Azamgarh Lok Sabha Constituency: इस सीट पर एक ही नेता रहा है तीन पार्टियों से सांसद, जानें आजमगढ़ लोकसभा सीट का इतिहास 

0
99
Azamgarh Lok Sabha seat history

  • आजमगढ़ से मुलायम सिंह यादव और अखिलेश रहे हैं सांसद 
  • आजमगढ़ लोकसभा सीट पर एक बार ही जीती है बीजेपी

पोलटॉक नेटवर्क | लखनऊ/ आदित्य कुमार  

Azamgarh Lok Sabha Constituency: उत्तर प्रदेश ही 80 लोकसभा सीटों में से हॉट सीट माने जाने वाली सीटों में से एक सीट है आजमगढ़ लोकसभा सीट। आजमगढ की लोकसभा सीट 80 लोकसभा सीटों में 69वें नंबर की सीट है। आजमगढ़ संसदीय सीट से समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलयम सिंह यादव व उनके बेटे और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सांसद रह चुके हैं। आईये जानते हैं क्या रहा है आजमगढ़ लोकसभा सीट का इतिहास।

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर मतदाता 

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर वोटरों की बात करें तो यहाँ  कुल मतदाताओं की संख्या 17 लाख 70 हजार 637 है। कुल मतदाताओं में पुरुष मतदाताओं की संख्या 9 लाख 62 हजार 889, महिला मतदाताओं की संख्या 8 लाख 07 हजार 674  और ट्रांस जेंडर के कुल 74 मतदाता शामिल हैं। आजमगढ़ की 84 प्रतिशत जनसंख्या हिंदुओं की और 15 प्रतिशत आबादी मुस्लिमों की है। आजमगढ़ की औसत साक्षरता दर 70.93 प्रतिशत है जिनमें पुरुषों की साक्षरता दर 68.25 प्रतिशत और महिलाओं की साक्षरता दर 52.06 प्रतिशत है। आजमगढ़ संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत 5 विधासनभा  सीटें आती हैं। जिसमें गोपालपुर, सगड़ी, मुबारकपुर,आजमगढ़ और मेहनगर शामिल है और ये सभी सीटें आजमगढ़ जिले में  आती हैं।

आजमगढ़ लोकसभा सीट का इतिहास 

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर पहली बार 1952 में चुनाव हुए थे इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने जीत दर्ज की थी। आजमगढ़ लोकसभा सीट से कांग्रेस पार्टी के अलगू राय शास्त्री पहले सांसद बने। कांग्रेस पार्टी ने 1952 से 1977 के बीच हुए 6 चुनावों में किसी अन्य सियासी दल को जीतने का मौका न दिया। 1977 में जनता पार्टी के राम नरेश यादव ने खाता खोला था। 1978 उपचुनाव में मोहसिना किदवाई ने कांग्रेस को फिर से वापसी करवाई। 1980 में चंद्रजीत यादव ने जनता पार्टी(सेक्युलर) को आजमगढ सीट पर जीत का स्वाद चखाया। 1984 में संतोष कुमार ने जीत हासिल कर कांग्रेस का लंबा इंतजार ख़त्म किया। 1998 के चुनाव में आजमगढ़ सीट पर बसपा का खाता खुला। वहीं 1999 के चुनाव में आजमगढ़ सीट से समाजवादी पार्टी ने पहली बार जीत हासिल की। 1999 के चुनाव में रमाकांत यादव ने सपा को जीत दिलाई। 2004 में हुए चुनाव में रामाकांत यादव ने ही जीत हासिल की लेकिन इस बार वो बसपा से चुनावी मैदान में थे।

2009 के लोकसभा चुनाव में रमाकांत यादव ने एक बार फिर से आजमगढ़ से जीत हासिल की लेकिन इस बार वह सपा और बसपा से नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनावी मैदान में थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में आजमगढ़ लोकसभा सीट चर्चित सीट बन गयी क्योंकि इस सीट से सपा संस्थापक मुलयम सिंह यादव ने चुनाव लड़ा था। मुलायम सिंह यादव ने 2014 के चुनाव में यहां से जीत हासिल की वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुनाव जीता। 2022 के विधानसभा चुनाव में विधायक चुने जाने के बाद अखिलेश यादव ने आजमग़ढ लोकसभा सीट के सांसद पद से इस्तीफा दे दिया तो यह सीट खली हो गयी। आजमगढ़ लोकसभा सीट सीट पर जून 2022 में उपचुनाव कराया जा रहा है।

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर अब तक के सांसद 
सालनिर्वाचित सांसदपार्टी
1952अलगू राय शास्त्रीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1957कालिका सिंहभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1962राम हरख यादवभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1967चंद्रजीत यादवभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1971चंद्रजीत यादवभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1977राम नरेश यादवजनता पार्टी
1978^मोहसिना किदवईभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आई)
1980चंद्रजीत यादवजनता पार्टी (धर्मनिरपेक्ष)
1984संतोष सिंहभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1989राम कृष्ण यादवबहुजन समाज पार्टी
1991चंद्रजीत यादवजनता दल
1996रमाकांत यादवसमाजवादी पार्टी
1998अकबर अहमदीबहुजन समाज पार्टी
1999रमाकांत यादवसमाजवादी पार्टी
2004रमाकांत यादवबहुजन समाज पार्टी
2008^अकबर अहमदीबहुजन समाज पार्टी
2009रमाकांत यादवभारतीय जनता पार्टी
2014मुलायम सिंह यादवसमाजवादी पार्टी
2019अखिलेश यादवसमाजवादी पार्टी

Leave a Reply