Home अंदर की बात महाभारत की द्रोपदी और कृष्ण को भी भाजपा ने बनाया सांसद, बड़ी...

महाभारत की द्रोपदी और कृष्ण को भी भाजपा ने बनाया सांसद, बड़ी रोचक है कहानी


लॉकडाउन (lockdown) में रामायण के बाद महाभारत (mahabharat) सीरियल की कहानी काफी चर्चा में है. इसी कड़ी में अब बात कर लेते हैं कुछ प्रमुख पत्रों की जो चर्चा में हैं. रामायण के हनुमान, सीता और रावण को भाजपा ने सांसद बनाया. जबकि ये सीरियल जब शुरू हुए तो उस दौरान ज्यादातर राज्यों में कांग्रेस की सरकार थीं. वर्ष 2 October 1988 से 24 June 1990 महाभारत सीरियल दूरदर्शन पर दिखाया गया था. मगर ‘रामायण’ (ramayan) और ‘महाभारत’ के प्रमुख पात्रों पर भाजपा की नजर रही. और कई सारे पात्रों को भाजपा ने सांसद बनाया. लेकिन आज बात होगी महाभारत (mahabharat) के प्रमुख पात्र कृष्ण और द्रोपदी की. क्योंकि, एक बार फिर से दूरदर्शन पर महाभारत आने वाला है. तो जानिए द्रोपदी कौन और कृष्ण की पूरी राजनीतिक कहानी.

एक्सक्लूसिव : रामायण के राम अरुण गोविल इसलिए नहीं बन पाए सांसद जबकि सीता, रावण और हनुमान बन गए थे सांसद

‘कृष्ण’ नितीश भारद्वाज जीते थे लोकसभा का चुनाव

झारखंड राज्य के जमशेदपुर जिले से ‘महाभारत’ के कृष्ण मतलब नितीश भारद्वाज ने वर्ष 1996 में भाजपा के टिकट पर चुनाव जीता था. उस समय नीतीश भारद्वाज की उम्र भी 34 साल थी। 11वीं लोकसभा में सांसद बने नीतीश भारद्वाज (nitish bhardvaj) 2 जून 1962 को हुआ और वे 1996 में पहली बार जनता दल के इंदर सिंह नामधारी को पराजित कर सांसद चुने गए। इंद्र सिंह नामधारी बड़े दिग्गज नेता रहे. नीतीश की राजनीतिक पारी बहुत लम्बी तो नहीं चली लेकिन चर्चा में बने रहे. इस समय नितीश फिर से चर्चा में आ गये हैं.

‘द्रोपदी’ को भाजपा ने बनाया राज्यसभा सदस्य

बीआर चोपड़ा कृत ‘महाभारत’ में द्रोपदी की भूमिका निभाने वाली रूपा गांगुली (roopa ganguli) काफी चर्चा में रही. वर्ष 1990 के बाद से रूपा गांगुली भले ही चर्चा में न रही हो लेकिन जब उन्हें भाजपा ने राज्यसभा के लिए नामित किया तो वो चर्चा में जरुर आ गई थी. रूपा गांगुली ने एक मैकेनिकल इंजीनियर, ध्रुब मुखर्जी, से 1992 में शादी की। शादी के 14 साल के बाद वे 2007 में अलग हो गये और बाद में औपचारिक रूप से जनवरी 2009 में उन्होंने तलाक ले लिया. आकाश नाम का उनका एक बेटा है। इन दिनों भाजपा में उनका कद बढ गया है.


POLL TALK DESKhttps://polltalk.in/
पोल टॉक और PollTalk.In के सम्पादक संतोष कुमार पांडेय देश के कई शहरों में पत्रकारिता कर चुके हैं। ये शहर जो कार्यस्थल बने वाराणसी , लखनऊ, आगरा, देहरादून, नोएडा, जयपुर, बिहार, हैदराबाद, पानीपत, सतना में रहे हैं। इन संस्थानों में दी सेवाएं राजस्थान पत्रिका , दैनिक भास्कर, एग्रो भास्कर, हिन्दुस्थान, जनसन्देश न्यूज़ चैनल, जनसन्देश टाइम्स, ईटीवी भारत में कई वरिष्ठ पदों पर कार्य किये. राजनीति की सही जानकारी और कुछ रोचक इन्टरव्यू दिखाना प्राथमिकता है।

Leave a Reply

Must Read

कांग्रेस ने अनेकों घोटाले कर भारत के हित और साख को गिराया : डॉ. सतीश पूनियां

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत को आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बना रहे, श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व...

गरीबों को न्याय दिलाने सड़क पर उतरे पुष्पेंद्र भारद्वाज, मंत्री से की मुलाकात

न्यू सांगानेर रोड को 200 फीट चौड़ा नहीं करने के लिए दिया ज्ञापन न्यू सांगानेर रोड व्यापार...

मणिपाल में मीडिया और जनसंचार में बनाएं अपना करियर

पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में कई नई स्वर्णिम संभावनाएं पैनडैमिक के दौरान विश्वस्तर पर हेल्थ कम्युनिकेशन...

मीडिया सच दिखाए, मगर डराए नहीं : प्रो. भानावत

एमजेआरपी यूनिवर्सिटी की मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभाव विषयक वेबिनार पोल टॉक नेटवर्क | जयपुर प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत ने कहा...

डिजिटल स्टैम्प से पकड़े जा रहे है अपराधी : प्रो त्रिवेणी सिंह

155260 पर ऑनलाइन फ्रॉड की तुरंत करें शिकायत अमित दुबे ने साइबर अपराध से बचने के बताएं...