Home अंदर की बात बड़ी खबर : राजस्थान में रहेगी कांग्रेस की सरकार, बस अध्यक्ष पद...

बड़ी खबर : राजस्थान में रहेगी कांग्रेस की सरकार, बस अध्यक्ष पद की लड़ाई है !


  • अशोक गहलोत के साथ कई दिग्गज, सचिन ने भी बनाई रणनीति
  • कई बार हो चुका है तनाव, इसबार आर-पार

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

राजस्थान में जून 2020 से सरकार को लेकर थोड़ा तनातनी बनी हुई है. क्योंकि, सचिन पायलट (sachin pilot) और अशोक गहलोत (ashok gehlot) में आपसी मनमुटाव है. यह कोई नया नहीं है. दरअसल, अशोक गहलोत (sachin pilot) सचिन को सीएम नहीं बनने देना चाहते है और सचिन इस बात को लेकर अड़े हैं. यह 2018 से चल रहा है। मगर अभी नया विवाद यह है की सचिन पायलट को अध्यक्ष पद से अशोक गहलोत हटाना चाह रहे हैं. क्योंकि, सचिन पायलट लगभग 7 साल से प्रदेश अध्यक्ष बने हुए हैं. उन्हें 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद केंद्रीय नेतृत्व ने सचिन पायलट को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर 21 जनवरी, 2014 को राजस्थान में भेजा था। उस समय 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के मात्र 20 विधायक निर्वाचित हुए थे।

आखिर भाजपा की सरकार में ही क्यों होते है बड़े एनकाउंटर ?

नया समीकरण क्या है ?

अशोक गहलोत सचिन की जगह पर किसी नए को प्रदेश अध्यक्ष बनवाना चाहते हैं और दो नए उपमुख्यमंत्री। इसी को लेकर विवाद चल रहा है. यह बात सत्ता के गलियारे में तेज हो गई है. सचिन का गुट चाहता है कि सचिन अध्यक्ष बने रहे और उप मुख्यमंत्री भी. लेकिन अशोक गहलोत का गुट चाहता है कि सचिन से एक पद लिया जाय. इसी पर तनातनी की बात है.

बिग एक्सक्लूसिव : अशोक गहलोत कैबिनेट में बदलाव जल्द और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी बदलेंगे ! ये हैं संभावित नाम !

इसलिए बनी रहेगी कांग्रेस की सरकार

सोनिया गाँधी के पास सचिन पायलट का गुट गया है और वहीँ पर अशोक का भी गुट जाएगा। यहाँ कांग्रेस के केन्द्रीय नेता इस मामले में शामिल हैं. यहाँ मध्यप्रदेश जैसी स्थिति नहीं बन पाएगी। सोनिया गाँधी दोनों नेताओं अशोक गहलोत और सचिन पायलट से मिल रही है. इसलिए स्थिति यही दिख रही है कि सीएम चाहे जो रहे लेकिन सरकार कांग्रेस की स्थिर बनी रहेगी।

आखिर कौन गिराना चाहता है Ashok Geglot की सरकार ?

यह है अंकीय खेल

कुल 200 विधान सभा सीट है. जिनमें से 107 कांग्रेस के पास और 75 एनडीए के पास है. और निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी अशोक गहलोत के पास है. इसलिए सरकार पास बहुमत से अधिक सीट है. यहाँ लड़ाई कुर्सी को लेकर है. 45 विधायक अगर कांग्रेस से भाजपा में जायेंगे तो कुछ हो सकता है. यह फिलहाल संभव नहीं दिख रहा है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...