Lucknow Lok Sabha constituency: 1991 से बीजेपी है काबिज, सपा- बसपा का नहीं खुलता खाता, देखिये लखनऊ लोकसभा सीट का इतिहास

0
22
Lucknow Lok Sabha itihas

Lucknow Lok Sabha constituency: कहा जाता है कि दिल्ली की गद्दी का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है यानी लोकसभा चुनाव जीतने वाले के लिए यूपी की लोकसभा सीटों में बहुमत जरुरी हो जाता है। लखनऊ की पहचान नवाबों नगरी के रूप में है। लखनऊ की सियासत के भी चर्चे देश भर में रहते हैं। लखनऊ की लोकसभा सीट हॉट सीट मानी जाती है। 1991 से अब तक हुए चुनावों में भारतीय जनता पार्टी का लखनऊ में कब्जा है। वर्तमान में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह यहां से सांसद हैं।

लखनऊ लोकसभा सीट का इतिहास 

लखनऊ लोकसभा सीट में पांच विधानसभा सीटें आती हैं। ये हैं- लखनऊ पश्चिम, लखनऊ उत्तर, लखनऊ पूर्व, लखनऊ मध्य और लखनऊ कैंट। आजादी के बाद लखनऊ संसदीय सीट पर कुल 16 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा 7 बार बीजेपी और 6 बार कांग्रेस जीत हासिल की है। वहीं जनता दल, भारतीय लोकदल और निर्दलीय ने भी एक-एक बार जीत दर्ज की है। लखनऊ लोकसभा सीट पर पहली बार 1951 में चुनाव में हुए तो कांग्रेस पार्टी से विजयलक्ष्मी पंडित  ने जीत हासिल की। हालांकि ऐसी वर्ष वह संयुक्त राष्ट्र में देश का प्रतिनिधित्व करने चली गयीं। जिसके बाद 1952 में यहां उप चुनाव हुए। उप चुनाव में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार शिवराजवती नेहरू जीतकर सांसद बने। 1957 चुनाव में लगातर तीसरी बार कांग्रेस पार्टी ने लखनऊ सीट पर कब्ज़ा जमाया। 1951 से लेकर 1962 तक लगातार चार बार कांग्रेस पार्टी का लखनऊ सीट पर कब्ज़ा रहा। 1967 के चुनाव नतीजों में निर्दलीय उम्मीदवार आनंद नारायण सांसद चुने गए। 1971 में कांग्रेस ने फिर वापसी की और इस चुनाव में कांग्रेस से  शीला कौल चुनाव जीतीं। 1977 में हेमवंती नंदन बहुगुणा ने भारतीय लोकदल से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। 1980 और 1984 के चुनाव में शीला कॉल ने कांग्रेस पार्टी से सांसद बनीं। 1989 में जनता दल की मान्धाता सिंह सिंह ने चुनाव जीता।

1991 में लखनऊ लोकसभा सीट पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने चुनाव लड़ा और पहली बार इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी की जीत दिलाई। अटल बिहारी वाजपेयी ने 1991 से 2004 के बीच हुए चार लोकसभा चुनावों में जीत हासिल की। 2009 के लोकसभा चुनाव में लखनऊ सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर लालजी टंडन ने चुनाव लड़कर जीत हासिल की। वहीं 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में राजनाथ सिंह लखनऊ से जीतकर दिल्ली पहुंचे।

लखनऊ लोकसभा क्षेत्र में मतदाताओं की स्थिति 

2011 की जनगणना के अनुसार लखनऊ जिले की आबादी 45.89 लाख है। जिसमें हिन्दुओं की आबादी 71.1% जबकि 26.36 प्रतिशत मुस्लिम हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार लखनऊ की आबादी में कुल 23.94  लाख पुरुष हैं जबकि महिलाओं की संख्या 21.95 लाख है।

जातीय समीकरण 

ब्राह्मण- 426000
कायस्थ-395000
क्षत्रिय- 177000
कुर्मी-167000
मुस्लिम-450000
एसपी-100000
वैश्य, पंजाबी व सिंधि- 12000

कौन कब-कब रहा लखनऊ का सांसद

  1. 1951- विजय लक्ष्मी पंडित (कांग्रेस)
  2. 1952- शिवराजवती नेहरू (कांग्रेस)
  3. 1957- पुलिन बिहारी बनर्जी (कांग्रेस)
  4. 1962- बीके धाओं (कांग्रेस)
  5. 1967- आनंद नारायण (निर्दलीय)
  6. 1971- शीला कौल (कांग्रेस)
  7. 1977- हेमवंती नंदन बहुगुणा (भारतीय लोक दल)
  8. 1980- शीला कौल (कांग्रेस-आई)
  9. 1984- शीला कौल (कांग्रेस)
  10. 1989- मान्धाता सिंह (जनता दल)
  11. 1991- अटल बिहारी वाजपेयी (बीजेपी)
  12. 1996- अटल बिहारी वाजपेयी (बीजेपी)
  13. 1998- अटल बिहारी वाजपेयी (बीजेपी)
  14. 1999- अटल बिहारी वाजपेयी (बीजेपी)
  15. 2004- अटल बिहारी वाजपेयी (बीजेपी)
  16. 2009- लालजी टंडन (बीजेपी)
  17. 2014- राजनाथ सिंह (बीजेपी)
  18. 2019 – राजनाथ सिंह (बीजेपी)

Leave a Reply