Pratapgarh MLC Election Result: प्रतापगढ़ में राजा भैया का बजा डंका, अक्षय प्रताप सिंह 5वीं बार बने एमएलसी

0
89

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले से रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया का जलवा विधान परिषद चुनाव में भी बरकरार दिखा।  प्रतापगढ़ विधान परिषद सीट से (Pratapgarh MLC Chunav) राजा भैया के करीबी रिश्तेदार अक्षय प्रताप सिंह ने विधान परिषद चुनाव में जीत हासिल की। उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार हरि प्रताप को बड़े अंतर से हराया है।

प्रतापगढ़ के विधान परिषद चुनाव में राजा भैया के करीबी अक्षय सिंह राजा भैया की पार्टी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी से चुनाव मैदान में थे। वहीं बीजेपी ने  पूर्व विधायक हरि प्रताप सिंह को मैदान में उतारा और समाजवादी पार्टी  से विजय बहादुर सिंह विधान परिषद के चुनावी रण में थे। प्रतापगढ़ विधान परिषद चुनाव नतीजों में अक्षय सिंह ने जीत हासिल की। अक्षय सिंह को कुल 1721 वोट मिले। वहीं, दूसरे स्थान पर रही बीजेपी के हरि प्रताप को  614 वोट प्राप्त हुए। जबकि सपा के प्रत्याशी विजय यादव 380 वोट हासिल हुए।

प्रतापगढ़ की कुंडा और बाबागंज विधानसभा सीट पर जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया की अच्छी पकड़ थी। प्रतापगढ़ सीट के एलएमसी चुनाव में राजा भैया और बाबागंज सीट से विधायक विनोद सरोज की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है। प्रतापगढ़ सीट से अक्षय सिंह 1998 से एमएलसी चुनते आ रहें हैं।

अक्षय सिंह लगातार पांचवी बार एमएलसी चुने गए हैं। इससे पहले अक्षय सिंह तीन बार सपा से एमएलसी रहें हैं। 2016 में अक्षय सिंह निर्विरोध चुनाव जीते थे। 2018 में सपा और राजा भैया की बीच दूरियां बढ़ गयीं जिसके बाद अक्षय सिंह जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी में शामिल हो गए।

राजा भैया ने दी बधाई 

अक्षय सिंह की जीत पर जनसत्ता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा भैया ने कहा कि प्रतापगढ़ स्थानीय निकाय चुनाव में जनसत्ता दल के प्रत्याशी गोपाल जी की शानदार जीत पर सभी सम्मानित मतदाताओं, समर्थकों और दल के पदाधिकारियों को बहुत बहुत बधाई, हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ।

बता दें, उत्तर प्रदेश की खाली हुई 36 विधान परिषद  की सीटों पर चुनाव हुआ जिनमें से 9 सीटों पर बीजेपी के उम्म्मीद्वार निर्विरोध चुन लिए गए। जबकि 27 सीटों पर हुए मतदान हुए। भारतीय जनता पार्टी ने 36 विधान परिषद सीटों में से 33 सीटों पर जीत हासिल की है जबकि तीन अन्य की जीत हुई है। वहीं एमएलसी चुनाव में सामाजवादी पार्टी का खाता भी नहीं खुला है।


Leave a Reply