देश की यह सीट है गाँधी परिवार का गढ़ लेकिन कांग्रेस तीन दशक से नहीं नहीं जीत पाई चुनाव

0
279
Pilibhit Lok Sabha Election Results

नेपाल और उत्तराखंड से सटा हुआ पीलीभीत उत्तर प्रदेश का खूबसूरत जिला है। पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र को बांसुरी नगरी भी कहते हैं, क्योंकि यहाँ देश भर में बनने वाली कुल बांसुरियों में लगभग 95% बांसुरी यहीं पर बनती है। इसके साथ ही राजनीति में पीलीभीत गाँधी परिवार के गढ़ के लिए भी जाना जाता है। वह अलग बात कि यहाँ से कांग्रेस पार्टी ने ज्यादा राज नहीं किया है। पीलीभीत में गाँधी परिवार की बहु लेकिन कांग्रेस की विरोधी मेनका गांधी बीते तीन दशक से दबदबा है। वर्तमान में पीलीभीत से मेनका गाँधी के बीते वरुण गाँधी बीजेपी से सांसद हैं।

पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र के मतदाता  

पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र में हिन्दू वोटरों के साथ साथ मुस्लिम मतदाताओं का खासा प्रभाव है। पीलीभीत लोकसभा सीट पर 30 प्रतिशत के आस पास मुस्लिम वोटर हैं। पीलीभीत लोकसभा सीट पर कुल 17,58,509 मतदाता हैं जिनमें से महिला मतदाताओं की संख्या 8,11,971 है। वहीं पुरुष मतदाताओं की संख्या 9,46,463 है।

पीलीभीत लोकसभा सीट का इतिहास 

पीलीभीत लोकसभा सीट पर पहली बार 1952 में चुनाव हुए थे। पहले चुनाव में कांग्रेस पार्टी के मुकुंद लाल अगरवाल ने जीत हासिल की। उसके बाद 1957 से लेकर 1967 तक प्रजा सोशलिस्ट पार्टी मोहन स्वरुप तीन बार सांसद चुने गए। 1971 के चुनाव में एक बार फिर से मोहन स्वरुप चुनाव जीते लेकिन इस बार उन्होंने कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा था। 1977 में भारतीय लोकदल ने जीत दर्ज की। 1980 और 1984 में कांग्रेस पार्टी ने फिर वापसी की।

संजय गाँधी की मौत के बाद गाँधी परिवार से अलग हुईं संजय गाँधी की पत्नी मेनका गाँधी ने जनता दल से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। उसके बाद पीलीभीत लोकसभा सीट पर आअज तक कांग्रेस कभी वापसी नहीं कर पाई है। मेनका गाँधी 1996 से 2004 तक हुए चुनाव में लगातार 4 बार सांसद चुनी गयीं। मेनका गाँधी ने 2004 का चुनाव बीजेपी के टिकट पर लड़ा था। 2009 के चुनाव में पीलीभीत से मेनका गाँधी के बेटे वरुण गाँधी ने बीजेपी से लड़कर चुनाव जीता। इसके बाद 2014 में मेनका गाँधी ने एक बार फिर से पीलीभीत से चुनाव लड़ा और सांसद बनी। 2019  लोकसभा चुनाव में वरुण गाँधी ने बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की।

पीलीभीत से अब तक के सांसद 

लोकसभा वर्ष से वर्ष तक सांसद का नाम पार्टी का नाम 
पहली 1952 1057 मुकुंद लाल अगरवाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
दूसरी 1957 1962 मोहन स्वरुप प्रजा सोशलिस्ट पार्टी
तीसरी 1962 1967 मोहन स्वरुप प्रजा सोशलिस्ट पार्टी
चौथी 1967 1971 मोहन स्वरुप प्रजा सोशलिस्ट पार्टी
पांचवी 1971 1977 मोहन स्वरुप भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
छठवीं 1977 1980 मोहम्मद शमशुल हसन खान भारतीय लोक दल
सातवीं 1980 1984 हरीश कुमार गंगवार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
आठवीं 1984 1989 भानु प्रताप सिंह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
नौवीं 1989 1991 मेनका गाँधी जनता दल
दसवीं 1991 1996 परशुराम गंगवार भारतीय जनता पार्टी
ग्यारहवीं 1996 1998 मेनका गाँधी जनता दल
बारहवीं 1998 1999 मेनका गाँधी निर्दलीय
तेरहवीं 1999 2004 मेनका गाँधी निर्दलीय
चौदहवीं 2004 2009 मेनका गाँधी भारतीय जनता पार्टी
पंद्रहवीं 2009 2014 वरुण गाँधी भारतीय जनता पार्टी
सोलहवीं 2014 2019 मेनका गाँधी भारतीय जनता पार्टी
सत्रवीं 2019 अब तक वरुण गांधी भारतीय जनता पार्टी

Leave a Reply