Home अंदर की बात तो क्या ये शिव का नहीं बल्कि महराज का मंत्रिमंडल है ?

तो क्या ये शिव का नहीं बल्कि महराज का मंत्रिमंडल है ?


  • क्या मामा पहले की तरह ही पावरफुल है या कमजोर हुए हैं
  • 28 नए मंत्रियों को शपथ दिलाई. इसमें से 12 सिंधिया के समर्थक हैं

संतोष कुमार पाण्डेय | सम्पादक

शिवराज सिंह (shivraaj singh chouhan) चौहान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री है. और इस बार इन्हें ताजपोशी लेने में बड़ी मुश्किल का सामना करना पडा. कुछ सीटें कम हुई और सरकार कमलनाथ की बन गई. वरना मामा सपने में भी कभी नहीं सोचे होंगे की उन्हें सीएम की कुर्सी से कोई हटा पायेगा. खैर, अब वो सीएम हैं. लेकिन बड़ी बात और सवाल यह है कि क्या मामा पहले की तरह ही पावरफुल है या कमजोर हुए हैं. पढ़िए पोलटॉक की ये ख़ास रिपोर्ट |

विन्ध्य में राजेन्द्र शुक्ला को कौन नहीं जानता. शिवराज सरकार में इनकी तूती बोलती रही है. ब्राहमण चेहरा हैं. रीवा से कई बार से विधायक हैं. विवादों से भी दूर रहे. ऊर्जा मंत्री रहे. शिवराज की कैबिनेट में इनका नाम हमेशा फ़ाइनल माना जा रहा है. लेकिन इस बार इन्हें कैबिनेट में जगह नहीं मिली. यह चर्चा का विषय बना हुआ है. राजेंद्र के जानने वाले बता रहे हैं कि इस बार लगता है कि मामा की चल कम रही है. शायद केंद्र से ही नाम फाइनल हुआ है. लेकिन विन्ध्य में राजेंद्र शुक्ला को इग्नोर करना भाजपा को भारी पड़ सकता है. क्योंकि अच्छी पकड है.

संजय पाठक कांग्रेस और भाजपा दोनों में ख़ास रहे.शिवराज के सबसे करीबियों में इनकी गिनती होती है. लेकिन इस बार इन्हें भी छोड़ दिया गया है. बताया जाता है कि कमलनाथ की सरकार गिराने में इनका भी हाथ रहा है. लेकिन इनका यह भी मामला सामने आया था कि ये दोनों तरफ आपना राजनीतिक गणित सेट कर रहे थे . लेकिन अब दोनों जगह से फेल हुए दिख रहे हैं.

शिवराज के दोनों ख़ास मंत्रिमंडल में अब नहीं है. मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार का आज मंत्रिमंडल विस्तार हुआ. मध्य प्रदेश की राज्यपाल (अतिरिक्त प्रभार) आनंदी बेन पटेल ने राजभवन में कुल 28 नए मंत्रियों को शपथ दिलाई. इसमें से 12 सिंधिया के समर्थक हैं. तो अब यही चर्चा चल रही है कि क्या यह मामा का मंत्रिमंडल है या सिंधिया का. सवाल खड़े हो रहे हैं. लेकिन जवाब एक ही है वो यह कि संजय पाठक और राजेंद्र शुक्ला को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...

YOUTH कांग्रेस कमेटी का विस्तार, आयुष भारद्वाज बने पहले संगठन महासचिव

युवा कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का किया गया विस्तार राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी की अनुमति से हुआ...

“जन सहायता दिवस” के रूप में मनाया गया राहुल गाँधी का जन्मदिन

राजस्थान के सभी 33 जिलों में रक्तदान शिविर एवं राशन किट वितरण कार्यक्रम 1500 यूनिट रक्त एकत्रित...