Eid-Ul-Fitr 2022: ईद से पहले Cm Yogi Adityanath का नया फरमान, मस्जिदों को करना होगा यह काम

0
31
loudspeaker controversy

  • लाउडस्पीकर हटाने के संबंध में 23 अप्रैल को जारी किया था आदेश
  • अभियान में अब तक धार्मिक स्थलों से 21 हजार 963 लाउडस्पीकर उतरवाए गए हैं

पोल टॉक नेटवर्क | लखनऊ

देश में बीते कुछ दिनों से चल रहे अजान और हनुमान चालीसा (HANUMAN CHALISA) विवाद के बीच उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर को लेकर अलग ही तस्वीर देखने को मिली। बाबा बुलडोजर के राज वाले सूबे में मंदिर हो या फिर मस्जिद सभी जगहों से अवैध लाउडस्पीकर (Loud Speaker ) हटाए जा रहें हैं। वहीं तमाम जगहों पर तय मानकों के अनुसार आवाज काम की जा रही है। रमजान का महीना चल रहा है और 3 मई को ईद (Eid-Ul-Fitr 2022) का पर्व है ऐसे में लाउडस्पीकर पर विवाद न खड़ा हो जाये इसको देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Cm Yogi Adityanath) ने भी कर फरमान जारी कर दिए हैं।

महाराष्ट्र में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद उत्तर प्रदेश में हावी होता इससे पहले ही सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने फरमान जारी कर दिया। योगी आदित्यनाथ ने लाउडस्पीकर को लेकर कर निर्देश जारी किये। सीएम योगी के आदेशानुसार, प्रदेश में नए धार्मिक संस्थानों पर लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति नहीं होगी। इसके साथ ही आदेश दिया गया कि प्रदेश में लगे सभी अवैध लाउडस्पीकर भी हटा लिए जाएँ।

अब तक हटे हजारों लाउडस्पीकर

लाउडस्पीकर हटाने के संबंध में 23 अप्रैल को आदेश जारी किया गया था। आदेश जारी होने की बाद उत्तर प्रदेश पुलिस एक्शन में आ गयी। उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंदिर-मस्जिद समेत तमाम धर्म स्थलों से लाउडस्पीकर हटवाना शुरू कर दिया। ADG कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि शासन के निर्देश पर हाईकोर्ट के आदेश का अनुपालन कराए जाने के लिए चलाए जा रहे अभियान में अब तक धार्मिक स्थलों से 21 हजार 963 लाउडस्पीकर उतरवाए गए हैं। वहीं 42332 धार्मिक स्थलों पर लाउड स्पीकर की आवाज धीमी कराई गई है। उन्होंने बताया कि इसमें सभी धर्मों के धर्म गुरुओं का पूरा सहयोग मिल रहा है। अब तक 29808 धर्म गुरुओं से बातचीत की गई है और उनके सहयोग से इस अभियान को सफलता पूर्वक चलाया जा रहा है।

बता दें सीएम योगी  द्वारा पिछले हफ्ते सीनियर अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक के दौरान आदेश दिए थे जिसके बाद यह कार्रवाई शुरू हुई। सीएम योगी ने कहा था कि हर किसी को अपनी-अपनी धार्मिक आस्था के हिसाब से पूजा और इबादत करने की आजादी है, लेकिन लाउडस्पीकर की आवाज परिसर के बाहर नहीं जानी चाहिए ताकि दूसरे लोगों को कोई परेशानी न हो।


Leave a Reply