कमलनाथ की इस बड़ी चाल में उलझ गए शिव के गणेश और नारायण !

0
2224

मध्य प्रदेश में जो हो रहा है उसे सभी देख रहे हैं. लेकिन जो पर्दे के पीछे के खिलाड़ी हैं शायद उन्हें कम देखा जा रहा है. पोलटॉक की स्पेशल स्टोरी को जरुर पढ़े. जो आपको पूरी तस्वीर साफ़ कर देगी. मंगलवार को कमलनाथ सरकार ने कैबिनेट बैठक में मैहर, चाचौड़ा और नागदा को नया जिला बनाए जाने की मंजूरी दी है. मध्य प्रदेश में अब 55 जिले हो गए. जिले बढ़ गए मगर इससे भाजपा में राजनीति तेज हो गई है.

शिवराज सिंह चौहान के सामने एक बैठक में बात करते हुए विधायक नारायण त्रिपाठी.

मैहर (mahior) जिले को लेकर काफी चर्चा है. दरअसल, सतना (satna) जिले में मैहर विधान सभा सीट आती है. जहाँ से 4 बार से लगातार विधायक हैं नारायण त्रिपाठी. जो पहली बार सपा, दूसरी बार कांग्रेस, तीसरी और चौथी बार भाजपा से विधायक हैं. इनकी स्थिति हर चुनाव में बदली सी नजर आती है. लेकिन इनके लिए राजनीतिक तौर पर एक ही चुनौती हैं गणेश सिंह. गणेश सिंह पटेल सतना से 4 बार से लगातार भाजपा के सांसद हैं. नारायण और गणेश में अक्सर चुनावी मुद्दे को लेकर राजनीतिक तनाव बना रहता है.

सांसद गणेश सिंह द्वारा लिखा गया पत्र.

जब कमलनाथ की सरकार कमजोर दिखी तो नारायण त्रिपाठी अचानक से कमलनाथ सरकार की ओर जाते हुये दिखे ! उन्होंने मैहर तहसील को कई बार जिला बनाने की बात उठाई थी. मौक़ा पर चौका लगाते हुए कमलनाथ सरकार ने मैहर को जिला बना दिया है. इस फैसले से विधायक नारायण त्रिपाठी ख़ुशी दिखा रहे हैं और कमलनाथ सरकार को शुक्रिया कह रहे. मगर वहीँ सतना जिले के भाजपा के दिग्गज सांसद गणेश सिंह पटेल ने खुशी तो जताई है लेकिन कई सारे सवाल भी खड़ा कर दिया है. जिसकी वजह से अब विधायक समर्थक और सांसद समर्थक अपनी अपनी बातें कर रहे हैं.

खेत में भाजपा सांसद गणेश सिंह और साथ में लोग.

बताया जा रहा है कि इसका असर भाजपा पर पड़ सकता है. कमलनाथ ने मैहर जिले को लेकर मास्टर कार्ड खेल दिया है. अब देखने वाली बात है की कौन किसके साथ खड़ा होगा. लेकिन सतना भाजपा में बिखराव भी दिखने लगा है. मगर यह मैहर के लिए अच्छी खबर है. विधायक नारायण त्रिपाठी हमेशा चर्चा में बने रहते हैं.


Leave a Reply