बड़ी खबर : राजस्थान सरकार में सबकुछ ठीक नहीं है ! पर्यटन मंत्री बगावत पर आये

राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार है. लेकिन कई बार समय-समय पर संकट दिखाया जाता है. अब अशोक गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री ही नाराज बताये जा रहे हैं. उन्होंने ट्वीट भी किया है. राजस्थान के पर्यटन मंत्री आखिर क्यों नाराज है

0
594
विश्वेन्द्र प्रताप सिंह , पर्यटन मंत्री , राजस्थान
विश्वेन्द्र प्रताप सिंह , पर्यटन मंत्री , राजस्थान |

  • राजस्थान के पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र प्रताप सिंह आखिर क्यों नाराज है ? 
  • अशोक गहलोत सरकार में मंत्रिमडल का फेरबदल होने वाला है

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक (की रिपोर्ट ) 

राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार है. लेकिन कई बार समय-समय पर संकट दिखाया जाता है. अब अशोक गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री ही नाराज बताये जा रहे हैं. उन्होंने ट्वीट भी किया है. राजस्थान के पर्यटन मंत्री आखिर क्यों नाराज है. इसका खुलासा तो नहीं हो पाया है. लेकिन माना जा रहा है कि अशोक गहलोत सरकार में मंत्रिमडल का फेरबदल होने वाला है. कुछ नए चेहरे आने की संभावना है और कुछ पुराने बाहर होंगे। बगावत के सुर आने वाले दिनॉन में और देखने को मिल सकते हैं| आइये देखते है क्या लिखा है पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र प्रताप सिंह ने।

ये ट्वीट किया है मंत्री ने … 

मैंने बहुत लंबे समय तक, अपने स्वभाव और कार्य नैतिकता के खिलाफ जा कर बहुत सारी चीजों पर चुप्पी बनाए रखी थी लेकिन मेरे सीएम @ashokgehlot ने हमेशा पारदर्शिता और ईमानदारी की वकालत की है और मैं अब पर्यटन विभाग की कमियों को साझा करने के लिए मजबूर हूं | 1/9

विभाग के अधिकारी मेरे निरंतर प्रयासों और पहलों के बावजूद, उच्च पर्यटन वृद्धि प्राप्त करने और नए उत्पादों को पेश करने के प्रति उदासीन हैं। पिछले डेढ़ वर्षों में, विभाग एक नई #TourismPolicy पेश करने में असमर्थ रहा है।2/9

यहाँ नए गाइड्स की कोई भर्ती नहीं हुई है और विभाग को पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार से एक भी स्वदेश दर्शन परियोजना नहीं मिल पाई है।3/9

एक भी राज्य पर्यटन परियोजना का उद्घाटन नहीं किया गया है और न ही पर्यटन अधिकारियों की कोई नई भर्ती हुई है।
दो एमडी बदले जाने के बावजूद, आरटीडीसी की पुनरुद्धार योजना का कोई ठिकाना नहीं है।4/9

विभाग की वित्तीय स्थिति बेहद चिंतनीय है। पर्यटन विभाग के अधिकारियों और पर्यटन उद्योग के हितधारकों के लिए कोई प्रशिक्षण या पुनर्विन्यास नहीं किया गया है।5/9

अधिकारी इस बात को लेकर अंधेरे में हैं कि #Covid19 के बाद पर्यटन पुनरुद्धार की दिशा में क्या होना चाहिए और इस संबंध में मेरे प्रयासों के बावजूद, निजी क्षेत्र से हितधारकों की भागीदारी को शामिल करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया है।6/9

पर्यटकों के आगमन के आंकड़े पहले ही गंभीर रूप से गिर चुके हैं और #राजस्थान में पर्यटन उद्योग की दुर्दशा लगातार बढ़ रही है, फिर भी अधिकारी आंखें मूंदे हैं।7/9

यह स्थिति है (पर्यटन विभाग) जो की #Rajasthan के सबसे अधिक प्रासंगिक विभागों में से एक है । अतएव कुछ #बदलाव लाने की जरूरत है।8/9

@ashokgehlot51 जी, मैं #राजस्थान में पर्यटन और उससे सम्बंधित उद्योगों में लगे लाखों लोगों के हितों और आजीविका को बचाने के लिए निकट भविष्य में कुछ कठोर लेकिन आवश्यक फैसलों में आपके समर्थन के लिए तत्पर हूं। 9/9

सूत्रों की माने तो आने वाले दिनों में जल्द ही कई और लोग ऐसे देखे जा सकते हैं.


Leave a Reply