पंजाब निकाय चुनाव : बस पंजा ही पंजा क्यों चला, बाकी सबको हुआ नुकसान

पंजाब के चंडीगढ़ स्थानीय निकाय के चुनाव में सत्तारुढ़ कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल करी और 8 में से 6 नगर निगमों पर जीत का परचम लहराया है, और 8 में से 6 नगर निगमो में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी हैं।

0
624

  • पंजाब निकाय चुनाव में कांग्रेस को बड़ा फायदा 
  • भाजपा, अकाली दल और आप को लगा बड़ा झटका 

पोल टॉक नेटवर्क | पंजाब 

पंजाब (panjab nikay chunav) के चंडीगढ़ स्थानीय निकाय के चुनाव में सत्तारुढ़ कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की है.  8 में से 6 नगर निगमों पर जीत का परचम लहराया है और 8 में से 6 नगर निगमो में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी हैं।109 नगर निगम परिषदों में 63 पर कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की। निकाय चुनाव में जीत जीत दर्ज करने के बाद कांग्रेस पार्टी में बड़ी जीत का उत्साह है।

कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए कहा है, कि पंजाब कांग्रेस ने अकाली दल, बीजेपी और आम आदमी पार्टी को करारा जवाब दिया, जो अन्नदाता बनकर खेल रहे थे। बठिंडा में कांग्रेस ने करीब 50 साल बाद जीत हासिल की है, जिसपर पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा कि, भटिंडा में कांग्रेस से 53 साल बाद पहला मेयर होगा।

उम्मीदवारों के नाम पर: भटिंडा, अबोहर, बटाला, कपूरथला, मोहाली, होशियारपुर, पठानकोट और मोगा के आठ नगर निगमों के 2,302 वार्ड और 109 नगर परिषदों के लिए कुल 9,222 उम्मीदवार मैदान में आए हैं। राज्य चुनाव के आयोग ने मोहाली नगर निगम (panjab nikay chunav) में दो मतदान केंद्रों पर फिर से मतदान कराने का आदेश दिया है, जिसके लिए बृहस्पतिवार को इसका मतदान होगा।

उम्मीदवारों के नाम पर 2,832 निर्दलीय 2,307 सत्तारूढ़ कांग्रेस और 1,569 शिरोमणि अकाली दल के उम्मीदवार उतरे हैं। आप ने 1,606 और बीजेपी ने 160 उम्मीदवार उतारे। जब करीब पिछले छह महीनों से कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है और तीन कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की मांग भी जारी हैं। ऐसे में यह चुनाव बहुत कुछ कह रहा है.

भाजपा और कांग्रेस के लिए यह चुनाव बहुत कुछ संदेश दे रहा है. क्योंकि किसान आन्दोलन के बाद का यह चुनाव है पंजाब में और इसपर लोगो की नजरें टिकीं हुई थीं.


Leave a Reply