वित हैं। यूट्यूब पर उपलब्ध इस वीडियो में टूर ऑपरेटर्स ने राजस्थानी संगीत पर थिरकते हुए और आने वाले बेहतर भविष्य की कामना करते हुए पर्यटकों को राजस्थान के विविध रंगों का दर्शन कराया है।

ग्राम पंचायतों पर गठित कोर ग्रुप में सरपंचों की घोर उपेक्षा करना गैर प्रजातांत्रिक : राजेन्द्र राठौड़


Leave a Reply